Thursday, September 30, 2010

गर्भाशय ही प्यारा है !

                                                 भ्रूण ने जब अलसायी-सी
                                                 आँखें अपनी खोली ,
                                                 गर्भाशय की दीवारों पर
                                                 प्रश्नों के अनगिन पोस्टर देखे !

                                                 दुनिया भर में इंसानों से
                                                 इंसानों की  दूरी बढ़ती
                                                 पर्वत जैसे वर्तमान पर
                                                 नफ़रत की विष-बेल है चढ़ती !

                                                  भीतर भी है अन्धकार
                                                 बाहर भी अंधियारा है ,
                                                 भीतर लेकिन अन्धकार में
                                                 गर्भाशय की प्यार भरी गर्माहट है ,
                                                 बाहर रोटी के लिए
                                                 दबे पाँव पिछले दरवाजे
                                                आते लोगों की आहट है !
                       
                                               देखो बाहर सारी दुनिया
                                               भटक रही है
                                               अंधियारे में पता पूछते हुए सूर्य का ,
                                                कहाँ है सूरज ? कहाँ सवेरा ?
                                               उधर है सूरज ,इधर अन्धेरा !

                                               यहाँ सवालों की दुनिया में
                                              अंधियारा ही अंधियारा है ,
                                              इसीलिए तो भ्रूण को अपना
                                              गर्भाशय ही प्यारा है  !
                                                          
                                                                स्वराज्य करुण





                                                                      
                                         
                           

                    
                      

11 comments:

  1. अच्छी पंक्तिया लिखी है ........

    इसे पढ़े और अपने विचार दे :-
    क्यों बना रहे है नकली लोग समाज को फ्रोड ?.

    ReplyDelete
  2. यहाँ सवालों की दुनिया में
    अंधियारा ही अंधियारा है।

    बहुत गंभीर चिंतन कविता के रुप में।

    ReplyDelete
  3. सवाल तो गर्भाशय में भी थे पर अंधेरे की वज़ह से भ्रूण नें उन्हें देखा ही नहीं होगा ! उसे बाहर के उजियालों के साथ वाले अन्धेरे से भय क्यों हुआ ? ये भय उजियालों से था कि अंधेरों से ? या कि उनके गडमड हो जाने से ?

    प्रकृति के वाक्यविन्यास में 'अल्पविराम' की जगह 'पूर्णविराम' लगाने की बात भ्रूण के मन में आई भी तो कैसे ? आगे के शब्द खुरदरे ही सही पर उन्हें पढ़ना होगा !

    कविता में प्रकटित प्रेम प्रकृति की भाषा / बिम्बों और व्याकरण के विरुद्ध सा लगता है !

    ReplyDelete
  4. भीतर भी है अन्धकार
    बाहर भी अंधियारा है ,
    भीतर लेकिन अन्धकार में
    गर्भाशय की प्यार भरी गर्माहट है

    बहुत गहन चिंतन है इस रचना में ...

    ReplyDelete
  5. ००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००.कविता,मार्मिक, विचारोत्तेजक। बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
    बदलते परिवेश में अनुवादकों की भूमिका, मनोज कुमार,की प्रस्तुति राजभाषा हिन्दी पर, पधारें

    ReplyDelete
  6. आप सब की आत्मीय टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत. त्वरित प्रतिक्रिया के लिए आभार.

    ReplyDelete
  7. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 5-10 - 2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  8. बाऊ जी,
    विलक्षण सोच!
    आशीष
    --
    प्रायश्चित

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर और सारगर्भित प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  10. http://charchamanch.blogspot.com/2010/10/19-297.html

    यहाँ भी आयें .

    ReplyDelete
  11. गंभीर चिंतन - उम्दा रचना.

    ReplyDelete