Tuesday 21 September 2010

शब्दों की ज़मीन पर जिंदगी के दो चित्र !


    

    
                           (१)

                  आंसुओं की खामोशी में , कोलाहल के बीच जिंदगी ,
                  उगा रही है फसल दर्द  की ,खून-पसीना सींच ज़िंदगी !

                  जानवरों की तरह उम्र की गाड़ी में हम फंदे हुए हैं,
                  पर्वत लदे हुए हैं इस पर ,भार उमर भर खींच जिंदगी !

                 पत्थर  ढोते हुए पहाड़ों पर से देखो चला काफिला
                 गुजर रही है धीरे-धीरे कभी ऊंच और नीच जिंदगी !

                 कौन सुनेगा तेरी पीड़ा ,अपने में मशगूल यहाँ सब
                 होठों पर रख ले तू उंगली ,मत ज़ोरों से चीख जिंदगी !

                छीन ले जा कर उन हाथों से , कैद हैं जिनमे तेरे सपने ,
                किन्तु समय के इस शहर में मांग कभी मत भीख जिंदगी !


               (२) 
  
                 उलझनों का फैला आकाश जिंदगी, 
                 बन गयी है एक ज़िंदा लाश जिंदगी !

                निराशा के जंगल  में चीख रहा सन्नाटा,
                सो रही है सपनों के पास जिंदगी  !

                दूर कहीं उम्र के जल रहे हैं गाँव , 
                कैसे बचाएं हम आवास जिंदगी  !

                दौडती  ज्यों बेतहाशा चाहतों की हिरणी, 
                मरीचिकाओं में है कैद प्यास ज़िंदगी !

                पतझर के आकाश का मैं  हूँ सितारा ,
                मेरे नसीब में कहाँ मधुमास जिंदगी !
  
               खुद को पहचानना भी मुश्किल है बहुत ,
               आईने में सूरत की तलाश ज़िंदगी !
                
                                स्वराज्य करुण

9 comments:

  1. दोनों ही शब्दचित्र बहुत सुन्दर है .....ज़िन्दगी जैसी अनबूझ पहेली को कितनी परिभाषाएँ दी है ....सभी भड़िया है
    सादर

    ReplyDelete
  2. वाह भाई साहब
    कौन सुनता है मेरी इन रिन्दों की महफ़िल में
    यहाँ तो तरसती है बोलने को जुबान मेरी......

    सुन्दर गजल है मीटर में फिट और शानदार हिट

    ReplyDelete
  3. बहुत-बहुत आभार.

    ReplyDelete
  4. aapki kavita ki tareef me mere paas shabd nahi hai. behad yatharth aur sundar chitran jindagi ka.

    ReplyDelete
  5. ज़िन्दगी पर शब्दों की ऐसी बुनावट कम ही देखनें को मिलती है ! सुन्दर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  6. आप सबकी आत्मीय टिप्पणियों के लिए ह्रदय से आभारी हूँ .

    ReplyDelete