Thursday 2 September 2010

सब कुछ है अपना

                 आँगन भी अपने हैं , घर भी हैं अपने ,
                  ये गाँव अपने हैं , शहर भी हैं अपने .

                   उत्तर से दक्षिण , पूरब से पश्चिम
                  ये पाँव अपने हैं , सफ़र भी हैं अपने .

                 ये देश अपना है , ये अपनी  धरती ,
                हिमालय भी अपना, सागर भी हैं अपने
.
                झीलों में नीली परछाई आसमान की
               ये बांध ,नदी और नहर भी हैं अपने
.
                देश की बगिया को  आओ हम सँवारे
                ये फूल और ये  भ्रमर भी हैं अपने
.
                मेहनत   से सीचेंगे सपनों के खेतो को
               जागरण के सारे प्रहर भी हैं अपने .
                                             
                                          स्वराज्य करुण


                                                                          

3 comments:

  1. ये गली कूचे बूत भी हैं अपने
    ये प्रेमील शहतूत भी हैं अपने
    क्युं घुलती फ़िजा में बारुदी गंध
    ये बाग औ चमन भी हैं अपने

    बस युं ही चार लाईन आपको
    समर्पित करने का मन हो गया।

    आभार

    ReplyDelete
  2. अपनेपन का विस्तार अच्छा लगता है !

    ReplyDelete
  3. behad sundar kavita, behad sundar soch

    ReplyDelete