Monday 28 February 2011

(ग़ज़ल ) मुज़रिमों की अदालत में !

                                                                                 स्वराज्य करुण

                                               दिन के उजाले की तरह  साफ़-साफ़ है,
                                               सारे सबूत आज  उनके ही   खिलाफ हैं  !


                                               है  कौन यहाँ कातिल  और कौन लुटेरा ,
                                              जान कर भी  उनके सब  गुनाह माफ हैं !


                                              चोरों को मिली चाबी हुकूमत-ए-वतन की ,
                                              मुजरिमों की  अदालत में कहाँ  इन्साफ है !


                                               रिश्वत की कमाई से है लॉकर भी  लबालब ,
                                               पकड़े गए तो आपस में हुआ हाफ-हाफ है !


                                               खेतों में चला बुलडोज़र ,जंगल  में तबाही ,
                                               विकास के नाम कितना घनघोर  पाप है !


                                                गाँवों की ओर चल पड़े शहरों से  माफिया ,  
                                                मासूम  किसानों पर  किसका अभिशाप है   !    
                                             
                                                                                                     -   स्वराज्य करुण                     

17 comments:

  1. @रिश्वत की कमाई से हैं लॉकर भी लबालब ,
    पकड़े गए तो आपस में हुआ हाफ-हाफ है !

    हिन्दी चीनी भाई भाई

    ReplyDelete
  2. रिश्वत की कमाई से हैं लॉकर भी लबालब ,
    पकड़े गए तो आपस में हुआ हाफ-हाफ है !
    सही बात है। बहुत खूब्!

    ReplyDelete
  3. अच्छा व्यंग है ..खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  4. वाह क्या बात है!!!! अच्छा व्यंग है

    ReplyDelete
  5. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 01-03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब, शानदार। करारा व्यंग्य.

    ReplyDelete
  7. दिन के उजाले की तरह साफ़-साफ़ है,
    सारे सबूत आज उनके ही खिलाफ हैं !

    acchi rachna hai aabhaar aur badhaai


    sir ji
    maine meri photography ka ek alag blog banaya hai plz join kariye aur guide line kariye

    address hai
    http://ajmani61181-capturedphoto.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. mukhar prabhavkari rachna . achha sandesh .man ko
    udvelit karta hua . aabhar .

    ReplyDelete
  9. वाह

    आज कल के हालात का सुन्दर लेखा जोखा है आपकी इस गजल में.

    ReplyDelete
  10. खेतों में चला बुलडोज़र ,जंगल में तबाही ,
    विकास के नाम कितना घनघोर पाप है !


    गाँवों की ओर चल पड़े शहरों से माफिया ,
    मासूम किसानों पर किसका अभिशाप है !


    दिल का दर्द उजागर करती बेहद प्रभावशाली रचना।

    ReplyDelete
  11. गाँवों की ओर चल पड़े शहरों से माफिया ,
    मासूम किसानों पर किसका अभिशाप है! ..........

    अंतस को झकझोरती हुई रचना...

    ReplyDelete
  12. रिश्वत की कमाई से है लॉकर भी लबालब ,
    पकड़े गए तो आपस में हुआ हाफ-हाफ है !

    ये हाफ-हाफ का प्रयोग बहुत अच्छा और मज़ेदार है.

    ReplyDelete
  13. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल की तासीर ... हर शेर उम्दा है .. सार्थक रचना के लिए बधाई स्वीकारें ...

    ReplyDelete
  14. बदलते समय की तस्वीर

    ReplyDelete
  15. है कौन यहाँ कातिल और कौन लुटेरा ,
    जान कर भी उनके सब गुनाह माफ हैं !

    gazab ki gazal kahi, puri vyavastha par karari chot ki he

    sadhubaad sahib

    ReplyDelete
  16. है कौन यहाँ कातिल और कौन लुटेरा ,
    जान कर भी उनके सब गुनाह माफ हैं !

    bahut karari chhot vyavastha par
    sundar gazal

    sadhubaad

    ReplyDelete