Friday, February 4, 2011

(गीत) फूलों की चाहत के बदले !

                                                   -  स्वराज्य करुण 

जब-जब आग लगी धरती पर, आसमान को रोना आया ,
बेमतलब की बातों में उलझे जग वालों को सोना आया !

जिसको जितनी हुई ज़रूरत लूटा दोनों हाथों से ,
माटी के सम्मान को बेचा चिकनी -चुपड़ी बातों से !

ज़ख्मों  पर शीतल हाथ फिराना  भूल गया है चंदन-वन
हरे  -सलोने खेतों में उसको  विष का पौधा बोना आया. !

फ़ैल रहा शहरी दावानल ,  अब गाँव जल रहे ,
मरुथल के इस महा सफर में  पाँव जल रहे !

अपनी -अपनी आँखों में कपड़े बाँध यहाँ  सब दौड़ रहे
कुछ ने सीखा छीन के पाना , बहुतों को सब खोना आया !

   सदियाँ  बंधक ,नदियाँ बंधक  ,गिरवी पंछी-पर्वत ,
समय भी गहरी नींद में , जाने कब लेगा यह करवट !

किसी चमन में चहक नहीं ,  कहीं प्यार की महक नहीं 
                                     फूलों की  चाहत के बदले ,काँटों का बिछौना आया !                                                                                                                                स्वराज्य करुण  

13 comments:

  1. सदियाँ बंधक ,नदियाँ बंधक ,गिरवी पंछी-पर्वत ,
    समय भी गहरी नींद में , जाने कब लेगा यह करवट !
    vaah laajavaab| badhaaI.

    ReplyDelete
  2. अपनी -अपनी आँखों में कपड़े बाँध यहाँ सब दौड़ रहे
    कुछ ने सीखा छीन के पाना , बहुतों को सब खोना आया !
    बेहद खुबसुरत। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. किसी चमन में चहक नहीं, कहीं प्यार की महक नहीं
    फूलों की चाहत के बदले ,काँटों का बिछौना आया !

    वाह, यथार्थ का अच्छा चित्रण।

    ReplyDelete
  4. कहां छुपे हैं, दुनिया के कायम रहने के ताने-बाने.

    ReplyDelete
  5. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार ०५.०२.२०११ को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  6. umda rachana...........bahut sundar

    ReplyDelete
  7. सदियाँ बंधक ,नदियाँ बंधक ,गिरवी पंछी-पर्वत ,
    समय भी गहरी नींद में , जाने कब लेगा यह करवट


    बहुत खूब !

    ReplyDelete
  8. uncle ji dil ko chune wali rachna hai aaj raat ke 12.15 baje padh raha hoon dil khush ho gaya
    किसी चमन में चहक नहीं ,कहीं प्यार की महक नहीं
    फूलों की चाहत के बदले ,काँटों का बिछौना आया !

    bhai wah wah wah wah

    ReplyDelete
  9. फ़ैल रहा शहरी दावानल , अब गाँव जल रहे
    bahut sunder chitr kheench dali.

    ReplyDelete
  10. अपनी -अपनी आँखों में कपड़े बाँध यहाँ सब दौड़ रहे
    कुछ ने सीखा छीन के पाना , बहुतों को सब खोना आया !
    सदियाँ बंधक ,नदियाँ बंधक ,गिरवी पंछी-पर्वत ,
    समय भी गहरी नींद में , जाने कब लेगा यह करवट !.......

    जीवन से जुड़ी भावपूर्ण ग़ज़ल के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  11. यथार्थ को कहती अच्छी रचना

    ReplyDelete
  12. ज़ख्मों पर शीतल हाथ फिराना भूल गया है चंदन-वन
    हरे -सलोने खेतों में उसको विष का पौधा बोना आया. !


    लाजवाब, सुन्दर लेखनी को आभार...

    ReplyDelete
  13. अपनी -अपनी आँखों में कपड़े बाँध यहाँ सब दौड़ रहे
    कुछ ने सीखा छीन के पाना , बहुतों को सब खोना आया !
    सदियाँ बंधक , नदियाँ बंधक , गिरवी पंछी-पर्वत ,
    समय भी गहरी नींद में , जाने कब लेगा यह करवट !.......

    वास्तिक जीवन को खूबसूरती से उजागर करती रचना !

    ReplyDelete