Saturday 27 November 2010

(गज़ल) मुन्नी को बदनाम करेगी !

                                       .                                                            स्वराज्य करुण
                                                मुन्ना राजा कर लें चाहे जितनी धींगा मस्ती 
                                               कुछ भी नहीं कहेगी उनको मतवालों की बस्ती !
                             
                                                मुन्नी को बदनाम करेगी बदनामों की महफ़िल ,
                                                बेख़ौफ़ करेंगे मुन्ना राजा खुलकर  मटरगश्ती  !
 
                                                दुनिया के बाज़ार सजी है रंग-बिरंगी दुनिया   
                                                हवा भी महंगी ,दवा भी महंगी, दारू लेकिन  सस्ती  !

                                                बेदिल  का बेजान तमाशा देख भले  दिल रोए ,
                                                लेकिन बेदिल वालों की दिल्ली बेरहमी से हँसती !
                                   
                                                नदी समय की सदियों से यहाँ इसी तरह से बहती ,
                                                जिसकी लहरों में सपनों की हर पल डूबे कश्ती !

                                                चाहे जितनी  कर लो कोशिश, वह बाहर न आएगी ,
                                                धन-दौलत के दलदल में जो गहरे-गहरे धंसती !
                                                                                                             -   स्वराज्य करुण                                

8 comments:

  1. दुनिया के बाज़ार सजी है रंग-बिरंगी दुनिया
    हवा भी महंगी ,दवा भी महंगी, दारू लेकिन सस्ती !
    इस ग़ज़ल के हर शे’र कुछ न कुछ संदेश दे रहे हैं। इतना फ़्लो है कि तीन चार बार गाते-गाते पढ गया या पढते-पढते गाने लगा, पता ही नहीं चला। बहुत उम्दा।
    मनोज .... फ़ुरसत में ..
    राजभाषा हिन्दी-पुस्तक चर्चा – हिंद स्वराज

    ReplyDelete
  2. दुनिया के बाज़ार सजी है रंग-बिरंगी दुनिया

    हवा भी महंगी ,दवा भी महंगी, दारू लेकिन सस्ती

    वाह क्या बात है

    ReplyDelete
  3. नदी समय की सदियों से यहाँ इसी तरह से बहती ,
    जिसकी लहरों में सपनों की हर पल डूबे कश्ती !

    गहन भावों की खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  4. सघन सामाजिक सरोकार.

    ReplyDelete
  5. सुन्दर कविता. पर चीजें ऐसी ही रहती हैं. Things are as such. It is so,it cannot be otherwise. कुछ बातें जो मैंने कहीं पढ़ी थी,और मुझे अच्छी लगती हैं,ध्यान आ रही हैं.पहली बात-ये दुनिया कुत्ते की पूंछ की तरह है, कभी सीधी नहीं ह़ो सकती. राम आये,कृष्ण आये,बुद्ध आय,जीसस आये,मुहम्मद आये,और चले भी गए. पर दुनिया लगभग लगभग वैसी ही है, जैसे पहली थी. शायद पहले से कम टेढ़ी ह़ो, ज्यादा टेढ़ी ह़ो, पर टेढ़ापन तो दुनिया का स्वभाव है, जिसे हमें जानकार ख़ुशी- ख़ुशी स्वीकार करना चाहिए. दूसरी बात- आप पूरी दुनिया को अपने पूरे जीवनकाल में भी चमड़े से मढ़ नहीं सकते, पर एक मिनट में जूता पहन सकते हैं. दुनिया को बदलना संभव नहीं, और मेरे ख्याल से कोई बहुत अच्छी बात भी नहीं, खुद में बदलाव लाना ज्यादा आसान है. और आसान काम किये जाने चाहिए.हम सुखी रहेंगे, तो शायद एक दुखी व्यक्ति कम होगा, और उसी अनुपात में शायद समष्टि का दुःख भी कम ह़ो जाए और हमारी ख़ुशी देखकर शायद, हाँ शायद, कुछ और लोग भी खुश ह़ो जाएँ. तीसरी बात- स्वयं के विकास और सभी की तरक्की के लिए भी, ये जरुरी है की हम अपनी सीमित उर्जा को जरुरी बातों में लगायें, गैर जरुरी में नहीं. बड़े देश, बड़े लोग, ऐसे ही तरक्की करते हैं क्यूंकि वो अपना ध्यान जरुरी बातों में लगाते हैं और छोटे देश और छोटे लोगों को गैर जरूरी बातों में उलझा देते हैं. बस तरक्की रुक गयी. भारत पाकिस्तान लड़ते रहें, बेकार की बातों में, और बाकी देश तरक्की करते जाएँ ...चौथी बात- Be the centre of the cyclone. चक्रवात के केंद्र में,शांति से रहें,खुद को अप्रभावित रखें. अंतिम बात, जो शायद कड़ी लगे- POWER IS NEUTRAL. शक्तिमेव जयते. सत्य विजयी होगा,शक्ति होगी तो, असत्य विजयी होगा, शक्ति होगी तो. It is so. It cannot be otherwise. -सादर , बालमुकुन्द

    ReplyDelete
  6. दुनिया के बाज़ार सजी है रंग-बिरंगी दुनिया
    हवा भी महंगी ,दवा भी महंगी, दारू लेकिन सस्ती !

    बिलकुल सम्यक ..बहुत सुन्दरता से पेश किया है ...शुक्रिया
    चलते- चलते पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  7. bahut badiya karun ji vakai sab dhaste ja rahe hai dhan dolat ke dal dal mai

    ReplyDelete
  8. नदी समय की सदियों से यहाँ इसी तरह से बहती ,
    जिसकी लहरों में सपनों की हर पल डूबे कश्ती !..

    ---

    Quite realistic !

    .

    ReplyDelete