Saturday 19 March 2011

(गीत) कहाँ मिलेंगे ?

                                                                              -  स्वराज्य करुण

                                         कहाँ मिलेंगे फागुन की अमराई वाले गाँव
                                         कहाँ मिलेंगे प्यार भरी शहनाई वाले गाँव !

                                                     दलबन्दी में उलझे इतना ,
                                                     चौपालों को भूल गए ,
                                                     झील ,पहाड़ जंगल भूले ,
                                                      नदी-नालों को भूल गए !
                                              
                                         कहाँ मिलेंगे बरगद की  परछाई  वाले गाँव  ,    
                                         कहाँ मिलेंगे फागुन की अमराई वाले गाँव !

                                                    रिश्ते-नाते भूल रही है 
                                                    नए दौर की पीढियां ,
                                                   सिर्फ मतलब की है अब  
                                                   दुआ-सलाम की सीढियां !

                                         कहाँ मिलेंगे खुले दिलों की गहराई वाले गाँव ,
                                         कहाँ मिलेंगे फागुन की अमराई वाले गाँव !

                                                 खेतों में श्रम-गीत नहीं 
                                                 होठों पर मुस्कान कहाँ , 
                                                 सब कुछ यंत्रों  के हवाले ,
                                                 वो आबाद खलिहान कहाँ !

                                      अब तो केवल और केवल तन्हाई वाले गाँव ,
                                       कहाँ मिलेंगे फागुन की अमराई वाले गाँव !

                                                पास-दूर के शहरों का 
                                                मायावी  आकर्षण है ,
                                                मृग-तृष्णा के पीछे पागल ,   
                                                सब में यह सम्मोहन है   !

                                     कहाँ मिलेंगे तालाबों की तरुणाई वाले गाँव ,   
                                      कहाँ मिलेंगे फागुन की अमराई वाले गाँव !
                                               
                                                 दवा नहीं बीमार के लिए
                                                 बहती दारू की नदियाँ ,
                                                  जाने क्या कहेंगी हमको
                                                  आने वाली कई सदियाँ !

                                   माटी के आँगन से गायब धरती माँ  के पाँव , 
                                   कहाँ मिलेंगे फागुन की अमराई वाले गाँव !

                                                                                 - स्वराज्य करुण    




4 comments:

  1. हम तो रास्‍ता भी भूल गए.

    ReplyDelete
  2. जरुर मिलेगें जी शासकीय फ़ाईलों में।

    होली की हार्दि्क शुभकामनाएं एवं बधाई।

    ReplyDelete
  3. रंगों की चलाई है हमने पिचकारी
    रहे ने कोई झोली खाली
    हमने हर झोली रंगने की
    आज है कसम खाली

    होली की रंग भरी शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  4. नेह और अपनेपन के
    इंद्रधनुषी रंगों से सजी होली
    उमंग और उल्लास का गुलाल
    हमारे जीवनों मे उंडेल दे.

    आप को सपरिवार होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete