Tuesday 15 March 2011

(ग़ज़ल ) वो अपना ही कातिल है !

                                                                                           
                                                                                         -  स्वराज्य करुण
                                   
                                       धरती  से आकाश  तक सितारों की महफ़िल है.,
                                       पहचानो ज़रा कितनों के पास उनमे  दिल है !

                                       यूं तो  कई  रंगीन यहाँ फूलों से हसीन  चेहरे ,     
                                       देखो भला किस पर नन्हा  सा काला तिल है !
                                  
                                        दुनिया  की  मंडी में  रोज  रिश्तों का ही सौदा ,
                                        लुटेरों के  बाज़ार में कहो  किसे क्या हासिल है !

                                       आख़िरी सफर में साथ जाने से  वो कतरा गए ,
                                       गैरों की खुशियों के लिए बारात में जो शामिल हैं !

                                        वक्त पे इंसान के जो  काम कुछ  आया न कभी ,
                                       समझो  उस  इंसान  को  कितना  वो  बुजदिल  है !
                                    
                                        मौक़ा जब मिला  उसने पीठ पर ही  वार किया
                                        हमने माना दोस्त नहीं वो अपना ही  कातिल है !

                                        दुश्मनों से   हमने की जान-बूझ कर  दोस्ती ,
                                       शायद उनमे भी कोई  इंसानियत के काबिल है ! 

                                                                                                -  स्वराज्य करुण 

7 comments:

  1. @मौक़ा जब मिला उसने पीठ पर ही वार किया
    हमने माना दोस्त नहीं वो अपना ही कातिल है !

    ऐसे दोस्त मि्ल जाएं तो दुश्मन की क्या जरुरत है।

    ReplyDelete
  2. बहुत उम्दा नज़म !

    ReplyDelete
  3. बहुत खूबसूरत आज की दुनिया का चेहरा दिखाते अशआर बधाई।

    ReplyDelete
  4. खूबसूरत गज़ल ...बहुत कुछ कह दिया ...दोस्तों क आजमाते जाइये दुश्मनों से प्यार हो जायेगा

    ReplyDelete
  5. 'दुश्मनों से हमने की जान-बूझकर दोस्ती '
    शायद उनमें भी कोई ,इंसानियत के काबिल है '

    बेहतरीन शेर......उम्दा ग़ज़ल

    ReplyDelete
  6. दुश्मनों से हमने की जान-बूझ कर दोस्ती ,
    शायद उनमे भी कोई इंसानियत के काबिल है !

    उम्दा ग़ज़ल!

    ReplyDelete
  7. यूं तो सब अच्छा है पर अपना वोट ...


    वक्त पे इंसान के जो काम कुछ आया न कभी ,
    समझो उस इंसान को कितना वो बुजदिल है !

    मौक़ा जब मिला उसने पीठ पर ही वार किया
    हमने माना दोस्त नहीं वो अपना ही कातिल है !

    ReplyDelete