Thursday 10 March 2011

( ग़ज़ल) चक्रव्यूह में अभिमन्यु

                                                                                         स्वराज्य करुण

                                         सच्चे दिल का  जहां हमेशा होता है अपमान ,
                                         नकली चेहरों का हर पल  होता है जयगान !

                                         नहीं मिलेगा कहीं वहाँ  ईमान -धरम का सूबा
                                         दुनिया में हर देश की है आज यही पहचान !

                                         लूट रहे हैं  बेरहमी  से  वह   जनता की दौलत ,
                                         भरी सभा में बेशर्मी से   बरसाएं जो  मुस्कान !

                                        राजाओं  ने  मंत्री बन कर लूट लिया भारत को
                                        कोस रहे हैं किस्मत अपनी  मेहनतकश किसान !

                                         प्रजातंत्र के मन्त्र -जाप से  जो कोई बनता राजा  ,
                                         प्रजा की छाती पे चढ कर वह दिखलाता है शान !

                                         नेता ने भी , अफसर ने भी लूटी देश की इज्जत  ,    
                                         फिर भी  उनका नहीं कम हुआ  थोड़ा भी सम्मान !

                                         काले धन की काली कमाई से हैं  महल-अटारी ,
                                         धन-पशुओं की लीला से  अब जनता भी हैरान !

                                         हैवानों से  महाभारत में  शहीद हो गयी मानवता ,
                                         चक्रव्यूह में बन कर अभिमन्यु  जूझ रहा इंसान   !                           
                                        
                                                                                                      स्वराज्य करुण
                                     

7 comments:

  1. गजल के एक एक शेर अपनी बाद अलहदा कहते हैं।
    सुंदर गजल के लिए आभार भाई साहब

    ReplyDelete
  2. Nice poem on the present state of affairs.

    ReplyDelete
  3. आपकी नजर में कोई अलग सा चेहरा आए तो कृपया सूचित कीजिएगा.

    ReplyDelete
  4. हैवानों से महाभारत में शहीद हो गयी मानवता
    चक्रव्यूह में बन कर अभिमन्यु जूझ रहा इंसान !

    यथार्थ का बेबाक चित्रण।
    अच्छी रचना।

    ReplyDelete
  5. bouth he aache shabad hai aapke is post mein... read kar ke aacha lagaa ji
    visit my blog plz
    Download free music
    Lyrics mantra

    ReplyDelete
  6. हैवानों से महाभारत में शहीद हो गयी मानवता ,
    चक्रव्यूह में बन कर अभिमन्यु जूझ रहा इंसान ! bahut achchhi line hai ,badhyiya

    ReplyDelete
  7. हैवानों से महाभारत में शहीद हो गयी मानवता ,
    चक्रव्यूह में बन कर अभिमन्यु जूझ रहा इंसान ...

    बहुत सटीक प्रस्तुति..सुन्दर रचना

    ReplyDelete