Saturday 5 March 2011

(ग़ज़ल ) पत्थर दिल वालों की महफ़िल

                                                                                             स्वराज्य करुण 
                                         दिल पत्थर का , घर पत्थर के , ये पत्थर की बस्ती है ,
                                         धन-दौलत के दानव हैं जहां , मानव की क्या हस्ती है !
               
                                  
                                         लूट सके जो  इस दुनिया को खतरनाक इरादों से ,
                                         सिर्फ उसी के मोह जाल में भोली दुनिया फँसती है !

                                     
                                         पंछी-पर्वत ,नदिया -पनघट ,हर कोई है दहशत में
                                         हरियाली के हत्यारों की हर पल धींगा -मस्ती है  !

                                     
                                        इंसानों का वेश बना कर घूम रहे कातिल सौदागर   ,
                                        बेच रहे जो जीवन महंगा , मौत भले ही सस्ती है !
                             
                                
                                        पत्थर दिल वालों की महफ़िल में अपनी औकात कहाँ   ,
                                        हमें  देख कर जिनकी आँखें नफरत  से खूब हँसती हैं  !

                                 
                                        जाने  कब बदलेंगे  सपने, सचमुच  यहाँ हकीकत में
                                        तारीखों पर तारीख देती  अदालतों  की बेदिल नस्ती है !

                                                                                                  - स्वराज्य करुण 

6 comments:

  1. sach ka bakhan karti kawita
    wish ka paan karti kawita
    bahre kue kaano me
    krandan gaan karti kawita

    ReplyDelete
  2. धान के खेतों में उगा रहे हैं पत्थर
    पेट भरने को इन्ही की जरुरत है.

    ReplyDelete
  3. दिल पत्थर का , घर पत्थर के , ये पत्थर की बस्ती है ,
    धन-दौलत के दानव हैं जहां , मानव की क्या हस्ती है !

    बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  4. पंछी-पर्वत ,नदिया-पनघट ,हर कोई है दहशत में
    हरियाली के हत्यारों की हर पल धींगा-मस्ती है !

    आजकल के हालात का अच्छा चित्रण।
    सभी शेर मन पर अपना प्रभाव छोड़ने में सक्षम हैं।

    ReplyDelete
  5. पत्थर दिल वालों की महफ़िल में अपनी औकात कहाँ ,
    हमें देख कर जिनकी आँखें नफरत से खूब हँसती हैं !bahut khub

    ReplyDelete