Sunday, February 27, 2011

(ग़ज़ल ) रूपयों के भगवान !

                                                                                      स्वराज्य करुण
                                                   
                                                     तरन्नुम के तराने   क्यों बेजान हो गये
                                                    जान कर भी जान-ए-मन नादान हो गये !
                                           
                                                  
                                                    बातें तो बहुत करते  हैं  ईमान -धरम की
                                                    फिर भी न जाने क्यों वो बेईमान हो गये !
                                             
                                                    
                                                     समझ  नहीं आयी आज तक ये पहेली ,
                                                     इंसान बनते -बनते क्यों हैवान हो गये !
                                                      
                                                    
                                                    यहाँ  भीड़ मुखौटों की , हर कोई अकेला   
                                                    सैलाब में शहर के, सब  अनजान हो गये !

                                                    
                                                     खो गयी हर  दिशा , दिशाओं की भीड़ में ,
                                                     लक्ष्य  बहुत  दूर   आसमान हो गये !

                                                    
                                                      कल तक जो  यार थे, करते हमें प्यार थे ,
                                                      भूली -बिसरी यादों की  पहचान हो गये !

                                                  
                                                      अपनों को  अपनेपन से भी  नहीं मतलब     ,
                                                      सबके सब रूपयों के भगवान हो गये ! 

                  
                                                       हवेली में है मंदिर ,यहाँ झोपड़ी में पुजारी
                                                       क्या कहें   दो लफ्ज़ भी वीरान हो गये !


                                                                                           -   स्वराज्य करुण

10 comments:

  1. @हवेली में है मंदिर ,यहाँ झोपड़ी में पुजारी
    क्या कहें दो लफ्ज़ भी वीरान हो गये !
    बहुत सुंदर गजल है, हरेक शेर वजनदार है।

    आभार

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर गजल है, हरेक शेर वजनदार है। धन्यवाद|

    ReplyDelete
  3. कल तक जो यार थे, करते हमें प्यार थे ,
    भूली-बिसरी यादों की पहचान हो गये !

    प्यार, इंसानियत जैसी बातें अब सचमुच बिसरती जा रही हैं।
    आज की परिस्थिति का अच्छा चित्रण है इस ग़ज़ल में।

    ReplyDelete
  4. यहाँ भीड़ मुखौटों की , हर कोई अकेला
    सैलाब में शहर के, सब अनजान हो गये !

    कितना सटीक कहा है……………आज के हालात का सटीक चित्रण किया है।

    ReplyDelete
  5. सबके सब रूपयों के भगवान हो गये !---सच ही कलयुग है, करुण जी....शानदार गज़ल...

    ReplyDelete
  6. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (28-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. मन मंदिर में विराजे राम.

    ReplyDelete
  8. अपनों को अपनेपन से भी नहीं मतलब ,
    सबके सब रूपयों के भगवान हो गये !


    हवेली में है मंदिर ,यहाँ झोपड़ी में पुजारी
    क्या कहें दो लफ्ज़ भी वीरान हो गये !.....

    यथार्थपरक बेहतरीन ग़ज़ल...हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  9. यहाँ भीड़ मुखौटों की , हर कोई अकेला
    सैलाब में शहर के, सब अनजान हो गये !
    ...

    बहुत ख़ूबसूरत गज़ल..हरेक शेर बहुत उम्दा..

    ReplyDelete
  10. हवेली में है मंदिर ,यहाँ झोपड़ी में पुजारी
    क्या कहें दो लफ्ज़ भी वीरान हो गये !

    बहुत खूब कहा है आपने ...।

    ReplyDelete