Wednesday 23 February 2011

(ग़ज़ल ) खामोश हैं ज़ज्बात !

                                                                                                स्वराज्य करुण

                                                इन दरख्तों में परिंदों के   कदम नहीं है
                                                पांवों में हवाओं के  छम-छम नहीं है !
                          
                                               न जाने कब से बंद है भौंरों का गीत गाना,
                                               खामोश हैं ज़ज्बात  कोई सरगम नहीं है !
                                              
                                               संग्राम में सच के लिए  वो हो गया घायल ,
                                               मन का दर्द मिटाए  कोई  मरहम नहीं है ,
                            
                                               पतझर के झरे पत्ते कह रहे हैं चीख कर
                                               मधुवन में  मधुमास का मौसम नहीं है !
                                       
                                               है कौन कहो मुजरिम  इस मंज़र के वास्ते ,
                                                कह देंगे सभी शान से कि हम नहीं है  !
                                                
                                                सियासत के बाज़ार में क्या खूब तमाशा ,
                                                ग्राहक भी यहाँ किसी से कोई कम नहीं हैं !

                                                लुट जाए अगर  सामने   वतन की आबरू
                                                फिर भी किसी को आज कोई गम नहीं है !
                                             
                                                बताओ ज़रा  आज  हमें  ऐसी कोई दुनिया
                                                इंसान पर जहां  ज़ुल्म-ओ -सितम नहीं है !
                                                
                                                 सब देख के भी जाने क्यों रोता नहीं है दिल ,
                                                 क्यों तेरी-मेरी आँखें   भी  पुरनम नहीं   हैं !

                                                 इतिहास वक्त का यहाँ  लिखे भी  कहो कौन ,
                                                अब  किसी की लेखनी में कोई दम नहीं  है. !
                                             
                                                                                                       स्वराज्य करुण
                                                                               

6 comments:

  1. सियासत के बाज़ार में क्या खूब तमाशा ,
    ग्राहक भी यहाँ किसी से कोई कम नहीं हैं !

    लुट जाए अगर सामने वतन की आबरू
    फिर भी किसी को आज कोई गम नहीं है !


    इस बेहतरीन रचना के लिए बधाई ।

    ReplyDelete
  2. 'दम' न होना दिलासा है या चुनौती. बहरहाल, तीन एकदम अलग मूड एक साथ हैं, जिसमें शुरुआत वाला बेहतरीन है.

    ReplyDelete
  3. फिर भी किसी को आज कोई गम नहीं है !सच ही है...मगर क्या देश उनका नहीं है?

    ReplyDelete
  4. है कौन कहो मुजरिम इस मंज़र के वास्ते ,
    कह देंगे सभी शान से कि हम नहीं है !

    सियासत के बाज़ार में क्या खूब तमाशा ,
    ग्राहक भी यहाँ किसी से कोई कम नहीं हैं !
    आज के हालत को खूबसूरती से ब्याँ किया है आखिरी शेर भी दिल को छू गया। बधाई सुन्दर गज़ल के लिये।

    ReplyDelete
  5. भाई साहब,
    शेर बब्बर शेर होते जा रहे हैं।
    कलम की धार भी तेज है।

    सुंदर गजल के लिए आभार

    ReplyDelete