Monday 21 February 2011

(कविता ) दिन भर :जिंदगी भर

                                                                         
                                                                                                              स्वराज्य करुण
                                                 दिन भर तोड़ते रहे पत्थर
                                                 जिंदगी भर तोड़ते रहे पहाड़ !
                                                 फिर भी न बन सकी राह ,
                                                 फिर भी न आ सकी बहार !

                                                 दिन भर बहाते रहे पसीना ,
                                                 जिंदगी भर पीते रहे आँसू ,
                                                 फिर भी न आ सकी रौशनी -
                                                 तंग और अँधेरे सीलन भरे कमरों में !

                                                  दिन भर करते रहे फ़िक्र ,
                                                  उम्र भर किया इंतज़ार ,
                                                  एक दिन जल उठेगा
                                                  यातनाओं का  यह शहर ,
                                                  एक दिन खिल उठेगा सपनों का गाँव !

                                                 दिन भर सोचता रहा -
                                                 एक पूरी जिंदगी के बारे में ,
                                                 जिंदगी भर सोचता रहा -
                                                 एक पूरे दिन के बारे में !           
                                           
                                                सुबह से बिन बुलाए
                                                मेहमान की तरह घर में
                                                घुसती गरीबी .
                                                क़र्ज़ की बीमारी और
                                                बीमारियों का क़र्ज़ !

                                                आखिर क्यों दिन भर
                                                एक पूरी जिंदगी की फ़िक्र
                                                करने के बावजूद  -एक पूरी जिंदगी
                                                दिन भर की फ़िक्र नहीं कर पाती ?
                            
                                                                                        स्वराज्य करुण


5 comments:

  1. देश की गरीब जनता की हकीकत सुन्दर शब्दों मे ब्याँ की है। शुभकामनाये़

    ReplyDelete
  2. यथार्थ बयाँ कर दिया…………सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  3. आखिर क्यों दिन भर
    एक पूरी जिंदगी की फ़िक्र
    करने के बावजूद -एक पूरी जिंदगी
    दिन भर की फ़िक्र नहीं कर पाती ?

    जीवन की सच्चाई है .

    ReplyDelete
  4. आख़िरी लाइनें तो जैसे एक झन्नाटेदार थप्पड़ मार गईं हों !

    ReplyDelete