Wednesday, February 16, 2011

(गीत ) नये ज़माने के डाकू !

                                                                                   -  स्वराज्य करुण
                            
                                     नये  ज़माने के डाकू खुलकर डाल  रहे हैं   डाका ,
                                     कोई नहीं कर  पाया  उनका ज़रा भी बाल बांका !

                                       दोनों हाथों लूट देश को ,भेजे माल विदेश
                                      अपने देश की अदालतों में चल न पाए केस !
                                 
                                     गोपनीय बही-खाते उनके, स्विस-बैंक है आका ,
                                     नये ज़माने के डाकू खुल कर  डाल रहे हैं  डाका !

                                      है जिनको मालूम , वे भी नाम नहीं बतलाते ,
                                      खुद को कैसे करें उजागर , इसीलिए शरमाते  !
                                     
                                      फिर भी करते कमीशनखोरी, मामा हो या काका ,
                                      नये  ज़माने के डाकू खुल कर डाल रहे हैं डाका !
                                      
                                      बेकारी की आँधी हो , या महंगाई की आग ,
                                      उनके घर-आँगन में तो हर मौसम में फाग !

                                     सिर्फ दिखावे का झगड़ा ,फिर जमकर हँसी-ठहाका ,
                                     नये जमाने के डाकू खुलकर डाल रहे हैं डाका !

                                      जनता समझ न पाए  इनका जादू-माया जाल 
                                      कहीं सितारा होटल चलता , कहीं पे शॉपिंग-मॉल !

                                     देश के मालिक बन खींचते हैं विकास का खाका
                                     नये जमाने  के डाकू खुलकर डाल रहे हैं डाका  !

                                                                                            - स्वराज्य करुण


                                    

8 comments:

  1. नये ज़माने के डाकू खुलकर डाल रहे हैं डाका ,

    कोई नहीं कर पाता उनका ज़रा भी बाल बांका !

    aaj ki hakikat
    dekho inki takat

    bahut sunder
    karun ji
    badhai swekare

    http://unluckyblackstar.blogspot.com/2011/02/blog-post_15.html

    ReplyDelete
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (17-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. आका ,डाका ,बांका ,खाका ,ठहाका के रंग निखार दिए आपने :)

    ReplyDelete
  4. bahoot achcha aur kararaa vyangy hai

    ReplyDelete
  5. अखबारी समाचारों जैसा लगने लगता है यह सब.

    ReplyDelete
  6. देश के मालिक बन खींचते हैं विकास का खाका
    नये जमाने के डाकू खुलकर डाल रहे हैं डाका !

    आज तो सबको धो दिया आपने। सुपर रिन की धुलाई,खूब जगमगाई।

    ReplyDelete
  7. वर्तमान की विसंगतियों, भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी राजनीति को बड़े प्रभावी शब्दों में आपने रेखांकित किया है अपनी इस सुन्दर रचना में...

    ReplyDelete