Tuesday 8 February 2011

(गीत) कुछ वासन्ती ख्वाब में !

                                       

                                     -  स्वराज्य करुण

 जन्म से ही  जी रहे दर्द के सैलाब में ,
चलो जियें आज कुछ वासन्ती ख्वाब में !
   
     बचपन  से भूख-प्यास झेलते रहे,
     खुद को  हम  इसी तरह ठेलते रहे !

  वही   एक कहानी है  पूरी किताब में ,
चलो जियें आज  कुछ वासन्ती ख्वाब में  !
     
    दिन हो या रात ये समय गतिमान है ,
    जिंदगी तो हर पल  एक इम्तहान है!

सुलगते सवालों के चहकते ज़वाब में ,
चलो  जियें आज  कुछ वासन्ती ख्वाब में !
  
       फिर न  कोई यहाँ   ग़मगीन बने,
        हर मौसम हमेशा  रंगीन बने !


 खिलते गुलमोहर ,पलाश और गुलाब में
चलो जियें आज कुछ  वासन्ती ख्वाब में !

                                                                                                      -  स्वराज्य करुण

5 comments:

  1. ... बगरो बसंत है.

    ReplyDelete
  2. बसंत ही बसंत मित्र आयो बसंत है।
    बसंत ही बसंत मित्र गायो बसंत है॥
    डफ़ नगाड़े फ़ाग की महफ़िल सजाओ।
    भंगियाओ झूमो मित्र आयो बसंत है॥

    ReplyDelete
  3. खिलते गुलमोहर ,पलाश और गुलाब में
    चलो जियें आज कुछ वासन्ती ख्वाब में
    wah.ekdam man ki baat kah di ....

    ReplyDelete
  4. bahut hi umadaa . dil ko chhune wali.

    ReplyDelete
  5. दिल की गहराईयों को छूने वाली एक खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    आप को वसंत पंचमी की ढेरों शुभकामनाएं!
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete