Friday, November 26, 2010

आखिर क्या है कविता ?

                                           स्वराज्य करुण 
       

                                                           सूर्योदय और सूर्यास्त
                                                            के रंगों से ,
                                                            आकाश में तैरते  बादलों से ,
                                                            उड़ते परिंदों की चहक से,
                                                            पेड़-पौधों की हरियाली से ,
                                                            फूलों की महक से ,
                                                            बच्चों की मुस्कान से ,
                                                            खेत और खलिहान से ,
                                                             बांसुरी की तान से ,
                                                             धरती के जय-गान से ,
                                                             और वंचितों के क्रंदन से
                                                             बूँद-बूँद झरते शब्दों से
                                                             बनने वाली क्या कोई
                                                             ऐसी चीज है जिसे हम
                                                             कह सकते हैं कविता  ?
                                                             बार-बार सोचता हूँ ,
                                                             कई बार सोचता हूँ - कविता क्या है ?
                                                             संवेदनाओं की अभिव्यक्ति
                                                             महज भावनाओं के धरातल पर
                                                             या असल जिंदगी में भी ?
                                                             कलम कहाँ लिखती है कविता ,
                                                             कहाँ दिखती है कविता ?
                                                             आखिर क्या है कविता ?
                                                             शायद वह एक समूचा संसार है ,
                                                             अपने-आप में छटपटाती पृथ्वी है /
                                                             जब हम चाहते हैं कुछ करना -
                                                             अपने लिए और अपने जैसे
                                                             तमाम लोगों के लिए ,
                                                             जब कुछ नहीं कर पाते हम ,
                                                              तब कविता रचते हैं और
                                                              जिम्मेदारी से बचते हैं /
                                                              शायद अपने बचाव में शब्दों की
                                                              चहार दीवारी खड़ी करना ही कविता है /
                                                              या कविता किसी के लिए किसी के द्वारा
                                                               कुछ न कर पाने की छटपटाहट है ?
                                                              लगता है -कविता हर धड़कते हुए दिल की
                                                              कभी खत्म न होने वाली घबराहट है /
                                                             
                                                                                                               स्वराज्य करुण

9 comments:

  1. कविता के नाम पर र्इमानदार-सी कविता.

    ReplyDelete
  2. सच में क्या है कविता..... ? बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  3. जब हम चाहते हैं कुछ करना -
    जब हम चाहते हैं कुछ करना -
    अपने लिए और अपने जैसे
    तमाम लोगों के लिए ,
    जब कुछ नहीं कर पाते हम ,
    तब कविता रचते हैं और
    जिम्मेदारी से बचते हैं ,
    शायद अपने बचाव में शब्दों की,
    चहार दीवारी खड़ी करना ही कविता है .

    सुन्दर भाव ! सुन्दर रचना !! बधाई !!!

    ReplyDelete
  4. शायद वह एक समूचा संसार है ,
    अपने-आप में छटपटाती पृथ्वी है
    and
    लगता है -कविता हर धड़कते हुए दिल की
    कभी खत्म न होने वाली घबराहट है
    sach hi to kaha hai aapne

    ReplyDelete
  5. जबतक औरों के दुःख से आँखें रोती रहेंगी
    शब्द झरते रहेंगे कवितायेँ बनती रहेंगी!
    रचना बड़ी सच्ची है!

    ReplyDelete
  6. पेड़-पौधों की हरियाली से ,
    फूलों की महक से बच्चों की मुस्कान से ,
    खेत और खलिहान से बांसुरी की तान से ,
    धरती के जय-गान से और वंचितों के क्रंदन से
    बूँद-बूँद झरते शब्दों सबनने वाली क्या कोई
    ऐसी चीज है जिसे ह कह सकते हैं कविता ?bhehtareen lajavab lekin mai socta hu kavita hi logo mai urja paida karti hai . is liye kavita ke massege ke jo result milta hai uska 1/2 fal kavi ko milta hai kyo ki dam to har aadmi me hota hai par soch sirf kavi paida karta hai hajaro dilo mai i think aapko

    ReplyDelete
  7. बहुत दिनों बाद तुम्हारी यह कविता अच्छी लगी
    [ बाकी पढ़ी नहीं न इसलिए ]
    वाकई एक अच्छी रचना

    ReplyDelete
  8. kavita ki paribhasha bahut acchi lagi..
    shukriya..

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन...भावपूर्ण!!

    ReplyDelete