Thursday 11 November 2010

(गीत ) पथ-विहीन पृथ्वी पर !

                                                                         
                                                   ज़माने  की नब्ज़ को टटोल कर देख लिया   ,
                                                   कहीं भी ज़रा -सी धड़कन नहीं है !
                                                   
                                                    खेतों में दूर तक फ़ैली है खामोशी 
                                                    हरियाली खो गयी जानी किन घोंसलों  में,
                                                    अपने ही कदमों  का भरोसा जब नहीं
                                                     कैसे यकीन करें रास्तों के हौसलों में !

                                                अँधेरे की भुजाओं में कैद हुई रोशनी ,
                                                आज-कल सुबह कहीं जागरण नहीं है !
                                           
                                             इतनी जल्दी कैसे कमीज़ पुरानी हुई
                                             नयी कमीज़ की तलाश में  देखो आत्मा ,
                                             तस्वीर अपने जीवन की बदल नहीं पाए  हम,
                                             कर रहे हैं  अपनी  उम्मीद का भी   खात्मा !
                      
                                         जल रहे हैं गाँव-शहर ,भयभीत भाग रहे सब  ,
                                          हाल चाल पूछने का वातावरण नहीं है ! 

                                            चल रहा है सपनों के कत्ल का सिलसिला
                                            इक-दूजे को ढकेल बढ़ रही है दुनिया ,
                                            हमसफर के पांवों में बांधकर जंजीर आज 
                                            उन्नति के शिखरों  पर चढ़ रही है दुनिया !

                                       मिट गए हैं भगदड़ में सूरज के चरण-चिन्ह ,
                                       पथ-विहीन पृथ्वी पर कोई किरण नहीं है !
                                
                                                                        - स्वराज्य करुण                           

                            

6 comments:

  1. भगदड़ में मिट गए सूरज के चरण-चिह्न, क्‍या खूब है.

    ReplyDelete
  2. chal raha sapnon ke katl ka silsila---vyavastha par chot karti sarthak kavita.shubhkamnaye.

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  4. यही तो हाल है आज।

    ReplyDelete