Wednesday 10 November 2010

(गीत ) नया सवेरा होने तक !

                                              दुनिया के इस कोने से उस कोने तक ,
                                             हम तो चलते जाएंगे नया सवेरा होने तक !
                            
                                                   पर्वत -पत्थर आएँगे ही
                                                   बहती नदियों के पथ पर ,
                                                  लेकिन हम गतिमान रहेंगे
                                                  अपने संकल्पों के रथ पर !
                        
                                            रात भले कितनी ही लम्बी क्यों न हो ,
                                            हम नहीं जाएंगे निंदिया के नरम बिछौने तक !

                                                     कितनी दूर चले हैं साथी
                                                     देखो ज़रा तुम पीछे मुड़ कर ,
                                                     गुज़र गयी कितनी ही सदियाँ
                                                     इस लम्बे सफर से जुड़ कर !

                                            उत्साह जागने और अलस के सोने तक ,
                                            हम तो चलते जाएंगे नया सवेरा होने तक !

                                                  धर्म -जाति की ऊंची-नीची
                                                   दीवारों को तोड़ चलें ,
                                                   इक-दूजे से मानवता का
                                                   आओ नाता जोड़ चलें !
                                 
                                        समता के धागे में ममता के मोती पिरोने तक ,
                                        हम तो चलते जाएंगे नया सवेरा होने तक !
                                                                                       स्वराज्य करुण

                                                  

                                   

12 comments:

  1. bahut achha likha hai aapne.....prernadayee

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  3. मानव धर्म सर्वोत्तम धर्म
    सुंदर गीत

    ReplyDelete
  4. धर्म -जाति की ऊंची-नीची
    दीवारों को तोड़ चलें ,

    बहुत सुन्दर भावों को लिए अच्छा गीत

    ReplyDelete
  5. हम तो चलते जायेंगे नया सवेरा होने तक...|
    बहुत अच्छी रचना |

    ReplyDelete
  6. वाह ! बेहद उम्दा संदेश देती रचना……………बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  7. सुन्दर भाव ,सुन्दर गीत.

    ReplyDelete
  8. बहुत ही अच्छी रचना...बधाई।

    ReplyDelete
  9. समता के धागे वाली बात जम रही है ,आशावाद जीवित रहे !

    ReplyDelete
  10. धर्म -जाति की ऊंची-नीची
    दीवारों को तोड़ चलें ,
    इक-दूजे से मानवता का
    आओ नाता जोड़ चलें !



    यह केवल गीत नहीं , सन्देश भी है .

    ReplyDelete
  11. वाह कितने सुन्दर भाव !!
    बहुत सकारात्मक और सशक्त प्रस्तुति पर बधाई

    ReplyDelete