Saturday 27 November 2010

(गज़ल) मुन्नी को बदनाम करेगी !

                                       .                                                            स्वराज्य करुण
                                                मुन्ना राजा कर लें चाहे जितनी धींगा मस्ती 
                                               कुछ भी नहीं कहेगी उनको मतवालों की बस्ती !
                             
                                                मुन्नी को बदनाम करेगी बदनामों की महफ़िल ,
                                                बेख़ौफ़ करेंगे मुन्ना राजा खुलकर  मटरगश्ती  !
 
                                                दुनिया के बाज़ार सजी है रंग-बिरंगी दुनिया   
                                                हवा भी महंगी ,दवा भी महंगी, दारू लेकिन  सस्ती  !

                                                बेदिल  का बेजान तमाशा देख भले  दिल रोए ,
                                                लेकिन बेदिल वालों की दिल्ली बेरहमी से हँसती !
                                   
                                                नदी समय की सदियों से यहाँ इसी तरह से बहती ,
                                                जिसकी लहरों में सपनों की हर पल डूबे कश्ती !

                                                चाहे जितनी  कर लो कोशिश, वह बाहर न आएगी ,
                                                धन-दौलत के दलदल में जो गहरे-गहरे धंसती !
                                                                                                             -   स्वराज्य करुण                                

Friday 26 November 2010

आखिर क्या है कविता ?

                                           स्वराज्य करुण 
       

                                                           सूर्योदय और सूर्यास्त
                                                            के रंगों से ,
                                                            आकाश में तैरते  बादलों से ,
                                                            उड़ते परिंदों की चहक से,
                                                            पेड़-पौधों की हरियाली से ,
                                                            फूलों की महक से ,
                                                            बच्चों की मुस्कान से ,
                                                            खेत और खलिहान से ,
                                                             बांसुरी की तान से ,
                                                             धरती के जय-गान से ,
                                                             और वंचितों के क्रंदन से
                                                             बूँद-बूँद झरते शब्दों से
                                                             बनने वाली क्या कोई
                                                             ऐसी चीज है जिसे हम
                                                             कह सकते हैं कविता  ?
                                                             बार-बार सोचता हूँ ,
                                                             कई बार सोचता हूँ - कविता क्या है ?
                                                             संवेदनाओं की अभिव्यक्ति
                                                             महज भावनाओं के धरातल पर
                                                             या असल जिंदगी में भी ?
                                                             कलम कहाँ लिखती है कविता ,
                                                             कहाँ दिखती है कविता ?
                                                             आखिर क्या है कविता ?
                                                             शायद वह एक समूचा संसार है ,
                                                             अपने-आप में छटपटाती पृथ्वी है /
                                                             जब हम चाहते हैं कुछ करना -
                                                             अपने लिए और अपने जैसे
                                                             तमाम लोगों के लिए ,
                                                             जब कुछ नहीं कर पाते हम ,
                                                              तब कविता रचते हैं और
                                                              जिम्मेदारी से बचते हैं /
                                                              शायद अपने बचाव में शब्दों की
                                                              चहार दीवारी खड़ी करना ही कविता है /
                                                              या कविता किसी के लिए किसी के द्वारा
                                                               कुछ न कर पाने की छटपटाहट है ?
                                                              लगता है -कविता हर धड़कते हुए दिल की
                                                              कभी खत्म न होने वाली घबराहट है /
                                                             
                                                                                                               स्वराज्य करुण

Thursday 25 November 2010

( व्यथा ) बदलते गाँव में नीलाम होती अन्नपूर्णा !

                                                                                                           स्वराज्य करुण
       भांजी के   विवाह समारोह के बाद सूर्योदय से पहले भिनसारे बारात को बिदा कर थकान मिटाने के इरादे से दो दिन गाँव में रुक गया . बचपन के दिन याद आने लगे . विद्यार्थी-जीवन याद आने लगा .याद आया वह बरसाती नाला , जिसके किनारे जाम-बाड़ी के नाम से हम सबका जाना-पहचाना अमरुद का बगीचा था, जहां हर साल कार्तिक-अगहन से लेकर पौष-माघ तक जाड़े के मौसम में मीठे-स्वादिष्ट अमरुदों की मीठी महक हम सबको अनायास अपनी ओर खींच लिया करती थी . याद आ गए वे दिन जब ठण्ड के इन्हीं दिनों में इसी बरसाती नाले के सूखे रेतीले आंचल में बैठ कर हम कुछ दोस्त जाम-बाड़ी के  मीठे अमरूदों  का स्वाद लिया करते थे . याद आने लगे हरे-भरे खेत, लोक-गीतों की गुनगुनाहट के साथ हल चलाते  किसान . याद आ गयी गाँव से लगे हरे-भरे  पहाड़ के नीचे दूर तक फ़ैली खेतों की हरियाली .
    दोपहर सायकल से निकला गाँव घूमने , तो लगा जैसे मैं कहीं और आ गया हूँ . जिन गलियों में बैल-गाडियां आराम से आया-जाया करती थीं , आज उनमे दो सायकल-सवार आसानी से आ-जा नहीं सकते . गलियों के आमने-सामने के घरों के लोग थोड़ा-थोड़ा चबूतरा निकाल कर गली को और संकरा करते जा रहे हैं . किसी के घर फोर-व्हीलर में शहर से कोई मेहमान आ जाए तो गाड़ी पार्किंग की कोई गुंजाइश नहीं .  सड़क के दोनों ओर पहले की तरह  किराना और मनिहारी सामान की दुकानें आज भी हैं,जहाँ पहले आसानी से पैदल घूम कर खरीदारी की जा सकती थी  ,लेकिन अब उस रास्ते पर मोबाइल फोन टेलीविजन सेट्स की भी कई दुकानें  लग चुकी हैं .कुछ बेरोजगार लड़कों ने फोटो-स्टूडियो लगा लिया है . ग्राहक अपनी सायकल-मोटर-सायकल उसी रास्ते पर खड़ी कर खरीदारी में लग जाते हैं ,तो छोटे से कस्बेनुमा इस गाँव में भी ट्राफिक-जाम का नज़ारा देखा जा सकता है .बसों की बढ़ती तादाद के लिहाज से और बढ़ते अतिक्रमण के कारण  गाँव  का बस-स्टैंड भी अब छोटा लगने लगा है. साफ़-सुथरे ,रूपहले पानी का बड़ा  तालाब भी  सिमट  कर जल- कुम्भियों से भरे डबरे में तब्दील हो रहा है. निकासी कीउचित  व्यवस्था नहीं होने के कारण घरों का गंदा पानी इसी डबरे में  डल रहा है .
     बढ़ती आबादी और बढ़ते विकास के इस दौर में अब यह गाँव 'ग्राम-पंचायत 'से  'नगर-पंचायत '  बन गया है . फिर भी अपने आत्मीय संस्कारों और सहज-स्वभाव के चलते नगर-पंचायत में भी गाँव की आत्मा कायम है . मेरे कुछ यार-दोस्त स्थानीय चुनाव में जन-प्रतिनिधि बन कर 'नगर-पंचायत ' की कमान सम्हाल रहे हैं . यह पूछने पर कि गाँव की गलियों और दुकान-बाज़ार की सड़कों से अवैध-कब्जा क्यों नहीं हटाते , उनसे जवाब मिलता है-  सब तो अपने ही लोग हैं . कोई किसी का सगा , तो कोई किसी का मुंहबोला चाचा या फिर मुंहबोला भतीजा , या नहीं तो मुंहबोला भाई है. कौन किसे और कैसे हटाए ? . तुम तो दो दिन के लिए आए हो . नौकरी के लिए शहर लौट जाओगे .हमको तो यहीं , इनके  बीच रहना है.  अवैध कब्जा हटाएंगे तो दुआ-सलाम का रिश्ता भी नहीं रह जाएगा . मुझे कोई जवाब नहीं सूझा . बरसाती नाले की तरफ गया . अब वहाँ अमरुद का बगीचा नहीं था . कुछ लोग   रेत   निकाल कर ट्रकों और  ट्रेक्टरों में भर रहे थे -बगल के शहर के किसी कोलोनाइजर को सीमेंट-कांक्रीट का जंगल खडा करने के लिए रेत की ज़रूरत थी .पहाड़ पर पेड़ कम होते साफ़ दिख रहे रहे थे.ऐसा लग रहा था मानो कोई उसके हरे-भरे नीले परिधान को बुरी तरह नोच-खसोट रहा है .पहाड़ के नीचे पत्थर तोड़ने वाली स्टोन-क्रशिंग मशीनें लग रही हैं. कल तक शान से खड़ा पहाड़ मानो भयभीत होकर काँप रहा है .
 गांव के आस-पास खेतों में धान की फसल कहीं कट चुकी थी और कहीं कट रही थी . इक्का-दुक्का खेतों में आधुनिक हार्वेस्टर से कटाई चल रही थी . कुछ-कुछ बुलडोज़र की तरह दिखने  वाली यह भारी मशीन मात्र एक घंटे में फसल की कटाई कर बालियों से दाने निकाल कर बारदानों में भर देती है . अगले कुछ वर्षों में शायद फसल को खेतों से खलिहानों तक ले जाने , उसे थप्पियों में 'खरही' के रूप में सहेज कर रखने   वहां मिंजाई करने और फिर दानों की सफाई -छंटाई के  लिए हाथ से चलने वाली उड़ावनी मशीन के इस्तेमाल की ज़रूरत नहीं रह जाएगी . सब कुछ खेत में ही हो जाएगा .तब शायद खलिहान गैर-ज़रूरी हो जाएंगे और वहाँ कोई पक्का मकान खडा हो जाएगा . फिर खलिहानों पर कवितायेँ कौन लिखेगा ? खेत - खलिहानों की महिमा पर गीत कौन गाएगा ?
 खेती तो गाँव में आज भी हो रही है , लेकिन कहीं -कहीं खेतों में बनते आधुनिक शैली के पक्के मकानों को देख कर मैंने मन ही मन खुद से पूछा - क्या  भविष्य में खेत विलुप्त हो जाएंगे ? कोई जवाब नहीं मिला !कुछ  किसानों के बेटे शहरों में पढ़ कर डॉक्टर-इंजीनियर बन गए हैं , कुछ वहाँ सरकारी-गैर-सरकारी नौकरियों में हैं . उनमे से कोई भी अब गाँव में रहना नहीं चाहता अपने  पुश्तैनी खेतों की ज़मीन पर उतरना नहीं चाहता . ऐसे में उनके माँ-बाप अपने दम पर कब तक खेती सम्हालें ?  कुछ दोस्तों ने बताया कि  राष्ट्रीय राज-मार्ग से लगे हमारे गाँव से लेकर आगे कम से कम पचास किलोमीटर तक सड़क के दोनों किनारों पर हज़ारों एकड़ खेत शहरों में रहने वाले रसूखदार लोगों ने खरीद लिए हैं . इन लोगों ने फिलहाल  ज़मीन खरीद कर रख दी है . आने वाले समय में इनमे से कोई इस पर फैक्ट्री खड़ी करेगा , या नहीं तो प्लाटिंग करके कॉलोनी बना कर  सीमेंट-कंक्रीट के बेजान जंगल उगाएगा .अब यहाँ कृषि-भूमि कई -कई लाख रूपए एकड़ में बिक रही है . शहरों से भू-माफियाओं  के दलाल आते हैं , किसानों को तरह-तरह के प्रलोभनों में फांस कर और तो और लाखों रूपए एडवांस में देकर ज़मीन की बुकिंग कर लेते हैं. फिर पंजीयक के दफ्तर में जाकर रजिस्ट्री भी करवा लेते हैं. किसान को लगता है कि कड़ी मेहनत से फसल उगा कर एक एकड़ में दस लाख रूपए कभी नहीं मिल सकते ,लेकिन यहाँ तो घर बैठे इतने रूपए मिल रहे हैं . वह भूमि बेच देता है . कोई दलाल पांच लाख रूपए एकड़ में , तो कोई दस लाख और कोई पन्द्रह लाख रूपए एकड़ के हिसाब से खेतों का सौदा करने लगता है. मुझे सुनकर लगा कि यहाँ तो अन्नपूर्णा की सरे-आम नीलामी हो रही है.ऊंचे से ऊंचे रेट में किसान अपनी अन्नपूर्णा जैसी भूमि बेचने को तत्पर है. व्यापार-व्यवसाय का अनुभव नहीं होने के कारण वह समझ नहीं पाता कि इतनी बड़ी राशि का वह क्या करे ?वह  उस रूपए से मोटर-बाईक यहाँ तक कि मोटर-कारें भी खरीद लेता है. कुछ किसान पक्के मकान बनवा लेते हैं और कुछ मुफ्तखोरों के झांसे में आकर दारू-मुर्गे में रूपए उड़ा देते हैं . होश आने पर पता लगता है कि अब तो वे भूमिहीन हो गए हैं. यह सब देख-सुनकर मै भविष्य की आशंका से सिहर उठा . मैंने अपने-आप से सवाल किया -हम अपनी संस्कृति में  धरती को  माता कहते हैं ,  खेतों को अन्नपूर्णा और  किसान को अन्नदाता .फिर अपनी माता को ही किसी सौदागर के हाथों बेचने पर आमादा क्यों हो जाते हैं ? देवी अन्नपूर्णा के प्रतीक अपने खेतों का सौदा क्यों करने लगते है . ? अन्नपूर्णा ही नीलाम होकर  बिक जाएगी ,तो खेती कौन करेगा ? अन्नदाता के पास दुनिया को देने के लिए अनाज कहाँ रह जाएगा ? तब क्या दुनिया भूखे नहीं मरेगी ?
  कुछ देर के लिए अगर भौतिक दृष्टि से भी सोचें तो खेतों को हम अनाज उगाने वाली  फैक्ट्री मान सकते हैं और उसके महत्व को समझ सकते हैं .मुझे लगता है कि हमारा किसान भी एक उद्योगपति है.  किसी भी उद्योग के लिए भूमि, पूंजी और मानव -श्रम की ज़रूरत होती है .खेती के लिए भी तो इन  चीजों की ज़रूरत  होती है . फिर किसान को भी हम उद्योगपति क्यों नहीं मान सकते ? किसान जिस अनाज तैयार करने वाले उद्योग का मालिक है , वह कुदरत से प्राप्त अपनी इस सुंदर-सलौनी फैक्ट्री को शहरीकरण की भेड़-चाल में , भू-माफियाओं के बहकावे में आकर क्यों बेच रहा है ?  खेद है कि मुझे इस बार भी अपने ही इन सवालों का कोई जवाब  नहीं मिला ! एक ज़माना था ,जब  खेती को उद्योग का दर्जा देने-दिलाने की मांग सड़क से संसद तक जोर-शोर से उठा करती थी .अखबारों में लोगों के बयान छपा  करते थे. पढ़ कर लगता था कि उनका कहना जायज है. कुछ लोग तो हैं ,जो किसानों की फ़िक्र करते हैं  लेकिन आज वह आवाज़ कहाँ खो गयी ? क्या उसे उदारीकरण याने कि 'उधारीकरण ' का राक्षस निगल गया ?गाँव  बदल रहा है और अन्नपूर्णा  किसी के हाथों बिक रही है . अन्नपूर्णा का बिक जाना हमारे संस्कारों का और एक सम्पूर्ण संस्कृति का बिक जाना नहीं तो और क्या है ? ऐसा क्यों हो रहा है और हम चुप क्यों हैं ? अगर आपके पास इन सवालों का कोई जवाब हो , तो ज़रूर बताएं !          
                                                                                                         स्वराज्य करुण

Wednesday 24 November 2010

(लघु-कथा ) पेट-पूजा के लिए ज़रूरी है भेंट-पूजा !

                                                                                                           स्वराज्य करुण
  भांजी की शादी में गाँव जाना हुआ .वर्षों बाद कई आत्मीय-स्वजनों और बचपन  के दोस्तों से मुलाक़ात हुई . अग्रसेन भवन के नाम से प्रसिद्ध वहाँ की एक मात्र धर्मशाला में बारात  के स्वागत और विवाह समारोह की तैयारियों में हम सब लगे हुए थे . थोड़ी देर  थकान मिटाने के इरादे से कोने में रखी  कुछ कुर्सियों में से एक पर मैं बैठा ही था कि सरजू चाचा  आ गए. कुछ मिनटों में जमुना  बुआ भी आ गयीं . दोनों से अभिवादन के बाद हाल-चाल जानने का सिलसिला शुरू हुआ .पता चला कि दोनों अपनी -अपनी सरकारी नौकरियों से रिटायर हो चुके हैं . सरजू चाचा  तीन साल पहले सेवा-निवृत्त हुए ,जबकि जमुना बुआ का रिटायरमेंट पिछले साल हुआ.
    उत्सुकतावश उनकी पेंशन के बारे में पूछने पर दोनों ने बताया कि काफी मशक्कत के बाद अब नियमित रूप से मिलने लगी है,लेकिन  दफ्तरों  में भेंट पूजा देने के बाद ही यह मुमकिन हो पाया है. लोक-निर्माण विभाग में चालीस साल की लम्बी नौकरी के बाद  टाईम-कीपर के पद से रिटायर हुए सरजू चाचा ने कहा - जिस दफ्तर में वर्षों तक नौकरी की  उसी दफ्तर में अपना  पेंशन प्रकरण तैयार करवाने के लिए बाबू को उसकी डिमांड पर खिलाना और पिलाना भी पड़ा .इसके बाद भी तीन  हज़ार रूपए अलग से देने पड़े . तब कहीं उसने मेरा प्रकरण जिला-कोषालय भिजवाया .फिर वहाँ भी बाबू और अधिकारी को 'सुविधा-शुल्क ' देना पड़ा . ट्रेजरी- लिपिक  ने फाईल बढ़ाने के चार  हज़ार रूपए  लिए,  बोला -पांच सौ मेरे और बाकी अफसर के . मरता क्या न करता ! देना पड़ा . लेकिन देने से काम बन गया .वरना मुझसे पहले रिटायर हुए कुछ लोगों की पेंशन तो आज तक शुरू नहीं हो पायी है . जमुना बुआ शिक्षिका थीं .वे भी करीब छत्तीस साल की नौकरी के बाद रिटायर हुई थीं .उन्होंने अपनी आप-बीती सुनायी .हर महीने जी.पी. एफ. के लिए वेतन से कटौती होती थी .  रिटायर होने तक भविष्य-निधि के मेरे खाते में चार लाख रूपए जमा हो गए थे.लग रहा था कि एक छोटा-सा मकान बनाने का वर्षों पुराना सपना अब साकार हो जाएगा , लेकिन मुझे क्या मालूम था कि  मेरी इस राशि पर शिक्षा कार्यालय वालों की नज़रें लगी हुई थीं . वहाँ के अफसर और बाबुओं का  मानना था कि यह राशि मुझे फ़ोकट में मिल रही है. इसलिए इसका कुछ हिस्सा उन्हें भी मिलना चाहिए  अकेले जी.पी. एफ. का ही काम नहीं था बल्कि अभी तो मेरा पेंशन केस भी इन्हीं लोगों के हाथों तैयार होना था . भेंट-पूजा नहीं देने का मतलब तुम समझ सकते हो-भविष्य-निधि की राशि निकलने और पेंशन शुरू होने में देरी. इससे नुकसान तो  आखिर  मुझे ही होना था . इसलिए मजबूरी थी .मैंने सरजू चाचा और जमुना बुआ से कहा - आप लोगों ने रिश्वत देकर काम करवाया . चाहते तो उनको घूस लेते रंगे हाथों पकडवा सकते थे.जमुना बुआ बोलीं- शिक्षा कार्यालय में एक सेवा-निवृत्त कर्मचारी से  वहीं के एक बाबू ने  पेंशन केस बनने के लिए रिश्वत माँगी . उसने बाबू को घूस लेते रंगे हाथ पकड़वा दिया , लेकिन हुआ क्या ? उसका पेंशन प्रकरण आज भी अटका हुआ है . दूसरा बाबू उसकी फाईल को छू भी नहीं रहा है और इस घटना के बाद भी वहाँ अन्य रिटायर्ड लोगों से जबरिया 'दान-दक्षिणा ' लेने का सिलसिला थमा नहीं है .
     जमुना बुआ कहने लगीं- आज के समय में भलाई इसी में है कि जहां काम अटका है, वहाँ किसी को कुछ दे दुआ कर अपना रास्ता निकलवा लो.दफ्तर में विराजमान देवी-देवताओं को भेंट-पूजा दोगे, तभी तुम रोज अपने  और अपने परिवार के लिए दो वक्त की पेट-पूजा का प्रबंध कर पाओगे . नहीं तो तुम्हारी फाईल दफ्तर की आलमारी में यूं ही धूल खाती पड़ी रहेगी. बाबू उसे छुएगा भी नहीं . वह सीधे कह  देगा कि अभी उसके पास दफ्तर की और भी कई ज़रूरी फाइलें रखी हैं. पहले उनका निराकरण हो जाए , फिर आपकी बारी आएगी . रिटायर्ड लोगों के लिए तो उनके पास कथित रूप से समय रहता ही नहीं. बाबुओं और अफसरों के तेवर देख कर लगता है कि ये लोग आजीवन इन्हीं कुर्सियों और इन्हीं टेबलों पर जमे रहेंगे और कभी रिटायर ही नहीं होंगे . सरकारी कर्मचारी होने के बावजूद ये लोग किसी रिटायर्ड सरकारी कर्मचारी की दिक्कतों को महसूस नहीं करते ,या फिर महसूस करना नहीं चाहते. जब ये अपनी ही जमात याने कि सरकारी सेवकों की बिरादरी से ऐसा सलूक करते हैं तो आम-जनता के साथ इनका व्यवहार कैसा रहता होगा , कोई भी समझ सकता है.
               बातचीत चल ही रही थी कि बैंड-बाजे की आवाज़ नजदीक आ गयी और हम लोग बारात के स्वागत के लिए गेट पर आ गए .                                                                                                                  स्वराज्य करुण

Monday 22 November 2010

नमन छत्तीसगढ़ :ज़मीनी कविताओं की रंगीन फुलवारी !

                                                                                                                   स्वराज्य करुण
                                 लोकतंत्र में कोई भी फैसला जनमत के बिना नहीं हो सकता . नए छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माण में भी जनमत की बहुत बड़ी भूमिका रही है और इसके लिए जनमत बनाने में यहाँ के जन-नेताओं के साथ-साथ उन सजग साहित्यकारों और कवियों का भी महत्वपूर्ण योगदान रहा है ,जिन्होंने खनिज-संपदा ,जल-संपदा ,वन-संपदा , जन-संपदा और धन-संपदा से परिपूर्ण  इस धरती के  मेहनतकश बेटे-बेटियों की गरीबी को , उनकी  पीड़ा को, उनके दुःख-दर्द को और  उनकी भावनाओं को वाणी दी, जिन्होंने मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम के ननिहाल के रूप में प्रसिद्ध इस भूमि की महिमा को  शब्दों के सांचे में ढाल कर देश और दुनिया का ध्यान खींचा .देश के  तत्कालीन लोकप्रिय प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने  छत्तीसगढ़ के दर्द को और इसके मर्म को अपने संवेदनशील कवि-ह्रदय की गहराइयों से महसूस किया, दस वर्ष पहले राज्य-निर्माण की जटिल-कानूनी प्रक्रियाओं को देखते ही देखते पूर्ण करवाया और आम-सहमति से शान्ति और सदभावना के सौम्य वातावरण में  इसे भारत के नक्शे पर अट्ठाइसवें राज्य के रूप में  पहचान और प्रतिष्ठा दिलायी .
    मध्य-प्रदेश जैसे विशाल राज्य से अलग होकर अब छत्तीसगढ़ जहाँ अपने सामाजिक-आर्थिक विकास की राह पर तेजी से आगे बढ़ रहा है , वहीं इस नव-गठित राज्य में कला, संस्कृति और साहित्य के क्षेत्र में  मंचन , प्रदर्शन प्रकाशन और  प्रसारण गतिविधियों में भी उत्साह-जनक तेजी आयी है.ताजा उदाहरण  राज्य के जाने-माने कवि रामेश्वर वैष्णव के  नए  कविता संग्रह 'नमन छत्तीसगढ़' का है ,  जिसमे संकलित बीस हिन्दी और सात छत्तीसगढी कवितायेँ  देश के इस नए राज्य की  गरिमा और महिमा का बखान करते हुए यहाँ के मेहनतकशों की भावनाओं को भी स्वर देती हैं .कवि ने इन्हें माटी प्रेम की रचनाओं के नाम से प्रस्तुत किया है .मेरे ख़याल से यह अपनी ज़मीन  से जुड़ी  कविताओं की एक ऐसी रंगीन  फुलवारी है ,जिसके हर पौधे और  हर  फूल की अपनी अलग आभा और अपना अलग रंग है.  संग्रह की पहली कविता 'छत्तीसगढ़ हमारा ' में कवि ने   राज्य के प्राकृतिक और सांस्कृतिक वैभव का वर्णन करते हुए विकास की अपार संभावनाओं का भी संकेत दिया है.बानगी देखें-
                         
                               दुनिया में सबसे न्यारा छत्तीसगढ़ हमारा ,
                               है जान से भी प्यारा छत्तीसगढ़ हमारा .
                               हरियालियों में लिपटे हैं अंतहीन जंगल ,
                               हर ओर गूंजते हैं नित लोक-गीत मंगल .
                              हम उन्नति की ऐसी प्रेरक कथा गढ़ेंगे ,
                              छत्तीसगढ़ को 'भारत सिरमौर ' सब पढेंगे .

 राज्य का गौरव-गान रचने वाले कवि का कोमल ह्रदय राष्ट्रीय-चेतना से अलग नहीं है . संग्रह में 'छत्तीसगढ़ है लघु भारत ' शीर्षक उनके एक गीत से यह संकेत मिलता है . उनकी इन पंक्तियों में इसे आप भी महसूस करें-
                         
                                 प्रांत-प्रांत की संस्कृतियों का यहाँ अनूठा संगम
                                 मानवता , प्रकृति , नृतत्व के अदभुत दृश्य विहंगम .
                                 सबका स्नेह भरा स्वागत , छत्तीसगढ़ है लघु भारत .

संकलन की एक रचना 'माटी सोनाखान की '  राज्य के महान क्रांतिकारी अमर शहीद वीर नारायण सिंह की संघर्ष गाथा को समर्पित है, ,जिसमें अकाल पीड़ित जनता के  दो वक्त के भोजन के अधिकार की रक्षा के लिए और जनता  को न्याय दिलाने के लिए सोनाखान के लोकप्रिय ज़मींदार नारायण सिंह द्वारा अंग्रेज हुकूमत के खिलाफ चलाए गए संग्राम और उनकी शहादत का वर्णन है . उनका यही संघर्ष आगे जाकर छत्तीसगढ़ में स्वतंत्रता संग्राम और राष्ट्रीय चेतना की मशाल बन गया .
 कवि का यह मानना है कि वीर नारायण सिंह की शहादत को राष्ट्रीय पहचान मिलनी चाहिए. वे कहते हैं-
                             
                                  कथा जो कहती है छत्तीसगढ़ के आन,बान और शान की ,
                                  पूजनीय है ,वन्दनीय है ,माटी सोनाखान की .
                                  जोह रही है बाट शहादत राष्ट्रीय पहचान की ,
                                  पूजनीय है , वन्दनीय है माटी सोनाखान की .
            
रामेश्वर वैष्णव अपने इस कविता-संग्रह में छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के लिए तत्कालीन प्रधान मंत्री अटलबिहारी वाजपेयी को धन्यवाद देना नहीं भूलते . उनकी एक रचना का शीर्षक ही है -' धन्यवाद अटल जी ' . कुछ पंक्तियाँ आप भी देखें -
                                                 सपना  किया साकार  धन्यवाद अटल जी
                                                  है शुक्रिया आभार धन्यवाद अटल जी .
                                                  जो आम सभा में कहा था कर के दिखाया
                                                  हर्षित है जन-अपार धन्यवाद अटल जी .
                                                  मिलती हैं कैसे मंजिलें बिन खून बहाए
                                                  दिखलाया चमत्कार धन्यवाद अटल जी .
                                                  संपन्न राज्य इसको बना कर ही रहेंगे ,
                                                  जुटना है लगातार धन्यवाद अटल जी .
                                                  छत्तीसगढ़ न आपको भूलेगा कभी भी ,
                                                  हैं आप सृजनहार ,धन्यवाद अटल जी .


संकलन की हर कविता में कवि ने रचना तिथि भी अंकित कर दी है , ताकि पाठक  देश ,काल और परिस्थिति के अनुरूप रचना  की पृष्ठ-भूमि  से अवगत हो कर  कवि की तत्कालीन सम-सामयिक भावनाओं को भी महसूस कर सके . इनमे  माटी और मेहनतकशों का दर्द है , आक्रोश की अभिव्यक्ति भी है और है राज्य के बेहतर भविष्य की उम्मीदों के साथ एक नयी सुबह की उम्मीद. अनेक रचनाएँ छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के लिए कविता के धरातल पर रचनाकार के साहित्यिक योगदान को भी रेखांकित करती नज़र आती हैं . संग्रह की  प्रत्येक रचना के हर पन्ने को विषय-वस्तु के अनुरूप चित्रों से सजाया -संवारा गया है .रामेश्वर वैष्णव की काव्य-यात्रा विगत चालीस वर्षों से भी अधिक समय से लगातार जारी है. यह नयी किताब उनकी इस यात्रा में एक और यादगार मुकाम की तरह शामिल हो गयी है. बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएं                                                                                                                              स्वराज्य करुण                    
                           

Sunday 21 November 2010

(गीत ) धान के सागर में !

                                                                                             स्वराज्य करुण
                                                       
                                                       कल तक थे हरे-हरे , आज हुए सुनहरे ,
                                                       लहराए  शान से , क्यों किसी से डरें !

                                                             पसीने की बूंदों से
                                                             बनी हैं ये बालियाँ
                                                              उम्मीद से भरती हैं
                                                             हर किसी की थालियाँ !

                                                     रात के सफर में थको मत इस तरह ,
                                                     रोशनी के इंतज़ार में न रहो खड़े !
                                                         
                                                             हवाओं में सपनों का
                                                             गूंजे सरगम
                                                             फिर किसी की आँखें भी
                                                             क्यों होंगी नम !
                               
                                               झूम उठी मस्ती में   कलियों की महफ़िल
                                                पेड़ों के होठों से  गीतों के फूल झरें  !
                                  
                                                       खेत हैं सजे-धजे
                                                       धानी-परिधान में ,
                                                       पंछियों की चहक सुनो ,
                                                       सुबह की मुस्कान में !

                                            कुदरत का कलाकार मौसम की तूलिका से                               
                                            हर दिन,हर पल  यहाँ नए -नए  रंग  भरे    !                                   
                                                                                      
                                                  ये अपनी धरती सच ,
                                                   धान का सागर है,
                                                   दूर-दूर तक फैले 
                                                  प्रेम के  आखर हैं   !
                              
                                          दिन हो या रात , सब इसके ही आंगन हो ,
                                          इसकी ही गोद में हम रोज जिएं और मरें !  
                                                                                  स्वराज्य करुण

Friday 19 November 2010

(आलेख) जौहरी की निगाहों से तलाशे गए हीरे !

                                                                                                                         स्वराज्य करुण
                                        
हमारी यह भारत भूमि स्वयं अनमोल-रत्नों की खान है , जहां मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम , योगी राज भगवान श्रीकृष्ण , भगवान गौतम बुद्ध , भगवान महावीर , नानक , संत कबीर , महात्मा गांधी और स्वामी विवेकानंद जैसी महान विभूतियों ने जन्म लेकर अपने महान विचारों और महान कार्यों से इस पुण्य भूमि को और भी ज्यादा मूल्यवान बना दिया .भारत की पहचान सोने-चांदी या हीरे-मोती जैसे कीमती आभूषणों से कहीं ज्यादा ऐसे मानव शरीर धारी रत्नों से बनी है.  इसी भारत भूमि के छत्तीसगढ़ राज्य  की धरती भी कुछ कम  रत्न-गर्भा  नहीं  है , जहां ज़मीन के भीतर लोहे , कोयले ,सोने और हीरे की खदानों का  अनमोल खजाना तो है , लेकिन उससे भी कहीं ज्यादा मूल्यवान हैं यहाँ के वे लोग , जो  भौतिक रूप से  भले ही  हमारे बीच नहीं हैं ,लेकिन जिनकी यश-कीर्ति की अनुगूंज  आज भी कायम है .भले ही समय के प्रवाह ने  उस पर  स्मृतियों की ढेर सारी परतें चढ़ा दी हैं , लेकिन  उनकी यह कीर्ति-पताका आधुनिकता के अराजक शोर में भी  समाज को सही रास्ता  दिखाने की ताकत रखती है .
 छत्तीसगढ़ के मैनपुर और देवभोग इलाके में हीरे की कुदरती  खदानों से हीरे जब निकलेंगे और  जब वे तराशे जाएंगे , तब की तब देखी जाएगी, लेकिन राज्य के मानव-जीवन में यादों की अमिट-छवियाँ छोड़ कर कहीं दूर जा चुके हीरों को तलाशने और उनकी  जीवनी को तराश कर जनता के बीच प्रकाश-स्तम्भ की तरह स्थापित करने का एक महत्वपूर्ण काम अभी -अभी सामने आया है .ये ऐसे अनमोल हीरे हैं ,जिनकी बदौलत छत्तीसगढ़ को भारत के महान स्वतंत्रता आंदोलन से लेकर साहित्य , कला, संस्कृति सहित सामाजिक जीवन के हर क्षेत्र में देश और दुनिया में नयी पहचान मिली . हीरे  की  परख जौहरी ही जानता है. वरिष्ठ  साहित्यकार डॉ. विमल कुमार पाठक ने एक अनुभवी और कुशल जौहरी की तरह  पचपन ऐसी  महान विभूतियों की जीवन-गाथाओं को अपने शब्दों के सुवासित फूलों से सजाया-संवारा और लगभग तीन सौ पन्नों की पुस्तक में प्रस्तुत कर लोगों की धूमिल होती यादों को एक बार फिर तर -ओ -ताज़ा कर दिया है.एक साहित्यिक-जौहरी की पारखी निगाहों से खोजे गए और सिद्धहस्त लेखक की मंजी हुई लेखनी से तैयार इस  किताब का नाम लेखक ने  दिया है- 'छत्तीसगढ़ के हीरे : कहाँ गए ये लोग ?'.शीर्षक में यह सवाल सचमुच मानवीय सम्वेदनाओं के साथ बेहद  भावुकता  लिए हुए है कि हमारे अपने ये  लोग आखिर कहाँ चले गए , जो कल तक हमारे साथ थे और  जिनकी आज हमे सबसे ज्यादा ज़रूरत है, ताकि दिशाहीन होते जा रहे समाज को सही  दिशा मिल सके . समय-चक्र को उलटा घूमा कर हम उन्हें भौतिक रूप से अपने बीच वापस तो नहीं पा सकते , लेकिन उनकी जीवन-यात्रा के प्रेरणादायक प्रसंगों को याद कर हमारे आस-पास उनके मौजूद होने के एहसास को महसूस ज़रूर कर सकते हैं. शायद आज के माहौल में हमे सुकून देने के लिए यह एहसास ही काफी होगा . अनमोल रत्नों की इस पवित्र भूमि की पवित्र माटी से छान-बीन कर ऐसे चमकदार  हीरे-मोती हमारे सामने रखने के डॉ. पाठक की भागीरथ कोशिशों का यह पहला भाग है. दूसरा और तीसरा भाग भी वे जल्द लाने का प्रयास कर रहे हैं .
     पुस्तक के प्रारम्भ में अपने लेखकीय निवेदन में डॉ. विमल कुमार पाठक ने  लिखा है-'मुझे  उम्र के बढ़ते दौर में अपने पिता श्री सुंदर लाल पाठक से किस्से नहीं , वास्तविक जीवन के महत्वपूर्ण पात्रों , चरित्रों , चरित -नायकों , नेताओं , कलाकारों , स्वतन्त्रता-संग्राम सेनानियों , और बिलासपुर के गौरव-व्यक्तित्वों की गाथाएं सुनने को मोला करती थीं .अंग्रेजों के जमाने में  डॉ. ई. राघवेन्द्र राव को   ब्रिटेन की सरकार ने  तत्कालीन सी. पी. . एंड बरार प्रान्त (वर्तमान छत्तीसगढ़ और विदर्भ )का गवर्नर बनाया .खादी के वस्त्रों , भारतीय वेश-भूषा में रह कर उन्होंने गवर्नरी की . मोची और रेल्वे  के टी.टी. ई . सहपाठियों को उन्होंने पुलिसिया परेशानी से उबारा' . डॉ. विमल कुमार पाठक ने अपने पिता से छत्तीसगढ़ के ऐसे कितने ही महान लोगों की गौरव-गाथाएं सुनी . जिनसे उनके कवि-ह्रदय और अवचेतन पर गहरा प्रभाव पड़ा . डॉ. पाठक के लेखकीय निवेदन के अनुसार वे सन सत्तर-अस्सी के दशक में हमारे भारतीय दूर-दर्शन पर आए धारावाहिक 'कहाँ गए वे लोग' से भी काफी प्रभावित हुए , जिसमे देशभक्त सैनिकों की संघर्ष भरी गाथाओं का ह्रदय-स्पर्शी प्रस्तुतिकरण हुआ करता था. फिर बिलासपुर के पत्रकार श्री रामाधार देवांगन द्वारा  वर्ष १९९५  में वहाँ के दैनिक 'नव-भारत' में इसी शीर्षक से एक विशेष लेख-माला के प्रस्तुतिकरण ने भी डॉ. पाठक को प्रभावित किया, जिसमे श्री देवांगन ने छत्तीसगढ़ की  १३४ विभूतियों के जीवन-वृत्त को धारावाहिक प्रस्तुत किया था . इनमे से ज्यादातर बिलासपुर संभाग के थे . पाठक जी को लगा कि उन्हें भी ऐसी गौरव-गाथाएं लिखनी चाहिए , खास तौर पर उन लोगों के बारे में , जिनके बारे में वे भली-भांति जानते हैं और उनमे से कई लोगों के सम्पर्क में भी रहे हैं . वे आगे लिखते हैं-' मैंने निश्चय कर लिया कि दुर्ग , बिलासपुर , रायपुर . भिलाई , राजनांदगांव और अन्य स्थानों के गौरव-जनों पर लिखूंगा '. संकल्प-शक्ति बड़े से बड़ा काम करा लेती है . डॉ. पाठक  ने १२ अक्टूबर २००० को एक स्कूटर-दुर्घटना में घायल होने के बाद , कई बार के आपरेशनों के बावजूद , अपने शारीरिक कष्टों की परवाह किए बिना अपना यह कार्य जारी रखा.उन्होंने भी एक लेख-माला तैयार कर ली  धमतरी के हिन्दी दैनिक'प्रखर-समाचार 'के साप्ताहिक परिशिष्ट 'सप्त-रंग' में २२ सितम्बर २००७ से इसका प्रकाशन शुरू हुआ और कुल ६० किश्तें छपीं . वे कहते हैं-  शारीरिक-आर्थिक अस्वस्थता के बावजूद मैंने तय कर लिया है कि छत्तीसगढ़ के हमारे क्रांतिकारियों , शहीदों , बेदाग़ राजनीतिज्ञों , आदर्श प्रस्तुत करने वाले महान लोगों ,साहित्य, संगीत संस्कृति और विभिन्न कलाओं में पारंगत रहे लोगों , दान-वीरों , खिलाड़ियों , और धर्म-अध्यात्म क्षेत्र के अनुकरणीय लोगों पर' छत्तीसगढ़ के हीरे' शीर्षक से पुस्तक के भाग-दो और कालान्तर में भाग-तीन का लेखन और प्रकाशन मुझे करना है.
       पुस्तक के प्रथम भाग में उन्होंने  पचपन विभूतियों की प्रेरणादायक जीवनी श्रृंखला की पहली कड़ी में ठाकुर छेदीलाल बैरिस्टर की गौरव-गाथा पेश की है , जो तत्कालीन ब्रिटिश भारत में छत्तीसगढ़ के प्रथम बैरिस्टर थे और सन १९३७ में महात्मा गांधी की पेश-कश के बावजूद सी.पी .एंड बरार प्रांत के मुख्य-मंत्री का पद स्वीकार करने से यह कह कर इनकार कर दिया था कि सीमित आय में बिलासपुर के घर का खर्च नहीं चला पाता , तो मुख्य मंत्री बन कर नागपुर में रहते हुए दो-दो व्यवस्थाओं को कैसे पूरा कर पाऊंगा ? ,अगली कड़ी में पाठक जी ने पाठकों के सामने डॉ. ई. राघवेन्द्र राव की जीवनी रखी है , जो छत्तीसगढ़ की संस्कार धानी बिलासपुर के निवासी थे और जिन्हें अंगरेजी शासन के दौरान प्रथम हिन्दुस्तानी गवर्नर बनाया गया था . इसके बावजूद भारतीयता उनकी रग-रग में रची-बसी थी . संकलन में पाठक जी ने छत्तीसगढ़ के क्रांतिकारी कवि कुञ्ज बिहारी चौबे की जीवन-गाथा में उनकी तुलना बांग्ला देश के विद्रोही कवि काजी नज़रूल इस्लाम से की है . छत्तीसगढ़ का गौरव बढ़ाने वाले साहित्यकारों में डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी , डॉ. बलदेव प्रसाद मिश्र , पद्मश्री सम्मान प्राप्त  मुकुटधर पाण्डेय  ,पंडित द्वारिकाप्रसाद तिवारी 'विप्र' कोदूराम 'दलित' , भगवती लाल सेन , केशव पांडे , इतिहासकार पंडित लोचनप्रसाद पाण्डेय , ,प्यारेलाल गुप्त  , बाबू मावली प्रसाद श्रीवास्तव , स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी डॉ. खूबचंद बघेल , कमल नारायण शर्मा , महान आध्यात्मिक चिंतक स्वामी आत्मानंद , छत्तीसगढ़ की प्रथम महिला सांसद मिनी माता , प्रसिद्ध पंथी नर्तक देवदास बंजारे , दानवीर तुलाराम आर्य और  दान-दात्री  बिन्नी बाई . श्रमिक नेता शंकर गुहा नियोगी और समाज सेवी विघ्नहरण सिंह पर केंद्रित आलेख भी डॉ . पाठक की इस पुस्तक में शामिल है. उन्होंने किताब में  भारत की  कुछ ऐसी शख्सियतों से जुड़ी अपनी यादों को भी कलमबद्ध किया है ,जो छत्तीसगढ़ में तो नहीं जन्मे , लेकिन  जिन्होनें किसी अवसर विशेष पर यहाँ आकर जनता के दिलों पर अपना अमिट प्रभाव डाला . इनमे महान गायक और संगीतकार पंडित विष्णु दिगम्बर पलुस्कर . महान फिल्म अभिनेता पृथ्वीराज कपूर और पूर्व राष्ट्रपति डॉ. शंकर दयाल शर्मा की छत्तीसगढ़ यात्राओं से सम्बन्धित प्रसंग शामिल हैं.लेखक ने ऐसी विभूतियों के यात्रा-प्रसंगों  को भी अपनी किताब के ज़रिए यहाँ की माटी से जोड़ा है.
        पुस्तक का विमोचन करते हुए छत्तीसगढ़ के मुख्य मंत्री डॉ. रमन सिंह ने बहुत सही कहा कि प्रदेश के जन-जीवन से अभिन्न रूप से जुड़ी  इन सभी ज्ञात -अल्प ज्ञात महान विभूतियों की जीवन-गाथा वर्तमान पीढ़ी के साथ-साथ हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए भी प्रेरणादायक होगी. डॉ. सिंह ने यह भी कहा कि इस पुस्तक को पढ़ कर छत्तीसगढ़ को देखने और यहाँ के ऐतिहासिक, सामाजिक और सांस्कृतिक वैभव के बारे में भी बहुत कुछ जानने , समझने और सीखने का अवसर मिलेगा .राजधानी रायपुर में देव-उठनी एकादशी के दिन मुख्य मंत्री के निवास पर आयोजित इस महत्वपूर्ण पुस्तक के विमोचन समारोह में एक उल्लेखनीय बात यह भी थी कि पुस्तक में वर्णित विभूतियों की वर्तमान पीढ़ी के अनेक परिजन भी वहाँ आए थे ,जिन्हें लेखक के आग्रह पर मुख्य मंत्री ने अपने हाथों से किताब की सौजन्य-प्रतियां और  डॉ. विमल पाठक ने इनमे से प्रत्येक को श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया. विमोचन समारोह की अध्यक्षता बख्शी सृजन पीठ भिलाई नगर के अध्यक्ष श्री बबन प्रसाद मिश्र ने की . छत्तीसगढी राज भाषा आयोग के अध्यक्ष श्री श्याम लाल चतुर्वेदी , स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी और रायपुर के पूर्व लोक सभा सांसद श्री केयूर भूषण और वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. पालेश्वर प्रसाद शर्मा विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे.
    साहित्यिक प्रकाशनों के मामले में भी छत्तीसगढ़ आज कहीं से भी पीछे नहीं है.  राज्य निर्माण के बाद पिछले एक दशक में तो इसमें और भी तेजी आयी है . यह प्रदेश अब अपनी विकास-यात्रा के ग्यारहवें वर्ष में प्रवेश कर चुका है. ऐसे महत्वपूर्ण समय में यहाँ की महान हस्तियों पर खोज-पूर्ण नज़रिए से लिखी गयी किसी किताब का आना भी एक महत्वपूर्ण और यादगार घटना है. इसके लिए लेखक डॉ. विमल कुमार पाठक और पुस्तक के प्रकाशक श्री महावीर अग्रवाल निश्चित रूप से प्रशंसा के पात्र हैं. उम्मीद की जानी चाहिए कि पाठक जी की खोजी निगाहें आने वाले समय में छत्तीसगढ़ की पवित्र माटी से और भी कई बेशकीमती हीरे ढूंढ निकालेंगी , जिनके जीवन के प्रेरक प्रसंग हमारे  लिए मार्ग-दर्शक साबित होंगें .
                                                                                                                       स्वराज्य करुण

Thursday 18 November 2010

(गीत) उनका बाल बांका न होगा !

                                              भोले-भाले लोग चाहे
                                              जितना चीखे -चिल्लाएँ ,
                                              उनका बाल बांका न होगा ,
                                              जो भाग्य-विधाता कहलाए   !
                                                     
                                                       देश का सौदा करना उनका
                                                       सीधा-सादा  है  धंधा
                                                       कितनी मेहनत से पाते
                                                       अरबों -खरबों का चन्दा  !
                                                       
                                                      
                                             लूट-मार का रूपया काला
                                             उनके हाथ सुरक्षित है 
                                             झक-सफ़ेद कपड़ों के भीतर
                                             जो सौ-सौ जेब सिलावाएं  !
 

                                                           तेल घोटाला ,खेल घोटाला
                                                           अब है टू-जी स्पेक्ट्रम .
                                                            क्या कर लेगा कोई उनका
                                                            देखें किसमे कितना दम !

                                              
                                           लूट-खसोट कर जनता को
                                           सहलाएं और बहलाएं  ,
                                           उनका बाल बांका न होगा ,
                                           जो भाग्य-विधाता कहलाए !
                                         
                                                                        -   स्वराज्य करुण
                                          

Wednesday 17 November 2010

(कविता ) अंतर क्या है रिश्वत और फिरौती में ?

                                                                                              - स्वराज्य करुण

                                                 
                                                   लोकतंत्र ,पर-लोकतंत्र 
                                                   जोंकतंत्र , ठोक-तंत्र
                                                   और तमाम तरह के तंत्रों के बीच
                                                   कामयाबी के लिए
                                                   पढ़े जा रहे मन्त्रों के बीच / 
                                                   सुख-सुविधा के लिए आस-पास की
                                                   दुनिया में चल रही छीना-झपटी  देख
                                                   आज तक समझ में नहीं आया कि
                                                   इसमें सफल होने का मंतर क्या है ?
                                                   क्या कोई यह बता सकता है --
                                                   रिश्वत और फिरौती में अंतर क्या है ?
                                            
                                                   अगर कोई बंधक बना ले
                                                   आपके जायज अधिकारों को ,
                                                   बेहतर जिंदगी की
                                                   उम्मीदों को  किसी अपहरण -कर्ता आतंकी
                                                   या फिर किसी खूंखार  डाकू की तरह
                                                   और सुरक्षित लौटाने के एवज में
                                                   मांगे आपसे रूपए -पैसे ,
                                                   न मिलने पर रोक दे   लम्बे समय तक
                                                   आपके सपनों के  अंकुरण को /
                                          
                                                   उम्मीदों और सपनों की रिहाई के लिए
                                                   अपनी रही-सही ज़मीन और
                                                   रहा-सहा मकान गिरवी रखने को
                                                   हो जाएँ आप मजबूर
                                                   फिर गिरवी में मिले रूपयों से छुडाएं --
                                                   अपनी उम्मीदों को ,
                                                   जमानत पर रिहा कराएं बेगुनाह सपनो को
                                                  किसी अदृश्य हाथों की कैद से  /   
                                              
                                                   अपनी बेगुनाही का सबूत देने 
                                                   गुनहगारों के आगे रख दें अपने 
                                                   पसीने की कमाई /
                                                   अस्पतालों में करें चिरौरी डॉक्टरों की  , 
                                                   मरीज के प्राणों को मौत के चंगुल से 
                                                  बचाने के लिए दें उन्हें मुंह-माँगी रकम,
                                                  जल्दी घर लौटने भीड़ भरी  ट्रेन में टी.टी. को 
                                                  रूपए देकर खरीदें कुछ देर के लिए
                                                  पाँव रखने की जगह /
                                                 अपनी  मजबूरियों का सौदा
                                                 करने को मजबूर आप उन्हें 
                                                 देते हैं  अपना सब-कुछ  /


                                                 एक लेता है कलम की नोंक पर
                                                 दूसरा लेता है डंके की चोट पर  /
                                                 ऐसे में यह दी गयी रकम
                                               आखिर कहलाएगी क्या --रिश्वत या फिरौती ?
                                                जिसे देख कर लौट आती है आज के
                                               धृतराष्ट्रों की आँखों में  दिव्य  ज्योति  ?
                                                                                 स्वराज्य करुण
                                                             

Tuesday 16 November 2010

निर्मल ह्रदय -सा नीला आकाश कहाँ ?

                                       
                                             कहाँ मिलेगा निर्मल ह्रदय जैसा 
                                             नीला आकाश  !
                                            धुआं उगलती चिमनियों ने,
                                            रास्तों को रौंदती कारों की 
                                            काली हवा ने जैसे ढँक लिया 
                                            सूरज की रोशनी को,
                                            चंद्रमा की चांदनी को
                                            सितारों की झिलमिल को  /
                                           जैसे  पड़ी किसी माफिया की 
                                           धूर्त काली नज़र धरती माँ की 
                                           रत्न-गर्भा कोख पर और
                                           नज़रबंद कर लिए  गए 
                                           हरे-भरे जंगल ,
                                           कैद कर लिए गए हरे-भरे पहाड़  /
                                           धान के हरे-भरे मैदान 
                                           नदियाँ और खदान  /
                                          ठीक उसी तरह 
                                          छ ल-कपट की ज़हरीली हवाओं ने 
                                          प्रलोभनों के धूल भरे तूफानों ने 
                                          झूठ और फरेब के घने कोहरे ने ,
                                          भ्रष्टाचार के लगातार चल रहे 
                                          भीषण चक्रवात ने 
                                         बदनीयती के बेरहम बादलों ने 
                                         बेईमानी की मूसलाधार  बरसात ने
                                         आज के  इंसान के छोटे से
                                         दिल को  छुपा लिया 
                                         हैवानियत के  अपने विशाल
                                        आगोश में /
                                        फिर कैसे करे कोई यहाँ 
                                        किसी निर्मल ह्रदय की तलाश ?
                                        पूछ रहा धरती  से वह नीला आकाश !


                                                                              स्वराज्य करुण