Wednesday, November 17, 2010

(कविता ) अंतर क्या है रिश्वत और फिरौती में ?

                                                                                              - स्वराज्य करुण

                                                 
                                                   लोकतंत्र ,पर-लोकतंत्र 
                                                   जोंकतंत्र , ठोक-तंत्र
                                                   और तमाम तरह के तंत्रों के बीच
                                                   कामयाबी के लिए
                                                   पढ़े जा रहे मन्त्रों के बीच / 
                                                   सुख-सुविधा के लिए आस-पास की
                                                   दुनिया में चल रही छीना-झपटी  देख
                                                   आज तक समझ में नहीं आया कि
                                                   इसमें सफल होने का मंतर क्या है ?
                                                   क्या कोई यह बता सकता है --
                                                   रिश्वत और फिरौती में अंतर क्या है ?
                                            
                                                   अगर कोई बंधक बना ले
                                                   आपके जायज अधिकारों को ,
                                                   बेहतर जिंदगी की
                                                   उम्मीदों को  किसी अपहरण -कर्ता आतंकी
                                                   या फिर किसी खूंखार  डाकू की तरह
                                                   और सुरक्षित लौटाने के एवज में
                                                   मांगे आपसे रूपए -पैसे ,
                                                   न मिलने पर रोक दे   लम्बे समय तक
                                                   आपके सपनों के  अंकुरण को /
                                          
                                                   उम्मीदों और सपनों की रिहाई के लिए
                                                   अपनी रही-सही ज़मीन और
                                                   रहा-सहा मकान गिरवी रखने को
                                                   हो जाएँ आप मजबूर
                                                   फिर गिरवी में मिले रूपयों से छुडाएं --
                                                   अपनी उम्मीदों को ,
                                                   जमानत पर रिहा कराएं बेगुनाह सपनो को
                                                  किसी अदृश्य हाथों की कैद से  /   
                                              
                                                   अपनी बेगुनाही का सबूत देने 
                                                   गुनहगारों के आगे रख दें अपने 
                                                   पसीने की कमाई /
                                                   अस्पतालों में करें चिरौरी डॉक्टरों की  , 
                                                   मरीज के प्राणों को मौत के चंगुल से 
                                                  बचाने के लिए दें उन्हें मुंह-माँगी रकम,
                                                  जल्दी घर लौटने भीड़ भरी  ट्रेन में टी.टी. को 
                                                  रूपए देकर खरीदें कुछ देर के लिए
                                                  पाँव रखने की जगह /
                                                 अपनी  मजबूरियों का सौदा
                                                 करने को मजबूर आप उन्हें 
                                                 देते हैं  अपना सब-कुछ  /


                                                 एक लेता है कलम की नोंक पर
                                                 दूसरा लेता है डंके की चोट पर  /
                                                 ऐसे में यह दी गयी रकम
                                               आखिर कहलाएगी क्या --रिश्वत या फिरौती ?
                                                जिसे देख कर लौट आती है आज के
                                               धृतराष्ट्रों की आँखों में  दिव्य  ज्योति  ?
                                                                                 स्वराज्य करुण
                                                             

5 comments:

  1. बस यही फर्क है
    एक लेता है कलम की नोंक पर
    दूसरा लेता है डंके की चोट पर /
    वैसे ये दोनो जुडवां बहने हैं।
    अच्छी लगी रचना। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  2. आज आप जबरदस्त फ़ार्म में हैं !

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है! हार्दिक शुभकामनाएं!
    लघुकथा – शांति का दूत

    ReplyDelete
  4. समसामयिक रचना ,साधुवाद .

    ReplyDelete
  5. शानदार रचना। जो तुलनात्मक विवेचन किया है, आज के सन्दर्भ में उसे राजनेताओं और न्याय के मन्दिरों में बिराजमान न्यायमूर्तियों को समझने की जरूरत है। बधाई और शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete