Friday 12 November 2010

(गज़ल ) .एक ऐसी कठपुतली !

                        

                                            
                                                  
                                                 देखो जरा  आस-पास कैसा जमाना है .
                                                  निठल्लों को  घर बैठे  खीर खाना है  !

                                                  
                                                  जनता की अर्जी पर अफसर की मर्जी ,
                                                  फाइलों का टेबल पर आना और जाना है  !
                             
                                                  
                                                  पहुँच जिसकी दूर तक हो सबसे पहले ,
                                                  नज़रों ही नज़रों में उसे मुस्कुराना है !

                                                   
                                                   दफ्तर को चाहिए  एक ऐसी  कठपुतली,
                                                   ईमानदारी से जिसका झगड़ा पुराना है !
                                  
                                                    
                                                    बहुतों की  होती है  कुछ ऐसी  फितरत,
                                                    काम करने वालों की खिल्ली उड़ाना है !
                                   
                                                   
                                                    शायद ये लिखा  है देश की किस्मत में ,
                                                     कामचोरी का तो ये आलम  पुराना है  ! 

                                                   
                                                    रौब-दाब से  रहते यहाँ सारे आलसी ,
                                                    हमको तो रात-दिन  पसीना बहाना है  ! 

                                                                                          स्वराज्य करुण

                             
                               

                                   

                                     
                           
 
                              
                       

10 comments:

  1. ईमानदार पोस्ट पर हमारी प्रशंसा स्वीकारें !

    ReplyDelete
  2. बहुत-बहुत आभार, लेकिन समझ में नहीं आ रहा है कि आज ब्लॉग-जगत में इस गज़ल पर ऐसी खतरनाक खामोशी क्यों ?

    ReplyDelete
  3. सटीक लिखा है ...हर कार्यालय की बात कह दी

    ReplyDelete
  4. रौब-दाब से रहते यहाँ सारे आलसी ,
    हमको तो रात-दिन पसीना बहाना है !


    बहुत अच्छी कविता के लिए आभार .

    ReplyDelete
  5. सच्ची और सही बातें समेटी है अपनी पोस्ट में आपने ...बहुत अच्छी ग़ज़ल कही . बधाई

    ReplyDelete
  6. आपका ब्लॉग पसंद आया....इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को |

    कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर शब्द चुने आपने कविताओं के लिए..

    ReplyDelete
  8. आपकी इस सुन्दर रचना की चर्चा चर्चा मंच पर भी है!
    http://charchamanch.blogspot.com/2010/11/337.html

    ReplyDelete
  9. उत्साहवर्धक टिप्पणियों के लिए आप सबका बहुत-बहुत आभार .

    ReplyDelete
  10. निरंतर बदलते परिवेश में मानव जीवन के अंतर्विरोंधों की कटु सच्चाईयों को दर्शाती खूबसूरत और संवेदनशील प्रस्तुति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete