Tuesday 9 November 2010

(गीत) फसल काटने का मौसम है !

                                
                                             सपनों की बाती में उम्मीदों की रोशनी पले 
                                              मेहनत के दीप जलें   ,मेहनत के दीप जलें  !

                                                     खेतों से खलिहानों तक
                                                    नदियों ,पर्वत ,मैदानों तक ,
                                                    इक-दूजे का बोझ उठाते ,
                                                    इक-दूजे पर प्यार लुटाते  !

                                        जीवन की इस कठिन राह पर  मिलकर सभी चलें,
                                        मेहनत के दीप जलें ,मेहनत के दीप जलें  !

                                                फसल काटने का मौसम है ,
                                                अधिकार बांटने का मौसम है ,
                                                मालिक और मजदूर बीच अब
                                                खाई पाटने का मौसम है !
                       
                                      सुख-समता का चमके सूरज , फिर न कभी ढले,
                                      मेहनत के दीप जलें मेहनत के दीप जलें !

                                             भटके न कोई अन्धकार में ,
                                             मेरे देश में और संसार में ,
                                             कहीं न कोई वृक्ष हो सूखा ,
                                            मेहनतकश अब रहे न भूखा !
                         
                                  सबके हिस्से की खेती  हर मौसम खूब खिले  
                                  मेहनत के दीप जलें ,मेहनत के दीप जलें  !
                                         
                                            हर फूल खुशी से महक उठे ,
                                            हर चिड़िया चहक-चहक उठे ,
                                            हो भ्रमर -गीत सब राहों में
                                            फुलवारी की बांहों में !
                         
                               हर आंगन  फूले-फले , इस नीले नभ के तले ,
                               मेहनत के दीप जलें  ,मेहनत के दीप जलें  !
                                                                      स्वराज्य करुण
                            
                                         

                                       

10 comments:

  1. वाह, बहुत बढ़िया।...गीत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  2. फसल काटने का मौसम है ,
    अधिकार बांटने का मौसम है ,
    मालिक और मजदूर बीच अब
    खाई पाटने का मौसम है

    सुख-समताका चमके सूरज , फिर न कभी ढले,
    मेहनत के दीप जले, मेहनत के दीप जलें !
    बहुत सुन्दर सार्थक सनेदेश देते गीत के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  3. टिप्पणियों के लिए आप सबका आभार .

    ReplyDelete
  4. सुन्दर संदेश देती रचना।

    ReplyDelete
  5. मेहनत के दीप मेहनतकश के घर ही जलें तो बेहतर हो !
    सुन्दर कविता !

    ReplyDelete
  6. बहुत प्यारा गीत लगा - आभार

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना .बधाई !

    ReplyDelete
  8. मासानां मार्गशीर्षो5हं, मासों में सर्वोत्‍तम अगहन आसन्‍न है.

    ReplyDelete
  9. वन्दना जी , अली साहब, पलाश जी, अशोक जी और राहुल जी को टिप्पणियों के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद .

    ReplyDelete