Saturday, November 6, 2010

(कविता ) स्वागत है ओबामा जी !

                                              आईए, आईए  स्वागत है,-
                                              भारत की धरती पर स्वागत है आपका ओबामा जी /
                                              हम भारत वालों को भूलने की
                                              आदत है ,पर आपको तो
                                              याद होगा - आपकी धरती पर
                                              हमारे आज़ाद मुल्क के
                                              बड़े -बड़े स्वनाम-धन्य
                                              नेताओं का उतारा गया था पजामा जी /
                                              फिर भी कोई बात नही ,
                                              बेफिक्र और बेख़ौफ़ आईए  ओबामा जी /
                                              हम लोग ऐसा कुछ भी नहीं करेंगे /
                                              अपने अतिथि का चीर नहीं  हरेंगे /
                                              हमारे लिए तो हर मेहमान होता है भगवान
                                              भले ही वह हमें खिलाए ज़हर
                                              हम उसे खिलाते हैं स्वादिष्ट  पकवान
                                              हम तो  आपको और आपके  वतन से
                                              आने वाले हर ताकतवर इंसान को 
                                              मानते हैं अपना चाचा और मामा  जी/
                                             आप तो हमारे लिए हैं 'कलि -युगी कृष्ण'
                                              हम हैं आपके लिए सुदामा जी  / 
                                              फिर वैसे भी आप कहाँ पहनते हैं पजामा जी /
                                              आप तो हैं सूट -पेंट और टाई वाले ,
                                              बेगुनाहों को मारने के लिए
                                             चल रही इराक  की लम्बी लड़ाई वाले /
                                             भले ही दुनिया के किसी कोने से
                                             आपके मुल्क की हज़ारों मील की दूरी है
                                             लेकिन उसकी  जय बोलना आज हर मुल्क की मजबूरी है /
                                             आप समझदार हैं ,
                                             आपका मुल्क सौदागरों का सरदार हैं ,
                                             भला  आपके मुल्क से कौन ले सकता है पंगा ,
                                             खुदा भी उससे डरता है जो है .....(?).
                                                                       स्वराज्य करुण

15 comments:

  1. हा हा हा मारा पापड़ वाले को।
    धो दिया आपने ओबामा जी
    भले ही ये राष्ट्रपति बन गए
    पर हैं तो ये हमारे मामा जी

    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. परंपरा निभाते हुए अतिथि का चीर न हरें, वह ''.....(?).'' न हो जाय.

    ReplyDelete
  3. आख़िरी लाइन पर ढेर सारी मुबारकबाद :)

    ReplyDelete
  4. :) इसे कहते हैं भिगो भिगो कर मारना ... बहुत तीखा और सटीक व्यंग ...

    ReplyDelete
  5. व्यंग्य से भरपूर किन्तु कडवी सच्चाई , बहुत खूब साहब
    sparkindians.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. सुन्दर अभिव्यक्ति के लिए बधाई .

    ReplyDelete
  7. सुन्दर व्यंग्य बहुत खूब

    ReplyDelete
  8. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 09-11-2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    ReplyDelete
  9. बहुत सटीक व्यंग ... काश !! ओबामा ये पढ़ पाता... :)

    ReplyDelete
  10. बेहद सटीक व्यंग्य !
    चर्चा मंच के माध्यम से आप को जानने का मौका मिला.

    ReplyDelete
  11. kya sateek vyang hai!
    antim pankti kuch na kahte hue bhi sabkuch kah jati hai!!!

    ReplyDelete