Friday, October 15, 2010

(गीत ) जी-भर कॉमन वेल्थ मनाया !

                                          हेल्थ बनाया , वेल्थ बनाया ,जी-भर कॉमन वेल्थ मनाया .
                                          बेईमानों के गुप्त बैंक में जनता का धन खूब समाया  !
 
                                                     झुग्गीवासी सब नर-नारी
                                                     हुए लापता कहाँ भिखारी ,
                                                     राज-पथों पर रास रचाएं
                                                     नेता-अफसर भरकम-भारी !

                                          अपनी-अपनी जेबें भरकर जब जी चाहा जाम टकराया ,
                                          हेल्थ बनाया ,वेल्थ बनाया ,जी-भर कॉमन वेल्थ मनाया

                                                         ऐसे-ऐसे  खेल- खिलाड़ी ,
                                                        जनता समझ न पाए बिचारी,
                                                        लूट -मार  का हुआ तमाशा ,
                                                         मालामाल हुआ व्यापारी !
       
                                     चार रूपए के चम्मच पर भी चार हजार का बिल  जो बनाया ,
                                     हेल्थ बनाया ,वेल्थ बनाया ,जी-भर कॉमन वेल्थ मनाया !

                                                      कॉमन मतलब साझेदारी
                                                     मिल  गयी सबको  हिस्सेदारी ,
                                                     नए सजेंगे बाग-बंगले,
                                                     नयी नवेली होगी गाड़ी !

                                    महारानी के राजमुकुट पर  भारत माँ का ताज गंवाया
                                    हेल्थ बनाया ,वेल्थ बनाया , जी -भर कॉमन वेल्थ मनाया !                                               
                                                   जाने किनके हैं ये बंदे
                                                   उलटे-पुल्टे इनके धंधे .
                                                   देख कर भी अनदेखे हैं
                                                   आँखों वाले प्रहरी अंधे !

                            छल-कपट से भरे जगत में  यह सब लक्ष्मी जी की माया ,
                            हेल्थ बनाया ,वेल्थ बनाया ,जी -भर कॉमन वेल्थ मनाया !

                                              अरबों -खरबों लूट ले गए
                                              फिर भी उनका कुछ न बिगड़ा,
                                              सब हैं अपने लोग वहां जब
                                             फिर काहे का झंझट -झगडा !

                                दोनों हाथों में है लड्डू , चाहे दांया हो या बांया
                               हेल्थ बनाया , वेल्थ बनाया , जी-भर कॉमन वेल्थ मनाया !
                                                   
                                                                                                स्वराज्य करुण
                                                                                                   16/10/10

6 comments:

  1. कामन वेल्थ है जी--सामुहिक धन
    इस्तेमाल करने का अधिकार है इनको:)

    ReplyDelete
  2. ... बहुत सुन्दर ... बेहतरीन रचना !

    ReplyDelete
  3. कॉमन मतलब साझेदारी
    मिल गयी सबको हिस्सेदारी ,
    नए सजेंगे बाग-बंगले,
    नयी नवेली होगी गाड़ी

    sateek war.... bahut sahi kataksh...

    ReplyDelete
  4. अरे वाह साहब, आप भी ब्लॉग जगत पर मौजूद हैं , गुड है.
    देख कर ख़ुशी हुई .

    ReplyDelete
  5. बढिया व्यंग !

    ReplyDelete
  6. चारो तरफ शोर मचा हैं, कॉमन वेल्थ में गोल्ड भरा हैं.
    देश कि जनता सो चुकी हैं, नेता सारे भाग रहे हैं,
    अपना -अपना हिस्सा सब मांग रहे हैं ,
    मागने के लिए सरकार पर दबाव बना रहे हैं.

    ReplyDelete