Thursday, October 28, 2010

(कविता ) हार गए दलित और जीत गया दबंग !

                         अब नज़र आती नहीं  ताल में तरंग ,
                         मदहोशी के आलम में सभी हैं मतंग !

                         अजब तेरी दुनिया के गजब  रंग-ढंग ,
                         रोना और हंसना भी चले संग -संग  !

                         सच हुआ नीलाम अब कहाँ सत्संग ,
                         देख कर  नज़ारा हम तो  रह गए दंग  !

                          हत्यारा भी सम्मानित हुआ देखिए  ,
                          डोर से कट गयी उम्मीद की पतंग !

                         न्याय और अन्याय में यह कैसी जंग,
                         हार गए दलित और जीत गया  दबंग !

                          नीति और नीयत की बात मत करो ,
                          जब कभी आए कोई   ऐसा प्रसंग !

                                                  - स्वराज्य करुण

6 comments:

  1. बहुत बढ़िया ,बधाई !

    ReplyDelete
  2. रोचक और प्रभावी दोहे.

    ReplyDelete
  3. सच हुआ नीलाम अब कहाँ सत्संग ,
    देख कर नज़ारा हम तो रह गए दंग !
    satya vachan!
    sundar prastuti!!

    ReplyDelete
  4. नीति और नीयत की बात मत करो ,
    जब कभी आए कोई ऐसा प्रसंग !

    सटीक बात कही है ..सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  5. दबंग दबंग दबंग
    दो करोड़ का दबंग

    जीतना ही था।

    ReplyDelete
  6. हाहाहा...खूब !

    ReplyDelete