Tuesday 26 October 2010

(व्यंग्य कविता ) लाख टके का सवाल !

                कमाल है ,धमाल है
                लाख टके का  सवाल है .
                 कौन यहाँ दानी और  कौन
                 दलाल है  !
                 भ्रष्टाचार के खिलाफ
                 देश भर में बरती जा रही
                 सतर्कता का ये हाल है ,
                 सतर्कता अधिकारी भी
                 मालामाल है !
                 लूट-खसोट के इस 
                 बाज़ार में ,
                 जिसकी है  जितनी ताकत
                 उसके बटोरने के लिए
                 उतना ही भरपूर माल है !
                 चतुर-सुजान बन रहे
                 रातों-रात अमीर ,
                 बाकी सब कंगाल हैं  !
                 दोस्तों ! आखिर ये 
                 किसकी चाल है  ?
                 भेड़िये के बदन में
                 भेड़ की खाल है !
                 किसी के घर बरस रहा
                 सोने का सावन ,
                 कहीं भयानक अकाल है !

                                  स्वराज्य  करुण
               

                   

              
      

5 comments:

  1. 2/10

    बहुत हलकी रचना

    ReplyDelete
  2. देश का यही हाल है.

    ReplyDelete
  3. जिसकी है जितनी ताकत
    उसके बटोरने के लिए
    उतना ही भरपूर माल है !
    हमारे देश की दशा का सही सही बखान किया .....स्थिति में सुधार की बहुत आवश्यकता है
    अच्छी रचना

    ReplyDelete
  4. जबरदस्त !
    उस्ताद जी की चिंता मत कीजियेगा :)

    ReplyDelete