Monday 18 October 2010

(गीत) कॉमन वेल्थ का वंदे मातरम !

                                             खेल ख़तम ,पैसा  भी हजम,
                                            ,ठगे -ठगे से रह गए हम ,
                                             वन्दे मातरम ,वन्दे मातरम !

                                            कॉमन वेल्थ के नाम कैसी
                                            लूट मचाई डाकुओं ने ,
                                            बेरहमी से देश को काटा ,
                                            बेईमानी के चाकुओं ने !

                                             कर लो जो भी करना इनका,
                                             देखें किसमे  कितना दम ,
                                            वन्दे मातरम,वन्दे मातरम !

                                            चार शब्द के थीम सॉन्ग पर
                                            पांच करोड़ का दाम लगाया ,
                                             नहीं चला तो माफी माँगी ,
                                            फिर भी रूपए नहीं लौटाया !

                                            देखो ये कितना बेशरम ,
                                            खेल ख़तम, पैसा भी हजम ,
                                            वन्दे मातरम, वन्दे मातरम !
                                       
                                          अफसर-नेता खाली करके ,
                                          चले गए सब अलमारी ,
                                          बचे-खुचे भी चले जा रहे ,
                                          चुपके से चलेंगे कलमाड़ी !

                                          वतन लुट गया, किसको गम ,
                                          खेल ख़तम, पैसा भी  हजम 
                                          वन्दे मातरम, वन्दे मातरम ,
                                        
                                                                स्वराज्य करुण
                                     

7 comments:

  1. Vah..
    कर लो जो भी करना इनका,
    देखें किसमे कितना दम ,
    वन्दे मातरम,वन्दे मातरम

    ReplyDelete
  2. आदरणीय सर, कामन-वेल्थ की हकीकत का सही और प्रभावी चित्रण. आपके विचारों से शतप्रतिशत सहमत-बालमुकुन्द

    ReplyDelete
  3. 2/10

    साधारण लेखन
    नकारात्मक पोस्ट

    ReplyDelete
  4. आज फिर शतक मार कर नाबाद रहे आप !

    ReplyDelete
  5. बतरस, निन्‍दा रस से लबालब.

    ReplyDelete
  6. वन्दे मातरम ! वन्दे मातरम !! वन्दे मातरम !!!

    ReplyDelete
  7. ए आर रहमान को शर्म आनी चाहिए
    जिस देश का नमक खाया है
    उसके साथ नमक हलाली तो करनी चाहिए।
    इसके थीम सांग से लाख गुना बेहतर गीत बना कर दलेर मेंहदी ने मुफ़्त में दे दिया। जिसे खुले दिल से लोगों ने सराहा और अपनाया।
    इसे कहते हैं देश भक्ति का जज्बा।
    दलेर मेंहदी को हम सैल्युट करते हैं।

    ReplyDelete