Friday, October 15, 2010

यहाँ तो हर इन्साफ का मंदिर . !

                              जीवन का मकसद खो गया उन्मादों की भीड़ में ,
                              दिशाहीन हो गए हैं  सपने संवादों की भीड़ में  !

                              स्याह -सुरंगों में गायब सूरज आखिर कब आएगा  ,
                              हर बार हम तो छले गए है वादों की भीड़ में !

                              खेत-खेत और जंगल-जंगल जिसे खोजने आए हैं ,
                              सावन का वो सरगम गायब सूखे भादों की भीड़ में !

                              बीते दिन की  बात करोगे तो कोई शुभ-लाभ न होगा  ,
                               इसीलिए अब और न उलझो तुम यादों की भीड़ में !

                              हुए हैं तुम पे ज़ुल्म कई पर किसे कहोगे अपनी कहानी ,
                              यहाँ तो हर इन्साफ का मंदिर अपराधों की भीड़ में !

                             खोई मंजिल को  पाने की अगर चाहना बाकी है ,
                             तो फिर तुम अब और न भटको फरियादों की भीड़ में !                                               
                                                           
                                                                                    स्वराज्य करुण

7 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति .

    श्री दुर्गाष्टमी की बधाई !!!

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन ख्यालों से सजी कविता ! बधाई !

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  4. आत्मीय टिप्पणियों के लिए आप सबका आभार .

    ReplyDelete