Saturday, October 9, 2010

(गीत ) कौन उठाए खतरे बोलो !

                                     कौन उठाए खतरे बोलो ,कौन सहे आतंक ,
                                     नन्हीं चिड़ियों को मारे है बिच्छुओं ने डंक  !
                                           
                                             खुली हवाओं पर लगा है
                                             साजिशों का पहरा ,
                                             संगीनों से इस चमन का
                                             ज़ख्म हुआ है गहरा  !

                                   सूरज के माथे पर जाने यह कैसा कलंक ,
                                  नन्हीं चिड़ियों को मारे है बिच्छुओं ने डंक !

                                             शहर झूमता मदहोशी में 
                                             गाँव भी बेहोश ,
                                             किस पर डालें जिम्मेदारी
                                             किसका है यह दोष !

                             कोई बजाये ढपली अपनी ,कोई बजाये शंख ,
                              नन्हीं चिड़ियों को मारे है बिच्छुओं ने डंक 1

                                        आज़ादी भी कैद हो गयी
                                         बर्बादी के जाल में ,
                                        चोर-लुटेरे खूब खेलते  
                                        अपने  शॉपिंग-मॉल में !
                           
                               राजाओं की मौज-मस्ती देख रहा है रंक ,
                              नन्हीं चिड़ियों को मारे है बिच्छुओं ने डंक !

                                      बेचैनी में आम जनता
                                      दिल में लेकर आग ,
                                      फिर भी उनके रंग -महल में
                                      हर मौसम में फाग !

                          जिनके सपनों में लूट का व्यापार चले निः शंक,
                          नन्हीं चिड़ियों को मारे है बिच्छुओं ने डंक !

                                                                         स्वराज्य करुण                              

7 comments:

  1. बहुत खूबसूरती के साथ शब्दों को पिरोया है इन पंक्तिया में आपने .......

    थोडा समय यहाँ भी दे :-
    आपको कितने दिन लगेंगे, बताना जरुर ?....

    ReplyDelete
  2. जिनके सपनों में लूट का व्यापार चले निः शंक,
    नन्हीं चिड़ियों को मारे है बिच्छुओं ने डंक !

    आपने पीड़ा का वास्तविक चित्रण किया है।
    सदियों से यही होते आया है।

    आभार

    ReplyDelete
  3. आज़ादी भी कैद हो गयी बर्बादी के जाल में , चोर-लुटेरे खूब खेलते अपने शॉपिंग-मॉल में !

    सही कहा, आजकल की स्थिति का यथार्थ ।

    ReplyDelete
  4. बहुत दिनों बाद आपके पुराने तेवर दिखे, स्‍वागत.

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति ...अच्छा कटाक्ष किया है

    ReplyDelete
  6. aadarniya sir , aapki kavitaon ki punah punah prashansha k liye shabdon ki kami mahsus kar raha hun . behad sundar aur dil ko jhakjhorne wali kavita .saadar-BALMUKUND

    ReplyDelete
  7. सुन्दर कविता ! बेहतर ख्याल !

    ReplyDelete