Thursday 7 October 2010

(गीत) बीच धार में !

              ठहरी-ठहरी नदिया लगती ,  गहरा-गहरा पानी ,
               डूब रही है बीच धार में युग की नयी जवानी  !


                      कहाँ है ममता के फूलों के
                     किसी चमन -सा हिरदय हमारा
                     जीवन की यात्रा में राह से
                     हुआ नहीं परिचय हमारा !

       
              हर मुकाम पर दिशा भूलने वाले हम सैलानी ,
               डूब रही है बीच धार में युग की नयी जवानी !

             

                   प्रवचन बहुत सुना हमने पर
                   प्रवंचना से मुक्त हुए क्या ,
                   उपदेशों की प्रयोगशाला से
                   अब तक संयुक्त हुए क्या !


       
          जब भी अवसर आया अपनी रक्षा की ही ठानी ,
           डूब रही है बीच धार में युग की नयी जवानी !


                                                        स्वराज्य करुण

11 comments:

  1. त्वरित टिप्पणी के लिए मनोज जी आपको बहुत-बहुत धन्यवाद .

    ReplyDelete
  2. बड़ी गहरा सन्देश देती कविता .....वर्तमान परिपेक्ष्य में प्रासंगिक है !

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी प्रस्तुति। नवरात्रा की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  4. प्रवचन और प्रवंचना वाला अंश ज्यादा बेहतर लगा !

    ReplyDelete
  5. आत्मीय प्रतिक्रिया के लिए आप सबका हार्दिक आभार .

    ReplyDelete
  6. डूब रही है बीच धार में युग की नयी जवानी

    बेहतरीन पोस्ट .

    नव-रात्रि पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  7. प्रशंसनीय गीत...वर्तमान परिवेश का अच्छा चित्रण।

    ReplyDelete
  8. स्नेहिल टिप्पणियों के लिए आप सबका हार्दिक आभार. शारदीय-नवरात्रि की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  9. aadarniya sir ,punah , ek bahut sundar kavita ,prashansha kay yogya- BALMUKUND

    ReplyDelete