Monday, August 8, 2011

गोपनीय सत्य-निष्ठा !

                                        जनता की जेब पर 
                                        हर दिन ,हर पल
                                        लग रही है
                                        ज़ोरदार चपत  /
                                        
                                         उनके महलनुमा बंगले के
                                         पिछले दरवाजे से
                                         बिचौलिए कर रहे  लाखों-करोड़ों ,
                                         अरबों-खरबों की खपत /
                                        
                                          गजब है तमाशा,
                                          मायावी भाषा,
                                          सूचना के अधिकार और
                                           पारदर्शिता के इस युग में भी
                                           श्रीमानजी लेते हैं -
                                           'सत्य-निष्ठा' से
                                           पद और गोपनीयता की शपथ  /
                                           

                                            उनके 'सत्य' की निष्ठा
                                            वाकई 'गोपनीय 'होती है ,
                                            वह  आखिर करें भी क्या
                                           अगर उनके सामने
                                            देश की सच्चाई रोती है,
                                   
                                         
                                           इसीलिए तो
                                          जनता के बीच वह 
                                          पूरी 'गोपनीयता' से सच बोलते हैं ,
                                          महंगाई कम करने के नाम पर
                                          रंग-बिरंगे वायदों के
                                          खिलौनों का पिटारा खोलते हैं /

                                       
                                         न हो सका पूरा कोई वायदा                                    
                                         तो कह देंगे -
                                         खिलौना था , टूट गया
                                         क्या हुआ जो
                                         कोई वोटर रूठ गया  /

                                       
                                         आएगा मौसम मतदान का
                                         तो उसे मना लेंगे
                                         नोट से वोट खरीदकर
                                         काम अपना  हम  बना लेंगे /
                                                                            स्वराज्य करुण

9 comments:

  1. बेहतरीन कटाक्ष्।

    ReplyDelete
  2. वाह वाह बहुत ही जबरदस्त लिखा है आपने

    ReplyDelete
  3. आएगा मौसम मतदान का
    तो उसे मना लेंगे
    नोट से वोट खरीदकर
    काम अपना हम बना लेंगे /
    सही कहा स्वराज जी बिलकुल सही

    ReplyDelete
  4. वाह बहुत ही जबरदस्त लिखा है आपने

    ReplyDelete
  5. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो
    चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  6. सत्य निष्ठा की शपथ पर कायम रहते हैं।
    लेन-देन की जानकारी किसी को नहीं देते हैं।

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन प्रस्तुती....

    ReplyDelete