Monday 17 January 2011

कितनी ज़मीन लेकर जाओगे अनंत यात्रा में ?

                                                             -  स्वराज्य करुण
                                हे राजन ! तुम और तुम्हारे
                                दरबारी क्या लेकर आए थे
                                इस दुनिया में और
                                क्या लेकर जाओगे यहाँ से ?
                                कहाँ से आए थे
                                और कहाँ जाना है ?
                                इस मासूम सवाल का भी 
                                भला  है कोई ठौर ठिकाना ?
                                अनंत यात्रा से आए थे और
                                अनंत यात्रा में है जाना /
                                फिर क्यों हर कोई 
                                 देश को लूट कर लगातार
                                 भर रहा है  अपना खज़ाना  ?
                                 कहीं कोई हज़ारों -हज़ार करोड
                                 रूपयों का गोपनीय बैंक बैलेंस
                                 बना रहा है ,
                                 कहीं कोई नादान किसानों को,
                                 भोले-भाले गाँवों को
                                 उजाड़ कर शिंकजे में दबा रहा है
                                 हज़ारों एकड़ ज़मीन /
                                 हे राजन ! किसी इंसान के
                                 मरने पर अगर उसे दफनाना
                                 ज़रूरी हो  तो चाहिए कितनी ज़मीन ?
                                 दो गज से ज्यादा तो नहीं !
                                 मरने पर अगर किसी को
                                 जलाया जाए शमशान में
                                 या फिर किसी विद्युत शव-दाह गृह में
                                 तो वह  हो जाएगा धुंआ -धुंआ और
                                 उतनी भी ज़गह नहीं लगेगी !
                                 फिर क्या करोगे जनता को लूट कर
                                 बटोरी गयी ज़मीन की इस सल्तनत का
                                 घपलों -घोटालों की
                                 भारी -भरकम दौलत का ?
                                 क्या करोगे रिश्वत और कमीशन की
                                 ज़हरीली  प्याली से भरी अपनी इस सियासत का ?
                                  हे राजन ! कितनी ज़मीन और कितनी दौलत
                                  लेकर जाओगे तुम और तुम्हारे दरबारी
                                  अनंत यात्रा में ?
                                  हे राजन !  क्या कोई ज़वाब है तुम्हारे पास ?
                                                                                - स्वराज्य करुण                          
                                                                                                                                 

9 comments:

  1. @अनंत यात्रा में?

    थोड़ा रुकिए!
    जरा कफ़न में जेब लगवा लूँ तो कहुँ।

    ReplyDelete
  2. खुद ही जवाब बन रहे हर सवाल.

    ReplyDelete
  3. सशरीर जाने की गारंटी दीजियेगा तो सोच के बताऊंगा :)

    ReplyDelete
  4. वर्तमान राजनैतिक परिस्थिति पर पुचकारता हुआ व्यंग्य,
    शायद इन सवालों के जवाब अनंत काल तक न मिले।
    अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  5. हर इन्सान के लिए विचारणीय प्रश्न .....

    ReplyDelete
  6. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना आज मंगलवार 18 -01 -2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/2011/01/402.html

    ReplyDelete
  7. राजन अनंत यात्रा की तैयारी नहीं करते ....बहुत सुन्दर रचना ..

    ReplyDelete
  8. ना ही कोइ साथ लाता है और ना ही कुछ ले कर जाता है |संचय की प्रव्रत्ति रखने वालों को सन्देश देती अच्छी पोस्ट |बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  9. आपने तो प्रश्नों का तूफ़ान ला दिया है. बहुत सुंदर कविता. समस्या को अच्छी तरह से पेश किया है कविता में.
    बधाई स्वीकारें.

    रचना

    ReplyDelete