Tuesday 30 August 2011

विघ्नहर्ता से एक निवेदन !

                                         
                                         
                                                        हे विघ्न-विनाशक
                                                        गणेश जी महाराज !
                                                        सुन लीजिए हमारी विनती आज !
                                                        आ रहे हैं आप ,
                                                        बहुत-बहुत स्वागत है,
                                                        कुछ निवेदन करने
                                                        हम आपके शरणागत हैं !
                                          
                                                        आप तो हैं विघ्नहर्ता
                                                        पर  हैं  जो आपके  कार्यकर्ता ,
                                                        बैठाकर आपको
                                                        सड़कों के  किनारे ,
                                                        लगाते हैं जो भक्ति के नारे ,
                                                        घेर कर पंडाल से आधी सड़क ,
                                                        डालते  हैं विघ्न यातायात में ,
                                                        विघ्नहर्ता के नाम पर
                                                        बन कर विघ्नकर्ता ,
                                                        कर्ण-छेदक संगीत से
                                                        करते हैं सबकी नींद हराम
                                                        आधी रात में  !
                                        
                                                       हे विघ्न-विनाशक !
                                                       आप तो विद्या और
                                                       बुद्धि के दाता हैं ,
                                                       दीजिए इन्हें भी 
                                                       दान में कुछ ज्ञान ,
                                                       करें आपकी पूजा ज़रूर ,
                                                       लेकिन राह चलते लोगों को
                                                       और अपने मोहल्ले को 
                                                       मचाकर धमाल 
                                                       मत करें परेशान !
                                                               -- स्वराज्य करुण

Monday 29 August 2011

इन्हें भी तो जोड़ो जन-लोकपाल में !

                     दुनिया  उम्मीद पर  ही टिकी होती है.   हमें उम्मीद करनी चाहिए कि असत्य . अहंकार ,अत्याचार और भ्रष्टाचार पर आधारित यह समाज व्यवस्था बहुत ज़ल्द बदल जाएगी . अन्ना जी का  अहिंसक जन-आंदोलन ज़रूर  हमारे देश के संदर्भ में था, लेकिन इस  शांतिपूर्ण क्रान्ति का सन्देश पूरी दुनिया में गया.
        आज़ादी के बाद की हमारी पीढ़ी को इतिहास के पन्नों में दर्ज महात्मा गांधी के सत्याग्रह  और सविनय अवज्ञा आंदोलनों की याद आने लगी. आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जाने के चौंसठ साल बाद उन्हीं के बताए मार्ग पर चल कर अन्ना जी ने अन्याय के खिलाफ आंदोलन के  जरिये देश को  अहिंसा का रास्ता दिखाया. अन्याय का ही दूसरा नाम है भष्टाचार. इससे पीड़ित जनता को अन्ना जी ने एकजुट होने की आवाज़ दी .लोग साथ जुड़ते गए और कारवाँ बनता गया . पूरा भारत अन्ना जी के साथ खडा हो गया . देश के व्यवस्थापकों को उनकी आवाज़ सुननी पड़ी .,लेकिन परिणाम कुछ खास नहीं आया. जन-लोकपाल क़ानून की मांग पर व्यवस्थापकों के बीच अभी  केवल सैद्धांतिक सहमति बनी है, व्यावहारिक सहमति कब होगी  और इसे सिद्धांत रूप में कब अपनाया जाएगा , यह भविष्य के बहुत भीतर है,जिसे कोई नहीं देख पा रहा है.
         प्रधान मंत्री और न्यायपालिका को और सांसदों को  इसके  दायरे में लाने की मांग पर संसद की  कोई सहमति बनी या नहीं , इस बारे में भी अन्ना का अनशन समाप्त होने तक कोई खबर साफ़ तौर पर खबरिया चैनलों के पर्दों पर नज़र नहीं आयी . छोटे सरकारी कर्मचारियों को लोकपाल के दायरे में ज़रूर लाना चाहिए ,लेकिन बड़ी मछलियों के लिए कौन सा जाल होगा ?  सरकारी ,देशी और विदेशी अनुदान से चलने वाले समाज-सेवी संगठनों को,  निजी क्षेत्र के उद्योग-व्यापार जगत को , निजी शिक्षा संस्थाओं को ,निजी अस्पतालों को और स्वयम को लोकतंत्र का चौथा खम्भा मानने वाले मीडिया संस्थानों को भी जन-लोकपाल क़ानून के दायरे में क्यों नहीं होना चाहिए ? क्या ये सभी इतने पाक-साफ़ हैं कि इन्हें किसी कानूनी बंधन की ज़रूरत नहीं है ? 
                                                                                                   -  स्वराज्य करुण 
     








    

Sunday 28 August 2011

बहुरुपिया भ्रष्टाचार : एक गम्भीर चुनौती

                          इसमें कोई शक नहीं कि  अन्ना जी के अनोखे ,अहिंसक और ऐतिहासिक जन-आंदोलन ने
   देश की जनता को कुछ दिनों के लिए भावनात्मक रूप से एकजुट तो कर ही दिया था, लेकिन सवाल ये है कि देशवासियों की यह  एकता क्या आगे भी कायम रहेगी ?
      यह सच है कि देश में भ्रष्टाचार की रफ़्तार आज महंगाई की रफ्तार से भी ज्यादा तेज हो गयी  है. भ्रष्टाचार चरम सीमा पर पहुँच गया है. उसके अनेक रूप हैं. रुपयों के दम पर फलने-फूलने और दौड़ने वाला भ्रष्टाचार दरअसल एक बहुरुपिया है. उसके कई रूप हैं. वह कभी अस्पतालों में तड़फते मरीजों के सामने उनके प्राणों की सौदेबाजी करते डॉक्टर के रूप में मौजूद रहता है, तो कभी कल बनी करोड़ों की ताजा-तरीन सड़क पर आज ज़ख्मों की तरह उभर आए खतरनाक गड्ढों के रूप में. कभी रेलवे स्टेशनों में मुसाफिरों से सीटों का सौदा करते टिकट -चेकर के रूप में,तो कभी स्कूल-कॉलेजों में बच्चों के दाखिले के लिए लाखों रूपयों की फीस वसूलते मैनेजमेंट के रूप में .ऐसा भी नहीं है कि भ्रष्टाचार केवल सरकारी तन्त्र में है. उसके बाहर भी वह कई मुखौटों में हमारे सामने मौजूद रहता है और हम उसका कुछ भी नहीं बिगाड़ पाते .यह बहुरुपिया भ्रष्टाचार देश के सामने सबसे गम्भीर चुनौती बनकर खड़ा है
        मेडिकल बाज़ार में एक ही बीमारी की एक दवा कई अलग-अलग नामों से अलग-अलग कीमतों में बिकती है. डॉक्टर सस्ती के स्थान पर अपने कमीशन की लालच में मरीज को महंगी दवा की पर्ची थमा देते हैं और मरीज उसे खरीदने को मजबूर हो जाता है. देश में हजारों-लाखों  युवा  इंजीनियर बेकारी का दर्द झेल रहे हैं, जिन्होनें बड़ी हसरतों के साथ इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की थी, लेकिन बेरहम भ्रष्टाचार ने उन्हें बेरोजगारी के चक्रव्यूह में घेर लिया है.सिफारिश और पहुँच के आधार पर किसी सौभाग्यवान को नौकरी मिल जाए,तो बात अलग है,  सरकारी दफ्तरों में निक्कमे ,अयोग्य लेकिन जुगाड़ में माहिर लोगों की  पदोन्नति हो जाती है और कर्तव्यनिष्ठ लोग मन मसोस कर रह जाते हैं . खेतों में लोहे-लक्कड़ के विशाल कारखाने खड़े करके कृषि-उत्पादन को कम करते जाना भी एक तरह का गम्भीर भ्रष्टाचार है. केवल दो-चार सौ प्रतियां छापकर  अपने अखबार की प्रसार संख्या हज़ारों में दर्शाने और उस आधार पर सरकारी और निजी क्षेत्र की संस्थाओं से लाखों रुपयों का विज्ञापन लेने वाले लोग क्या स्वयं को सदाचारी कह सकते हैं ? मिलावटी मिठाई, मिलावटी दवा , मिलावटी दूध , ज़हरीले रंगों से रंगी सब्जियां बेचना भी भ्रष्टाचार का एक भयानक रूप है.इस बहुरुपिया भ्रष्टाचार से क्या जन-लोकपाल जैसा कोई क़ानून अकेले निपट पाएगा ?
       इस क़ानून की मांग को लेकर अन्नाजी ने जनता को एकजुट ज़रूर कर दिया , लेकिन जनता की यह  एकता कहीं क्षणिक भावुकता बन कर न रह जाए, वह चिर स्थायी हो , तभी जन-लोकपाल का यह जन-आंदोलन सार्थक होगा .दरअसल जनता के रूप में हमारी स्मरण-शक्ति वैसे भी काफी कमजोर  है.  बोफोर्स तोप और पशुचारे के घोटाले को हम लगभग भूल गए हैं .एक साल से भी कम अरसे में उजागर हुए कॉमन-वेल्थ और टू-जी स्पेक्ट्रम घोटालों की यादें भी अब धुंधली होती जा रही है. ऐसे में क्या कोई अकेलाजन-लोकपाल  क़ानून   भ्रष्टाचार को रोक पाने में कामयाब हो पाएगा ?जन-लोकपाल का अपना महत्व हो सकता है, लेकिन हमें यह भी याद  रखना चाहिए कि  देश में  सामाजिक-आर्थिक अपराधों  की रोकथाम के लिए कानूनों की एक लंबी सूची पहले से उपलब्ध है , कलमाडी, कनीमोझी और हसन अली जैसे लोग इन्हीं कानूनों के तहत जेल की हवा खा रहे हैं . इन्हीं कानूनों की लम्बी फेहरिस्त में अगर जन-लोकपाल के रूप में एक और क़ानून जुड भी जाएगा ,तो  भविष्य में कोई आर्थिक अपराधी पैदा नहीं होगा ,क्या इसकी कोई गारंटी है ? वास्तव में भ्रष्टाचार का फैलाव राष्ट्रीय स्तर पर है . उसे खत्म करने  के लिए प्रत्येक नागरिक में सबसे पहले राष्ट्रीय चरित्र का विकास ज़रूरी है
                                                                                                                   -.स्वराज्य करुण
                                                                                           
                                                                                                         
       
                                                                
पोस्ट प्रकाशित करें

Saturday 27 August 2011

अन्ना का अनशन !

                                                                                        -- स्वराज्य करुण



                                            कई दिनों से चल रहा  है  अन्ना का अनशन ,
                                            सारे  नेता -अभिनेता यहाँ लगते खूब प्रसन्न !

                                            पक्ष-विपक्ष सब एक हो गए  भूलकर अनबन ,
                                            अन्ना जी करते रहो तुम ऐसा ही अनशन !
                               
                                            लोकपाल के मंत्र-जाप में रमा है सबका  मन
                                            अच्छा है सब भूल गए  कहाँ है काला-धन !

                                           देश के लिए   उपवास करे वो, हम खाएं भर-पेट
                                            भले किसी को मिल न पाए दो वक्त राशन  !

                                           उनकी ऐसी  मनोवृत्ति को  बार-बार  धिक्कार ,
                                           जिसके आगे तुच्छ हो गया  गरीबों का जीवन !
                           
                                           इसीलिए तो  कह  गए  हमसे सारे बड़े-बुजुर्ग ,
                                           दिल -दिमाग  हो जाए वैसा , जैसा खाए अन्न  !

                                           झुलस रहे हैं लोग, तेज है  महंगाई की आग ,
                                           रंगमंच पर संसद के ,फिर भी जारी है प्रहसन !
                           
                                           लोकतंत्र की द्रौपदी का  खुलकर  चीरहरण 
                                           भरी सभा में अट्टहास कर रहा है दुर्योधन    !

                                          भ्रष्टाचार के इस मर्ज  का हुआ न कोई इलाज
                                          तो समझो कि मिट जाएगा अपना ये वतन !
                           
                                         अन्ना की आवाज़ से अब एक  हुआ  समाज 
                                          एक से जुड़कर एक होगा देश का जन-जन !

                                          सत्य भले  परेशान लेकिन पराजित न होगा ,
                                          तूफानों से लड़ने का दीपक ने लिया है प्रण  !
                                                                                     -  स्वराज्य करुण
  
                                                 
            





                           

Friday 19 August 2011

(ग़ज़ल ) दोनों हाथों चमन लूटते !

                           

                                         दोनों हाथों चमन लूटते किसम -किसम के  अपराधी ,
                                         शायद अपनी किस्मत में है  वतन   की ऐसी बर्बादी   !

                                         ऐश कर रहे देश के धन पर  नेता,अफसर ,माफिया ,  
                                         काली कमाई में है सबकी  हिस्सेदारी  आधी-आधी !

                                         सोने की चिड़िया के घर से जाने क्या-क्या लूट गए ,
                                         बँटवारे में दे गए उसको  बेघर होने की आज़ादी !

                                          फिरंगियों के जाल से बचकर फँस गयी उनकी चाल में,
                                          देश की भोली जनता भी है , देखो कितनी सीधी-सादी  !

                                          वादे  उनके ऐसे -ऐसे, परदादों का दिल खुश कर दें,
                                          उनके भरोसे सतयुग के इंतज़ार में बैठी है  दादी !

                                          झुग्गी मिटाकर महल बनाते  शहर के ठेकेदार यहाँ  ,
                                          माटी का घर मिटता देख रोये मेहनतकश आबादी  !
                            
                                         अदालतों की मन मर्जी है , अर्जी  पर  कब हो सुनवाई  ,
                                         सात पीढ़ियों से सीढ़ी पर  भले ही बैठा हो फरियादी !

                                         गांधी जी के  चरखे को भी  चबा  गयी  मशीनी डायन
                                         नकली गांधी पहन घूमते  गली-गली में नकली खादी  !

                                          बेशर्मों का बेख़ौफ़ हमला  लोकतंत्र  की सरहद पर   ,                      
                                          घायल होकर अहिंसा गायब , खोज में होती नहीं  मुनादी  ! 
                                                                                                        --  स्वराज्य करुण
                                                 




Sunday 14 August 2011

कैसा है फैसला : कैसा इन्साफ ?

                              
                                    कहीं भी नहीं मची खलबली ,
                                    अस्सी हजार करोड़ की  टैक्स चोरी करने के बाद
                                    सिर्फ पांच लाख रूपए की जमानत पर 
                                    रिहा हो गया  डाकू हसन अली  /
                                 

                                     कैसा है फैसला ,कैसा है इन्साफ ,
                                     रुपयों के रुपहले जादू  से यहाँ 
                                     संगीन जुर्म भी  हो जाते हैं माफ  /
                               
                                     बच्चों के इलाज के लिए
                                     कोई महज़ पांच रूपए की चोरी में 
                                     जिंदगी भर सड़ता है सलाखों में ,
                                     कोई यहाँ करोड़ों लोगों को लूट कर  
                                     खेलता है खुले आम  रोज-रोज लाखों में /


                                      ख़बरों में सब कुछ देख कर,
                                      रोज -रोज पढ़ कर  और सुन कर
                                      भौचक है हमारी भावी पीढ़ी ,
                                      सत्य का सर्वनाश  कर खूब गर्व से
                                       कुछ हैं जो चढ़ रहे सत्ता की सीढ़ी / 


                                      फिर भी हम कहते हैं आन-बान-शान से 
                                      कि देश अब आज़ाद है,  ,
                                      इस भयानक भुलावे में  भटकते रह गए
                                      तो  तय मानो  हमारा भविष्य बर्बाद है /
                                                                                           -   स्वराज्य करुण





Friday 12 August 2011

इसे कहते हैं भेड़ -चाल !

   

            इसे ही कहते हैं भेड़-चाल. पहले उत्तरप्रदेश में पाबंदी लगी और अब पंजाब और आंध्रप्रदेश में भी प्रकाश झा की फिल्म 'आरक्षण ' पर प्रतिबंध लगा दिया गया .यह  फिल्म मैंने देखी नहीं है, इसके कुछ फुटेज अलग-अलग प्रसंगों में टेलीविजन -समाचार चैनलों में ज़रूर देखने को मिले हैं, जिनसे ऐसा लगता है कि आरक्षण की मौजूदा व्यवस्था को लेकर इसमें कुछ ज्वलंत सवाल उठाए गए हैं .
        अगर इतने भर से कुछ लोग बौखला कर फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग करने लगें और हमारी व्यवस्था उनके आगे झुक कर फिल्म पर पाबंदी लगा दे , तो कहाँ रह गयी अभिव्यक्ति की आज़ादी और कहाँ रह गया हमारा लोकतंत्र  ? क्या लोकतंत्र में जनता के जीवन से ताल्लुक रखने वाले किसी सामाजिक -आर्थिक मुद्दे पर सवाल उठाना गलत है ?  अगर नहीं तो फिर इस प्रकार की फिल्म या किसी किताब को ,किसी नाटक को प्रदर्शन या प्रचलन से रोक देना कहाँ का लोकतंत्र है ?
          अगर किसी सामाजिक समस्या पर फिल्म, कहानी , कविता ,उपन्यास आदि के रूप में कोई रचना  आयी है, तो उसे सबके सामने आने देना चाहिए . इक्कीसवीं सदी की जनता समझदार है. वह खुद फैसला कर सकती है कि इस प्रकार की किसी रचना में उठाए गए सवाल कितने जायज या नाजायज हैं ! फैसला करने का अधिकार फिल्म या नाटक के दर्शकों पर और पुस्तक के पाठकों पर छोड़ देना चाहिए . लेकिन सवालों को सुने बिना और समझे बिना उन पर पाबंदी लगाना आधुनिक कहलाने वाली दुनिया में हास्यास्पद नहीं तो और क्या है ?
           दरअसल लोक-हित की भावना से बनी किसी फिल्म में ,या किसी साहित्यिक रचना में उठाए गए सवालों से जिन्हें तकलीफ होती है, वही लोग उन पर पाबंदी के लिए उठा-पटक करने लगते हैं . उन्हें अश्लील नाच-गाने की फूहड़ फिल्मों, बेतुके ,बेशर्म विज्ञापनों,  या द्विअर्थी  गानों से कोई तकलीफ नहीं होती . आज कल कई फिल्मों में गाली-गलौच से भरे संवाद भी आने लगे हैं . उन पर पाबंदी लगाने की मांग कोई नहीं करता . क्या यह सही नहीं है कि 'आरक्षण ' की समस्या आज इस देश में बहुत गंभीर हो चली है  ? समस्या के समाधान के लिए दरअसल सार्थक बहस की ज़रूरत है, इस विषय पर बनी फिल्म को देख कर ही यह बहस हो सकती है , पाबंदी लगा कर नहीं .लेकिन  नासमझ व्यवस्था को आखिर समझाए कौन ?  कौरवों की भरी सभा में सभी तो हैं मौन !                                                                                                  -  स्वराज्य करुण





 



Thursday 11 August 2011

हिन्दी पर हमला !

                              लोकतंत्र का चौथा प्रहरी समझे जाने वाले कुछ हिन्दी अखबार   इन दिनों हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी पर बड़ी बेशर्मी और बेरहमी से हमला कर रहे हैं और हम हैं कि इस हमले को  चुपचाप झेल भी रहे हैं . एक हिन्दी दैनिक में छपे कुछ शीर्षकों और वाक्यों पर  ज़रा  ध्यान दीजिए -
(१ ) फॉरेन लेंग्वेज सीखने में इंट्रेस्ट ले रहे युवा
(२ ) फ्रेंच इन डिमांड

   इन दो शीर्षकों के साथ समाचार की भाषा कुछ इस तरह से है-
युवा अपने कैरियर को लेकर काफी सजग हो गए हैं .अच्छा कैरियर बनाने के लिए हिन्दी और इंग्लिश लेंग्वेज   पर अच्छी कमांड के साथ युवा फॉरेन लेंग्वेज सीखने पर भी खासा जोर दे रहे हैं. स्टुडेंट्स का कहना है कि फॉरेन लेंग्वेज सीखने के बाद जॉब  के अवसर कई गुना बढ़ जाते हैं .

  (३ )  ब्लड डोनेशन कैम्प १८ को .     
 (४)  हरियाली संग सेलिब्रेशन  
   (५ ) ग्रीन  डे मनाया  
(६ ) हरित श्रृंगार कॉम्पिटिशन  
(७) नजर आई क्रिएटिविटी    
 (८) होम मेड स्वीट्स  से शेयर करें खुशियाँ
(९) पैकिंग मटेरियल्स भी अवेलेबल 
  एक अन्य हिन्दी अखबार का एक शीर्षक और उसके समाचार की कुछ पंक्तियाँ देखें --
 शीर्षक है- 
स्टूडेंट्स  का पढ़ाई में रहे फोकस --
कॉलेज में प्रवेश करने के बाद स्टूडेंट्स में कई तरह के चेंजेस देखने को मिलते हैं .नवीन गर्ल्स कॉलेज में बुधवार को फर्स्ट ईयर की स्टूडेंट्स के लिए इंडक्शन प्रोग्राम का आयोजन किया गया .
एक और शीर्षक की बानगी देखें -
स्टूडेंट्स  को दी कम्युनिकेशन के तथ्यों की जानकारी

         दोस्तों !  जिन अंगेरजी शब्दों का  इन समाचारों में इस्तेमाल किया गया है, क्या उनके लिए हिन्दी के विशाल शब्द भंडार में कोई शब्द नहीं है ? क्या हमारी हिन्दी का शब्द कोश इतना दरिद्र हो गया है कि हिन्दी अखबारों को अंगरेजी का सहारा लेना पड़ रहा है ? जहां किसी अंगरेजी  शब्द के लिए हिन्दी में कोई
कोई शब्द न हो, वहाँ पर तो इंग्लिश शब्दों का उपयोग करना गलत नहीं है, लेकिन अगर हिन्दी में शब्द हैं और हम उन्हें जान कर भी उपेक्षित कर अंगरेजी बघारने लगें ,तो अपनी राष्ट्रभाषा के साथ इससे बड़ा अन्याय और अपराध दूसरा नहीं हो सकता .देवनागरी लिपि में  राष्ट्रभाषा के वाक्यों में अंगरेजी के शब्दों को जबरन घुसा कर और उन्हें देवनागरी में लिखकर हिन्दी के ऐसे अंगरेजी परस्त अखबार जनता को आखिर क्या सन्देश देना चाहते है ?  कुछ हिन्दी अखबारों के विशेष परिशिष्टों में तो आलेखों में हिन्दी वाक्यों में घुसाए गए इंग्लिश शब्दों को अंगरेजी लिपि में भी लिखा जाने लगा है. यह क्या  तमाशा है ?
  किसी भी देश की स्थानीय भाषा उस देश की  राष्ट्रीय अस्मिता और संस्कृति का प्रतीक होती है ,विदेशी भाषाओं की उसमे जबरन घुसपैठ से उस देश की आज़ादी को भी ख़तरा हो सकता है .हमारे देश में भी आज ऐसा ही कुछ नज़र आ रहा है .यह हिन्दी के अखबारी समाचारों की अंगरेजी मिश्रित खिचड़ी भाषा के जरिये भारत में भी दिखाई डे रहा है. 
लगभग बीस वर्ष पहले आर्थिक सुधारों की आड़ लेकर जनता पर भू-मंडलीकरण का बोझा थोपा गया था, जिसके छुपे हुए एजेंडे में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के नाम पर अंगरेजी भाषा को बढ़ावा देने और इस तरह दुनिया के विभिन्न  देशों में स्थानीय भाषाओं को विलुप्त करने की साजिश भी शामिल है . इसे समझने की ज़रूरत है .

                                                                                                                         स्वराज्य करुण

Tuesday 9 August 2011

मनचाहे दाम पर 'सत्यवादी पुरस्कार ' !

                                          बीत गए वे दिन
                                          देश में जब हुआ करते थे
                                          एक से बढ़ कर एक पद्मश्री ,
                                          अब तो चारों दिशाओं में
                                          नज़र आते हैं छ्द्मश्री !

                                          अर्थ का अनर्थ कर
                                          जो जितना फैला सकता है
                                          तरह-तरह के प्रदूषण
                                          वो ही कहलाता है  यहाँ आज
                                           इस देश का पद्म-विभूषण !

                                           अजीब-ओ -गरीब दौड़ है,
                                           कहीं घुमावदार घाटियाँ तो कहीं
                                           खतरनाक मोड़  है ,
                                           हर तरफ पुरस्कार हथियाने की होड़ है

                                           पुरस्कार तो बंटते हैं यहाँ
                                          अपनों के बीच किसम-किसम के
                                          सच्चाई  के नाम कई 
                                          लगाते हैं दांव  झूठी  कसम के   !
                             
                                           हो गयी है देश में  हमारी
                                           एक सौ इक्कीस करोड़ की आबादी ,
                                           गनीमत है कि नहीं है इसमें                                          
                                           कोई हरिश्चन्द्र सत्यवादी /


                                           सोचता हूँ होता अगर
                                           कोई पुरस्कार सत-युग के
                                           सत्यवादी राजा हरिश्चन्द्र के नाम पर ,
                                           बिक जाता वह भी
                                           इस कलि युग में  मनचाहे दाम पर /

                                                                               -- स्वराज्य करुण
                                          

Monday 8 August 2011

गोपनीय सत्य-निष्ठा !

                                        जनता की जेब पर 
                                        हर दिन ,हर पल
                                        लग रही है
                                        ज़ोरदार चपत  /
                                        
                                         उनके महलनुमा बंगले के
                                         पिछले दरवाजे से
                                         बिचौलिए कर रहे  लाखों-करोड़ों ,
                                         अरबों-खरबों की खपत /
                                        
                                          गजब है तमाशा,
                                          मायावी भाषा,
                                          सूचना के अधिकार और
                                           पारदर्शिता के इस युग में भी
                                           श्रीमानजी लेते हैं -
                                           'सत्य-निष्ठा' से
                                           पद और गोपनीयता की शपथ  /
                                           

                                            उनके 'सत्य' की निष्ठा
                                            वाकई 'गोपनीय 'होती है ,
                                            वह  आखिर करें भी क्या
                                           अगर उनके सामने
                                            देश की सच्चाई रोती है,
                                   
                                         
                                           इसीलिए तो
                                          जनता के बीच वह 
                                          पूरी 'गोपनीयता' से सच बोलते हैं ,
                                          महंगाई कम करने के नाम पर
                                          रंग-बिरंगे वायदों के
                                          खिलौनों का पिटारा खोलते हैं /

                                       
                                         न हो सका पूरा कोई वायदा                                    
                                         तो कह देंगे -
                                         खिलौना था , टूट गया
                                         क्या हुआ जो
                                         कोई वोटर रूठ गया  /

                                       
                                         आएगा मौसम मतदान का
                                         तो उसे मना लेंगे
                                         नोट से वोट खरीदकर
                                         काम अपना  हम  बना लेंगे /
                                                                            स्वराज्य करुण

Sunday 7 August 2011

आरक्षण का डंक !

                                        
                                               खूब  मेहनत से  ले आओ
                                               सौ में नब्बे अंक,
                                               छीन लेगा मौक़ा तुमसे
                                               आरक्षण का डंक /

                                              मैदानों में भले ही उनसे
                                              छूट रहे  हों कैच
                                              आरक्षण से बन जाएंगे
                                              मैन ऑफ द मैच /

                                              योग्यता का जहां हो रहा
                                              बेरहमी से दमन ,
                                              फिर कैसे गुलज़ार होगा
                                               वह मुरझाया चमन  /
                                            
                                              जान-बूझ कर न समझे
                                              गरीबों  की विवशता को
                                               मोल नहीं प्रतिभा का जहां 
                                              धिक्कार उस व्यवस्था को /
                               
                                              आरक्षण  किसको मिले ,
                                              सुलग रहा सवाल ,
                                              आरक्षण पर फिल्म क्या बनी
                                              मच गया बवाल /

                                             नेताओं की कुर्सी का
                                             मज़बूत पाया आरक्षण ,
                                             इसीलिए तो उनके दिल को
                                             हर पल भाया आरक्षण /

                                                                                - स्वराज्य करुण 

                        
                                            

Wednesday 3 August 2011

नोट लेकर बरसाओ पानी !

                                    आषाढ़ के बादलों ने
                                    दिखायी इतनी कंजूसी,
                                    इस बार नज़र नहीं आयी
                                    मानसून के आने पर
                                    होती थी जो हँसी-खुशी /
                                    किसान रह गए तड़फ कर ,
                                    धरती रह गयी तरस कर ,
                                    आषाढ़ के बादल आधे-अधूरे मन से
                                    यूं ही चले गए
                                    बूंदा-बांदी से  बरस कर /
                                 
                                    अब सावन के बादल तुम आए ,
                                    तुमसे है कुछ उम्मीद हमें ,
                                    नेह-नीर की बौछार करो  तो
                                    सूखे का यह दौर थमे   /
                                 
                                    ओ सावन के बादल भाई !
                                    खेतों की पीड़ा को  दिल ही दिल में
                                    करो  महसूस ,
                                    अगर नहीं तो हम किसान
                                    गिरवी रख अपने खलिहान,
                                    दे सकते हैं तुमको घूस  /
                                    बताओ कितने रुपये लोगे ,
                                    बदले  में पानी कितना दोगे  ?

                                    इन्द्रदेव के दूत हो तुम 
                                    पूछ लो उनसे कितना बनता है
                                    उनका भी  नज़राना
                                    इस कलियुग में बिन रिश्वत के
                                    बहुत कठिन है काम करवाना  /
                                    तुम्हारे हाथों भिजवा देंगे
                                    उनका भी हिस्सा ,
                                    नहीं कहेंगे दुनिया को
                                    हम इस रिश्वत का किस्सा  /

                                     नोट के बदले वोट जो देते
                                     हम हैं   वो  हिन्दुस्तानी ,
                                     हमें पता है काम बनाने
                                     चाहिए सबको खर्चा-पानी  /

                                            
                                    हमको काम करवाना है अपना
                                    जल्दी -जल्दी कर दो ,
                                    ओ सावन के बादल प्यारे ,
                                    ये लो  गांधी छाप नोट और
                                    बरसा कर अपनी अनुकम्पा 
                                    खेतों में  पानी  भर दो   /
                                                               -  स्वराज्य करुण    





                                 

Tuesday 2 August 2011

पूछो -पूछो कौन हैं वो ?

                           
                                 ऊंचे महल अटारी हों ,
                                 ओहदा ऊंचा सरकारी हो,
                                 चमचमाती गाड़ी हो,
                                 कितना भी मोटा हो वेतन 
                                 फिर भी नही भरता है मन /
                                 काम कराना हो तो लेंगे
                                 टेबल के नीचे से कमीशन /
                                 पूछो-पूछो कौन हैं  वो ?
                             

                                 तबीयत उनकी  रंगीन बहुत 
                                 जनता है गमगीन बहुत  
                                 शिकायत है  संगीन बहुत ,  
                                 फिर भी मिलता जाए उनको
                                  कदम -दर-कदम  प्रमोशन  /
                                  पूछो -पूछो कौन  हैं  वो  ?

                                  बीत गए राजे-रजवाड़े ,
                                  अब हैं उनके बुलंद सितारे
                                  हरियाली के जो हत्यारे ,
                                  अरबों-खरबों के  वारे-न्यारे
                                  खेत छीन कर हंटर फटकारें ,
                                  किसान भटकते द्वारे-द्वारे, 
                                  मजदूर इस जीवन से हारे ,
                                  फिर भी उनके महलों में
                                   गीत मचलते  कजरारे -कजरारे /
                                   पूछो-पूछो कौन हैं  वो  ?

                                                                    स्वराज्य करुण
                                 

                                 
                           

Monday 1 August 2011

सबसे बड़े सरपंच की सबसे बड़ी हुंकार !

                                  आज के अखबार का
                                  ताजा समाचार -
                                  देश की सबसे बड़ी पंचायत के 
                                  सबसे बड़े सरपंच ने
                                  भ्रष्टाचार के आरोपों की
                                  तीखी प्रतिक्रिया में 
                                  विपक्षी पंचों  पर किया पलटवार ,
                                  गर्जन-तर्जन के साथ भरी सबसे बड़ी हुंकार -
                                   कहा-  "हमें भी मालूम है विपक्ष के
                                   ढेर सारे  राज , इसलिए
                                   ज्यादा  मत चिल्लाओ ,
                                   हम पर उठाते हो एक उंगली तो
                                   तीन उंगलियां तुम्हारी ओर भी होती हैं,
                                   इसलिए क्यों देखते हो किसकी
                                   धोती कितनी लंबी और छोटी है ''
                                   सरपंच जी के कहने का मतलब  साफ़ था -
                                    पक्ष-विपक्ष सब एक ही हमाम में
                                    नहा रहे हैं,
                                    बाहर से भले ही दिख रहे
                                    इक-दूजे के जानी दुश्मन ,
                                    हमाम में तो आपसी सदभाव की गंगा
                                    बहा रहे हैं /
                                    आरोप-प्रत्यारोप तो बस
                                    छपक -छैय्या पानी के छींटे हैं ,
                                    सबके सब एक ही घाट का पानी पीते हैं /
                                    हमाम में तो हर कोई है नंगा ,
                                    फिर कोई  किसी से क्यों ले पंगा ?
                                    सरपंच जी की बातों में दम  है ,
                                    ये अपना हिन्दुस्तान है प्यारे ,
                                    यहाँ ऊपर से नीचे तक सब शरीक-ए -जुर्म हैं
                                     फिर भी हम कहते हैं -
                                     जुर्म यहाँ कम है  /
                                                               --  स्वराज्य करुण