Tuesday 30 August 2011

विघ्नहर्ता से एक निवेदन !

                                         
                                         
                                                        हे विघ्न-विनाशक
                                                        गणेश जी महाराज !
                                                        सुन लीजिए हमारी विनती आज !
                                                        आ रहे हैं आप ,
                                                        बहुत-बहुत स्वागत है,
                                                        कुछ निवेदन करने
                                                        हम आपके शरणागत हैं !
                                          
                                                        आप तो हैं विघ्नहर्ता
                                                        पर  हैं  जो आपके  कार्यकर्ता ,
                                                        बैठाकर आपको
                                                        सड़कों के  किनारे ,
                                                        लगाते हैं जो भक्ति के नारे ,
                                                        घेर कर पंडाल से आधी सड़क ,
                                                        डालते  हैं विघ्न यातायात में ,
                                                        विघ्नहर्ता के नाम पर
                                                        बन कर विघ्नकर्ता ,
                                                        कर्ण-छेदक संगीत से
                                                        करते हैं सबकी नींद हराम
                                                        आधी रात में  !
                                        
                                                       हे विघ्न-विनाशक !
                                                       आप तो विद्या और
                                                       बुद्धि के दाता हैं ,
                                                       दीजिए इन्हें भी 
                                                       दान में कुछ ज्ञान ,
                                                       करें आपकी पूजा ज़रूर ,
                                                       लेकिन राह चलते लोगों को
                                                       और अपने मोहल्ले को 
                                                       मचाकर धमाल 
                                                       मत करें परेशान !
                                                               -- स्वराज्य करुण

4 comments:

  1. आप अभिव्यंजना मे आये बहुत बहुत धन्यवाद.....गणपति बप्पा मोरिया।अबके बरस तू जल्दी आ.....

    ReplyDelete
  2. बिल्कुल सही कह रहे हैं आप्।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर।
    --
    भाईचारे के मुकद्दस त्यौहार पर सभी देशवासियों को ईद की दिली मुबारकवाद।
    --
    कल गणेशचतुर्थी होगी, इसलिए गणेशचतुर्थी की भी शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete