Tuesday, August 9, 2011

मनचाहे दाम पर 'सत्यवादी पुरस्कार ' !

                                          बीत गए वे दिन
                                          देश में जब हुआ करते थे
                                          एक से बढ़ कर एक पद्मश्री ,
                                          अब तो चारों दिशाओं में
                                          नज़र आते हैं छ्द्मश्री !

                                          अर्थ का अनर्थ कर
                                          जो जितना फैला सकता है
                                          तरह-तरह के प्रदूषण
                                          वो ही कहलाता है  यहाँ आज
                                           इस देश का पद्म-विभूषण !

                                           अजीब-ओ -गरीब दौड़ है,
                                           कहीं घुमावदार घाटियाँ तो कहीं
                                           खतरनाक मोड़  है ,
                                           हर तरफ पुरस्कार हथियाने की होड़ है

                                           पुरस्कार तो बंटते हैं यहाँ
                                          अपनों के बीच किसम-किसम के
                                          सच्चाई  के नाम कई 
                                          लगाते हैं दांव  झूठी  कसम के   !
                             
                                           हो गयी है देश में  हमारी
                                           एक सौ इक्कीस करोड़ की आबादी ,
                                           गनीमत है कि नहीं है इसमें                                          
                                           कोई हरिश्चन्द्र सत्यवादी /


                                           सोचता हूँ होता अगर
                                           कोई पुरस्कार सत-युग के
                                           सत्यवादी राजा हरिश्चन्द्र के नाम पर ,
                                           बिक जाता वह भी
                                           इस कलि युग में  मनचाहे दाम पर /

                                                                               -- स्वराज्य करुण
                                          

8 comments:

  1. बेहतरीन प्रस्तुती....

    ReplyDelete
  2. हर तरफ पुरस्कार हथियाने की होड़ है , खतरनाक मोड़ है .

    ReplyDelete
  3. वाह एक कडवे सच का सटीक चित्रण किया है।

    ReplyDelete
  4. vaah bahut achchi kavita sachchaai ka kis khoobi se kataksh kiya hai.aapke blog par pahli baar aai hoon jud rahi hoon aapke blog se.

    ReplyDelete
  5. puruskaar bhi vyaapaar par tabdil ho gaya hai
    ayogya bhi daud me shaamil ho gaya hai

    sach me acchi rachna aabhaar badhaai
    sir ji aap ki kami munshi premchand jayanti par mehsus hui aapko bhi sunne ko man tha kabhi mauka dijiye

    ReplyDelete
  6. आपकी पोस्ट ब्लोगर मीट वीकली (४) के मंच पर सोमवार १५/०८/११ को प्रस्तुत की गई है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें यही कामना है /सोमवार को ब्लोगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं /आभार /

    ReplyDelete
  7. आपकी पोस्ट "ब्लोगर्स मीट वीकली "{४) के मंच पर शामिल की गई है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें ,यही कामना है /सोमवार १५/०८/११ को आपब्लोगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं /

    ReplyDelete
  8. आपकी पोस्ट "ब्लोगर्स मीट वीकली "{४) के मंच पर शामिल की गई है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें ,यही कामना है /सोमवार १५/०८/११ को आपब्लोगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं /

    ReplyDelete