Monday 1 August 2011

सबसे बड़े सरपंच की सबसे बड़ी हुंकार !

                                  आज के अखबार का
                                  ताजा समाचार -
                                  देश की सबसे बड़ी पंचायत के 
                                  सबसे बड़े सरपंच ने
                                  भ्रष्टाचार के आरोपों की
                                  तीखी प्रतिक्रिया में 
                                  विपक्षी पंचों  पर किया पलटवार ,
                                  गर्जन-तर्जन के साथ भरी सबसे बड़ी हुंकार -
                                   कहा-  "हमें भी मालूम है विपक्ष के
                                   ढेर सारे  राज , इसलिए
                                   ज्यादा  मत चिल्लाओ ,
                                   हम पर उठाते हो एक उंगली तो
                                   तीन उंगलियां तुम्हारी ओर भी होती हैं,
                                   इसलिए क्यों देखते हो किसकी
                                   धोती कितनी लंबी और छोटी है ''
                                   सरपंच जी के कहने का मतलब  साफ़ था -
                                    पक्ष-विपक्ष सब एक ही हमाम में
                                    नहा रहे हैं,
                                    बाहर से भले ही दिख रहे
                                    इक-दूजे के जानी दुश्मन ,
                                    हमाम में तो आपसी सदभाव की गंगा
                                    बहा रहे हैं /
                                    आरोप-प्रत्यारोप तो बस
                                    छपक -छैय्या पानी के छींटे हैं ,
                                    सबके सब एक ही घाट का पानी पीते हैं /
                                    हमाम में तो हर कोई है नंगा ,
                                    फिर कोई  किसी से क्यों ले पंगा ?
                                    सरपंच जी की बातों में दम  है ,
                                    ये अपना हिन्दुस्तान है प्यारे ,
                                    यहाँ ऊपर से नीचे तक सब शरीक-ए -जुर्म हैं
                                     फिर भी हम कहते हैं -
                                     जुर्म यहाँ कम है  /
                                                               --  स्वराज्य करुण

8 comments:

  1. सही है, हम्माम में सब नंगे हैं।

    ReplyDelete
  2. वाह बहुत ही सुन्दर
    रचा है आप ने
    क्या कहने ||
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/
    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।

    ReplyDelete
  3. वाह आपने तो सभी चोरो की पोल खोल दी है।

    ReplyDelete
  4. बिलकुल सही कहा आपने जब सभी चोर हैं /तो कोंन किसकी पोल खोले /सब एक जैसे ही हैं /हमारे देश के हालात को उजागर करती हुई बेमिसाल रचना /बधाई आपको /

    ReplyDelete
  5. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  6. पक्ष विपक्ष एक ही थैली के चट्टे बट्टे हैं

    ReplyDelete