Saturday 25 June 2011

(गीत ) बूंदों की झंकार हुई !

                                
                     

                                                                          
                          
                                               आसमान में बजे ढोल और बूंदों की झंकार हुई !

                                                            कुदरत का संगीत  सुनाते
                                                            काले-काले बादल ,
                                                            इस धरती से उस अम्बर तक
                                                            उड़ने वाले बादल !

                                               खेत-खेत और  पर्वत-जंगल ,बारिश की बौछार हुई !

                                                              दूर कहीं छुप गयी जाकर
                                                              उमस भरी वह गर्मी ,
                                                              बैसाख-जेठ के सूरज ने
                                                              छोड़ी अपनी हठधर्मी !

                                              मेहनत के मौसम की फिर से आज मधुर पुकार हुई !

                                                                हँसते-झूमते मस्ती में
                                                                निकल पड़े खेतों की ओर ,
                                                                ये किसान हैं श्रम -सिंचन से
                                                                जोडेंगे नव-युग की  डोर  !

                                              हल और बैलों की अब देखो , फिर तेज रफ़्तार हुई !   

                                                                                                 -  स्वराज्य करुण



छाया चित्र google  से साभार
.
                                                                       

13 comments:

  1. सुंदर वर्षा गीत और गांव की खुशबू भी

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया!
    सबको इसी संगीत का तो इन्तजार है!

    ReplyDelete
  3. दूर कहीं छुप गयी जाकर
    उमस भरी वह गर्मी ,
    बैसाख-जेठ के सूरज ने
    छोड़ी अपनी हठधर्मी !

    मेहनत के मौसम की फिर से आज मधुर पुकार हुई
    aaj varsha ke hone par aapki ye kaita aur bhi sundar prateet hui.badhai.

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी और प्यारी रचना...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचना।
    आपकी पुरानी नयी यादें यहाँ भी हैं .......कल ज़रा गौर फरमाइए
    नयी-पुरानी हलचल
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. मौसम के अनुकूल मनभावन कविता.

    ReplyDelete
  7. समसामयिक सुन्दर रचना
    भर भर नयना बदरा आये
    प्यासी धरती की प्यास बुझाने
    झूमें गायें मस्ती मे सारे
    बूढे बच्चे और सयाने।
    शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  8. हँसते-झूमते मस्ती में
    निकल पड़े खेतों की ओर ,
    ये किसान हैं श्रम -सिंचन से
    जोडेंगे नव-युग की डोर !
    मनभावन रचना ...आपका आभार

    ReplyDelete
  9. is sangeet me jeewan ras hai
    hai kuchh saachaa to bas yhi hai

    ReplyDelete
  10. करुणजी,
    वर्षा ऋतु का ऐसा सुन्दर चित्रण?! अद्भुत है....

    ReplyDelete
  11. बारिश का अनुपम संगीत समेटे खूबसूरत प्रस्तुति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  12. आपको हरियाली अमावस्या की ढेर सारी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएं .

    ReplyDelete