Wednesday 18 May 2011

(ग़ज़ल ) मुज़रिम के सौ गुनाह माफ !

                                     
                                           सब कुछ तो है   साफ़- साफ़ आज-कल ,
                                           अब   कौन किसे दे रहा इन्साफ आज-कल  !
                                
                                    
                                            उजड़ा है घर किसी का  किसी के गुनाह से,
                                            मुज़रिम के सौ गुनाह भी हैं माफ आज कल  !
    
                                      
                                             कातिलों के शहर में नज़र आए कहाँ सुबूत ,
                                             ओढ़ कर  मस्त सो रहे लिहाफ आज-कल !

                                         
                                              खरबों में बनी इमारत है न्याय का मंदिर ,
                                              होता है जहां रूपयों का ही जाप आज-कल !

                                       
                                              पुण्य की गठरी तो उधर कोने में पड़ी  है ,
                                              आँगन में उनके हँस रहा है पाप आज-कल !
                                        
                                       
                                               रग-रग में समाया  है  रिश्वत का ज़हर इतना ,
                                                डरने लगे हैं उनसे   कई सांप आज-कल !
                                      
                                       
                                                बेरहमी से ले रहे  हैं गरीबों के दिल की हाय ,
                                                बेअसर है अमीरों पर अभिशाप आज-कल !
                                           
                                         
                                                                                            -  स्वराज्य करुण
                  
                                     

6 comments:

  1. @कातिलों के शहर में नज़र आए कहाँ सुबूत
    होता है जहां रूपयों का ही जाप आज-कल !

    वाह वाह भाई साहब, गजब के शेर हैं.

    ReplyDelete
  2. रग-रग में समाया है रिश्वत का ज़हर इतना ,
    डरने लगे हैं उनसे कई सांप आज-कल !


    Excellent !

    .

    ReplyDelete
  3. पुण्य की गठरी तो उधर कोने में पड़ी है ,

    आँगन में उनके हँस रहा है पाप आज-कल
    wah.ekdam theek.

    ReplyDelete
  4. रग-रग में समाया है रिश्वत का ज़हर इतना ,
    डरने लगे हैं उनसे कई सांप आज-कल !

    बहुत बढ़िया गज़ल

    ReplyDelete
  5. रग-रग में समाया है रिश्वत का ज़हर इतना ,
    डरनेलगे हैं उनसे कई सांप आज-कल !

    बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  6. आतंकियों ने लूट ली ,बेगुनाह जिन्दगी,
    फिर भी उन्हें करतें है, सलाम आज कल ;

    ReplyDelete