Monday 2 May 2011

हिन्दी ब्लॉगरों का सम्मान

                    साहित्य सृजन से मजबूत होता है सामाजिक सरोकार : डॉ. निःशंक
          अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉगर सम्मेलन में छत्तीसगढ़ के पांच  ब्लॉग-लेखक सम्मानित

ललित शर्मा को प्रशस्ति-पत्र भेंट करते हुए डॉ.निःशंक
      सूचना-प्रौद्योगिकी के  तीव्र   विकास के इस दौर में इंटरनेट आधारित नागरिक-अभिव्यक्ति के नए माध्यम ब्लॉगिंग के ज़रिये भी देश का नया राज्य छत्तीसगढ़ राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय क्षितिज पर बड़ी तेजी से अपनी पहचान बना रहा है. नयी दिल्ली के हिन्दी भवन में शनिवार को आयोजित अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉगर सम्मेलन में देश-विदेश से आए अनेक ब्लॉग-रचनाकारों सहित छत्तीसगढ़ के पांच जाने-माने ब्लॉग -लेखकों को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री डॉ.रमेश पोखरियाल 'निःशंक ' ने 'सारस्वत -सम्मान ' से विभूषित किया .डॉ.पोखरियाल ने कहा साहित्य सृजन हमारे सामाजिक सरोकारों को मजबूती देता है. 
                    मुख्यमंत्री के हाथों इस मौके पर सम्मानित छत्तीसगढ़ के  ब्लॉगरों  में रायपुर जिले के अभनपुर निवासी  श्री ललित शर्मा , भिलाई नगर के श्री बी .एस .पाबला , दुर्ग के श्री संजीव तिवारी , और रायपुर के श्री जी.के अवधिया और सुश्री अल्पना देशपांडे शामिल हैं , जिन्हें मुख्य अतिथि डॉ.पोखरियाल ने प्रशस्ति -पत्र  और स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया. उल्लेखनीय है कि श्री ललित शर्मा   ब्लॉग जगत में 'ललित डॉट कॉम, ' चलती का नाम गाड़ी ' और 'चर्चा पान की दुकान पर ' जैसे हिन्दी के लोकप्रिय ब्लॉगों के लिए खास तौर पर पहचाने जाते हैं. श्री बी.एस.पाबला भी अपने ब्लॉग 'जिंदगी के मेले ' के ज़रिये जन-जीवन के विभिन्न पहलुओं पर नियमित रूप से लिख रहे हैं .श्री संजीव तिवारी का ब्लॉग 'आरम्भ' , श्री जी.के .अवधिया का ब्लॉग 'धान के देश में ' और सुश्री अल्पना देशपांडे का ब्लॉग 'आर्ट गैलरी ' भी ब्लॉग-पाठकों के बीच काफी लोकप्रिय हो रहा है. इनके ब्लॉग-लेखन से छत्तीसगढ़ को साहित्य ,कला , संस्कृति , और सामाजिक जीवन के सभी क्षेत्रों में अच्छी पहचान मिल रही है. सम्मेलन का आयोजन हिन्दी साहित्य निकेतन ,बिजनौर द्वारा अपनी स्वर्ण जयन्ती के अवसर पर परिकल्पन समूह और नुक्कड़ डॉट कॉम के सहयोग से किया गया .

                                                  संजीव तिवारी भी हुए सम्मानित
        मुख्य-अतिथि डॉ.पोखरियाल ने सम्मेलन में सम्मानित  देश-विदेश के सभी हिन्दी ब्लॉगरों को बधाई और शुभकामनाएं दी .  उन्होंने कहा कि आधुनिक सूचना -विज्ञान की इस महत्वपूर्ण तकनीक से जहां दुनिया के सभी देशों के नागरिकों को विचार-अभिव्यक्ति का एक नया औजार मिला है, वहीं इसके जरिये लोग अपने-अपने राष्ट्रों के सामाजिक -सांस्कृतिक विषयों और  उनकी विशेषताओं से भी एक-दूसरे को परिचित करा रहे हैं .
            लोकप्रिय ब्लॉग 'नुक्कड़ ' में प्रकाशित एक खबर के अनुसार  मुख्यमंत्री डॉ. पोखरियाल ने कहा कि हिंदी साहित्य निकेतन, परिकल्पन डॉट कॉम और नुक्कड़ डॉट कॉम की इस गंगोत्री में आया हूं। एक ओर 50 बरसों की सुखद विकास यात्रा को तय करने वाला देश का विशिष्ट प्रकाशन संस्थान है तो दूसरी तरफ हिन्दी ब्लॉगिंग में सिरमौर रवीन्द्र प्रभात और अविनाश वाचस्पति का सामूहिक श्रम। हिंदी भाषा जब चहुं ओर से तमाम थपेड़े खा रही हो, अपने ही घर में अपमानित हो रही हो और हिंदी में सृजन करने वाला अपने आप को उपेक्षित महसूस कर रहा हो, ऐसे में इस प्रकार के कार्यक्रम की प्रासंगिकता और बढ़ जाती है। कहा गया है कि कल्पना स्वर्ग की तरंगों का अहसास कराती है, वहीं सृजन हमारे सामाजिक सरोकार को मजबूती देता है। आप सभी देश के विभिन्न हिस्सों से आए हैं और अभिव्यक्ति के नए माध्यम ब्लॉगिंग को नई तेज धार देने में जुटे हुए हैं। आप सभी का देवभूमि उत्तराखंड में स्वागत है। आप को मेरे सहयोग की जैसी भी आवश्यकता हो, हम सदैव तत्पर रहेंगे क्यों कि देश की संस्कृति का केन्द्र है उत्तराखंड और मैं चाहूंगा कि आप सबके सहयोग से वह विश्व पटल पर हिन्दी का एक सशक्त केन्द्र भी हो जाए।

4 comments:

  1. शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  2. मेरे लिए इन पांचों महानुभावों का कद इस सम्मान से कहीं ज्यादा बड़ा है ! विनम्रतापूर्वक इसे स्वीकार कर इन्होने इस सम्मान को सम्मानित किया है ! इन सब के यशस्वी जीवन की कामना सहित !

    ReplyDelete
  3. सभी पुरस्‍कृतों को हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete