Sunday 23 January 2011

गाँव की याद !

                                                                                                            स्वराज्य करुण
                                                                   
                                  नीला  पर्वत ,निर्मल नदिया और यह  तालाब
                                  लगता जैसे दिन में  भी  कोई सुंदर ख्वाब !
                                  सौ -सौ जनम इस धरती पर रहे सदा आबाद
                                  एक अनोखा सुख देती है  हमको इसकी याद !

                                                            सबके सिर पर हाथ फेरती अमराई की छाँव
                                                            राहगीर की थकी राह पर यह शीतल ठहराव !
                                                            खेतों से बहती हवा में जीवन का सन्देश
                                                             भारत मेरा रहे हमेशा गाँवों का ही देश    !                           
                                                                      
                                 तुझसे तो बिछुड़कर रहना बहुत मुश्किल है
                                  बिछुडन का दर्द भी सहना बहुत मुश्किल है !
                                  मिल जाए चाहे मुझे  कितनी भी यातना
                                  आह तक होठों से कहना बहुत मुश्किल है !

                                                        मेरे गाँव ! मै तुझसे न दूर रह पाऊंगा
                                                       माटी यह मुझे खींच लाती है बार-बार !
                                                       जाने किस युग  का नाता  है तेरी गलियों से ,
                                                       जिनसे अलग होने से मन करता है इनकार !

                                  जब भी मैं  तुझसे दूर कहीं जाता हूँ
                                   तेरी ये धूल भरी राह मुझे पुकारती है ,
                                   फसलों को चूमकर जब लौटती  हवा
                                    ममता की बांहों में  बच्चों सा दुलारती है !

                                                           तेरे ही आँचल के बरगद की छांह में,
                                                          झूलने को मन कितना आतुर हो जाता है ,
                                                          मैं पूछता हूँ जिंदगी के निर्माता से
                                                           बचपन क्यों पल भर में दूर हो जाता है !

                                       राह चलती बैलगाडियों में जा बैठना ,
                                       पोखरों में भीतर और भीतर तक पैठना !
                                       कभी झूमना  आम से लदी डालियों में ,
                                       कभी घूमना  सरसों की सोन -बालियों में   !
                                                            
                                                                 दूर तुझसे रह कर जीना बहुत कठिन है
                                                                 शहर का  जीवन  सच  बोझिल प्रतिदिन है  ,
                                                                 नीरस ,अशांत ,किसी मशीन की तरह ,
                                                                 बेस्वाद , बेमजा  नमकीन की तरह !

                                      गाँव तेरे आँगन  में  भरता जो  बाज़ार है,
                                      उससे भी जाने किस जनम का मुझे प्यार है!
                                     मेरे प्राणों के पंछी का घर है तेरे पेड़ पर ,
                                     तेरी ही  बांहों मुझे मर जाना स्वीकार है !

                                                                एक अनजाना रिश्ता है तुझसे मेरा ,
                                                                एक अंतहीन तुझमें आकर्षण है ,
                                                                हर जनम तेरी  ही गोद मुझको मिले,
                                                                जैसा इस जनम में पाया यह जीवन है ! 

                                                                                                -स्वराज्य करुण                         
            

7 comments:

  1. गाँव तेरे आँगन में भरता जो बाज़ार है,
    उससे भी जाने किस जनम का मुझे प्यार है!
    सुन्दर भाव !

    ReplyDelete
  2. सहेजे जाने वाले अनमोल भाव.

    ReplyDelete
  3. बह्ह्ह्ह्हुत ही सुंदर कविता।
    कवित्त गागर में गाँव समा गया।

    आभार

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ...गाँव का दृश्य आँखों के सामने आ गया ...

    ReplyDelete
  5. एक अनजाना रिश्ता है तुझसे मेरा , एक अंतहीन तुझमें आकर्षण है ,
    हर जनम तेरी ही गोद मुझको मिले,
    जैसा इस जनम में पाया यह जीवन है !
    आपकी रचना ने अपने गाँव की याद दिला दी। सच मे गांम जैसा सुम्न्दर सहज जीवन कहाँ। बधाई इस सुन्दर रचना के लिये।

    ReplyDelete
  6. एक अनजाना रिश्ता है तुझसे मेरा ,
    एक अंतहीन तुझमें आकर्षण है ,
    हर जनम तेरी ही गोद मुझको मिले,
    जैसा इस जनम में पाया यह जीवन है
    भावनाओं में पगी कविता

    ReplyDelete
  7. प्राकृतिक सौन्दर्य से लबरेज़ चिंतनपरक अच्छी रचना.

    ReplyDelete