Saturday 22 January 2011

(कविता ) सूरज उगेगा परदे के पीछे !

                     
                                                         दरख्तों पर
                                                         अब नहीं
                                                         गाएगी कोई चिड़िया ,
                                                         इस वीरान पेड़ पर
                                                         बैठना मना है,
                                                         गाने का तो सवाल ही नहीं उठता /
                                                         पहाड़ की बांहों से
                                                         अंकुरित होकर
                                                         बेहद खामोशी से
                                                         बहने लगेगा झरना ,
                                                         तरंगित नहीं होंगी  नदियाँ ,
                                                         इस जंगल में संगीत प्रतिबंधित है /
                                                         भौंरे नहीं गुनगुनाएंगे और
                                                         तितलियाँ नहीं कर पाएंगी
                                                         फूलों से मासूम  मुलाक़ात,
                                                          इस फुलवारी में  प्रवेश वर्जित है /
                                                          सूरज उगेगा ज़रूर ,
                                                          लेकिन परदे के पीछे ,
                                                          क्योंकि रौशनी के नाम है वारंट और
                                                          उसे ढूंढ रहे हैं -अँधेरे के सिपाही /
                                                          हम कैसे जान सकेंगे
                                                          कि हो गयी है सुबह ,
                                                          जबकि चिड़ियों ने चहकना और
                                                          फूलों ने महकना बंद कर दिया है /
                                                          कौन हमें बताएगा कि
                                                          हो गया है सवेरा  ?
                                                           सामने तो सिवाय
                                                           एक अपरिचित सन्नाटे  के
                                                           और कोई भी नहीं है !
                                                                                           -  स्वराज्य करुण               

4 comments:

  1. @रौशनी के नाम है वारंट और
    उसे ढूंढ रहे हैं -अँधेरे के सिपाही.

    वाह वाह कमाल हो गया, गजब का बिंब है।
    आभार

    ReplyDelete
  2. क्‍या खूब बात बनी है. आपकी ऐसी ही रचनाओं के लिए यहां बार-बार आना चाहता हूं.

    ReplyDelete
  3. प्रकृति के बिम्ब लिए सुंदर अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete