Thursday, January 20, 2011

(गज़ल ) कहाँ गयी वह खुली किताब !

                                                                                     -  स्वराज्य करुण
                               
                                            कहते थे जो अपने जीवन को खुली किताब,
                                            कुर्सियों पर बैठ कर  सब हो गए  बेजवाब  !

                                            हर किसी का  बार-बार अब  उनसे यही सवाल,
                                            देश की दौलत  लूटने वाले  क्या  होंगे बेनकाब !

                                             इन्साफ  के मंदिर से  उनको हुआ है यह आदेश,
                                             जनता के दरबार में  जाकर  रख दो हर  हिसाब !
                            
                                              नाम चोरों का  बतलाने में  क्यों  इतना   संकोच ,
                                              शायद उनकी सूची में हैं उन जैसे कई नवाब !

                                               मर जाए यहाँ भूख से कोई या फिर  बेइलाज ,
                                               उनको तो हर शाम चाहिए  उम्दा  नयी शराब  !
                              
                                                जिनके जूतों से   कुचलकर मर गयी मानवता ,
                                                उनसे कुछ उम्मीद भी  करना है इक झूठा ख्वाब !

                                                 आज़ादी की इस नदिया में नहीं बूँद भर पानी ,
                                                 ऐसे में यहाँ आए कैसे  कोई जन-सैलाब !

                                                  पत्थर  लेकर दौड़ाएंगे जब उनको हम लोग ,
                                                  शायद उस दिन आ पाएगा कोई इन्कलाब  !

                                                                                           - स्वराज्य करुण            

7 comments:

  1. वो सुबह कभी तो आएगी
    वो दिन कभी तो आएगा

    प्रती्क्षा में

    ललित शर्मा

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर गज़ल .....

    ReplyDelete
  3. क्‍या करने वाले हैं आप.

    ReplyDelete
  4. बहुत विचारणीय विषय उठाया है आपने .

    ReplyDelete
  5. पत्थर लेकर दौड़ाएंगे जब उनको हम लोग ,
    शायद उस दिन आ पाएगा कोई इन्कलाब !


    काश वो दिन जल्दी आये..

    ReplyDelete
  6. विचारोत्तेजक! बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    राजभाषा हिन्दी
    विचार

    ReplyDelete