Tuesday 4 January 2011

(गीत) अभी नहीं आएँगे !

                                       
                                            ऐसा भी नहीं है कि कभी नहीं आएँगे ,
                                            लेकिन यह सच है कि अभी नहीं आएँगे !
                                                                        अच्छे दिन अभी नहीं आएँगे !

                                              अभी तो है आग में  झुलसने के दिन ,
                                              अभी तो हैं अभावों में  तरसने के दिन !
                                              सुबह-शाम व्यथाओं में जलने के दिन ,
                                              ज़मींदोज़ सपनों में पलने के दिन !
                           
                                      एक-एक कर आएँगे , सभी नहीं आएँगे ,
                                      लेकिन यह सच है कि  अभी नहीं आएँगे !
                                                                    अच्छे दिन अभी नहीं आएँगे !

                                            रोटी का महा-समर अभी और चलेगा ,
                                            दर्द का यह धूमकेतु अभी नहीं ढलेगा !
                                            माटी की उष्मा से जब तक न तपेगा ,
                                            पेड़ कोई तब तक न फूलेगा -फलेगा !
                
                                  शाखों पर  बादलों की तरह नहीं छाएंगे ,
                                  लेकिन यह सच है कि अभी नहीं आएँगे !
                                                                    अच्छे दिन अभी नहीं आएँगे !
                                                                        
                                                                                   - स्वराज्य करुण

7 comments:

  1. आग में तप कर सोना कुंदन होगा।
    माथे की शोभा बनकर चन्दन होगा ।


    पुरुषार्थी पाषाण पर पुष्प खिलाएगें
    वो दिन भी कभी तो आएगें।

    ReplyDelete
  2. क्या बात है इतनी मायूसी क्यों?

    ReplyDelete
  3. अगल-बगल की मस्‍ती और उल्‍लास देख कर तो यही लगता है कि अच्‍छे दिन आ गए हैं.

    ReplyDelete
  4. आपके पिछले कुछ आलेखों से , तो अच्छे दिन आ चुके जैसा लगा था :)

    ReplyDelete
  5. ओह्ह इतनी मायूसी क्यू जनाब , उम्मीद है जल्दी ही छट जाएगी , सुन्दर अभिव्यक्ति .

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर रचना.. मायूसी का भी एक अपना स्थान होता है... आपने अपनी इस कविता में बाखूबी दर्शाया है...

    ReplyDelete