Saturday 1 January 2011

(गीत) समय का सूरज !

                                    
                                     
                                          नहीं रुका है, नहीं रुकेगा ,सदा ही बढ़ता जाएगा ,
                                          संघर्षों की पहाडियों पर  सदा ही चढता जाएगा  !

                                             जलते रेगिस्तानों में भी चलते जाना काम है इसका
                                             अंधियारे में दीपक बन कर जलते जाना काम है इसका !
                                             साथी ये है समय का सूरज ,पथ इसका गतिमान है रहता ,
                                             उगना पूरब में , पश्चिम में ढलते जाना काम है इसका !

                                         लड़ता ही रहा है बाधाओं से , सदा ही लड़ता जाएगा 
                                         नहीं रुका है, नहीं रुकेगा , सदा ही बढता जाएगा !

                                                  सदियाँ बीती ,युग बीते हैं , जाने कितने दिन बीतेंगे ,
                                                  तभी मिलेगी मंजिल  अपनी , हर हाल में जिसे जीतेंगे !
                                                  जाने कितने नए साल तब खुशियाँ ले कर आएँगे ,
                                                   जन-जन के आकाशी -मन में नयी सुबह बन छाएंगे !

                                   दिन का नया प्रकाश तब  अमावस को हरता जाएगा ,
                                   नहीं रुका है ,नहीं रुकेगा ,सदा ही बढ़ता जाएगा !

                                                                                               -- स्वराज्य करुण

1 comment:

  1. हमारी आशाओं का प्रतीक है, समय का सूरज. नया साल मुबारक.

    ReplyDelete