Sunday, December 26, 2010

(गज़ल ) बच्चों की मुस्कान में !

                             
                                              खुशनुमा  सुबह, हसीन शाम   बच्चों की मुस्कान में,
                                              अमन का, प्यार का पैगाम बच्चों की मुस्कान में !

                                               मंदिर-मस्जिद कहाँ -कहाँ  खोजोगे  भगवान को ,
                                               घर  में  सारे  तीरथ  धाम बच्चों की मुस्कान में !

                                                नदी के निर्मल पानी जैसी बहती  कल-कल धाराएं    
                                                कभी नमस्ते ,कभी सलाम बच्चों की मुस्कान में !
           
                                                 चाँद दूज का  आकर  जब  नील-गगन में  मुस्काए,
                                                 तब दिखें  कृष्ण - बलराम  बच्चों की मुस्कान में !
                        
                                                कभी बरसता  रिमझिम  सावन  भोली आँखों से ,
                                                कभी जाड़ में  गुनगुन घाम  बच्चों की मुस्कान में !

                                                खुदगर्जों की बस्ती में  यारों  घूम रहे हैं लाखों बेघर ,
                                                जीवन का है सच  संग्राम  बच्चों की मुस्कान में   !

                                               छल-कपट के   खौफनाक  अंधियारे में डूबी   दुनिया में
                                               नादान  नन्हीं किरण का नाम  बच्चों की मुस्कान में !

                                                                                                      -  स्वराज्य करुण                              

13 comments:

  1. बच्चों की निश्चल मुस्कान में भगवान के दर्शन होते हैं।
    सुबह उठने पर कोई हंसता मुस्कुराता बाल भगवान दिख जाए तो सारा दिन खुशनुमा हो जाता है।

    सुंदर गजल के लिए आभार

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर गज़ल ....सच ही बच्चों की मुस्कान निश्छल होती है ..


    यहाँ आपका स्वागत है

    गुननाम

    ReplyDelete
  3. बच्चों की मुस्कान में vakai maan ko shanti parivaar ko shanti aur pure desh ko shanti. bahut badiya karun sir

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर गज़ल …………बच्चो की मुस्कान सा निश्छल तोकुछ भी नही है जहाँ मे।

    ReplyDelete
  5. ''कभी बरसता रिमझिम सावन भोली आँखों से ,
    कभी जाड़ में गुनगुन घाम बच्चों की मुस्कान में !''
    भाषा प्रयोग बहुत ही आकर्षक.

    ReplyDelete
  6. अति सुन्दर भावपूर्ण रचना....!

    ReplyDelete
  7. बच्चों की मुस्कान का दिलचस्प प्रयोग !

    ReplyDelete
  8. घर में सारे तीरथ धाम बच्चों की मुस्कान में !
    सहज सुन्दर तथ्य!!!

    ReplyDelete
  9. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना कल मंगलवार 28 -12 -2010
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  10. सुन्दर गज़ल …

    ReplyDelete
  11. भावपूर्ण खू्बसू्रत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  12. उस खुदा का नूर है बच्चों की निश्छल मुस्कान में ...!
    भावपूर्ण अभिव्यक्ति..!

    ReplyDelete