Wednesday 26 October 2011

(ग़ज़ल ) इन दीपों की आँखों से देखिए !

                                                     

                                                  फूलों सी  नाज़ुक छुअन  हो  पत्थर के लिए,
                                                  रौशनी हो  गाँव  -गली ,  शहर के लिए  !

                                                   जलते हुए  इन दीपों  की आँखों से देखिए ,
                                                   बेचैन हैं  जो प्यार भरी  नज़र के लिए !

                                                   सुबह-शाम यही चाहत मिल जाए कोई अपना,
                                                   दो पल की हो फुरसत  कभी दोपहर के लिए !
                         
                                                   मिटने लगी जमीन  कारखानों की आग में  ,
                                                   तरसते हैं मेहनतकश  अपने घर के लिए !
                                
                                                   पसीने  से उगाई जो  फसल , ले गया कोई ,
                                                   कयामत का  सैलाब था  उस  लहर के लिए !
                           
                                                   अमृत भी सूख गया  कहर  से महंगाई के ,
                                                   लगी है  लाइन सस्ते किसी ज़हर के लिए !

                                                   आओ  मिलकर बदलें यह बेदर्द नज़ारा  ,
                                                   बनाएँ इक दुनिया हसीन मंज़र के लिए !
                                                                                       
                                                                                               --  स्वराज्य करुण





चित्र  :  google image से साभार                                                                           

12 comments:

  1. बहुत बढिया संदेश देती रचना ..
    .. आपको दीपपर्व की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  2. आपको, परिजनों तथा मित्रों सहित दीपावली पर मंगलकामनायें! ईश्वर की कृपा आप पर बनी रहे।

    ********************
    साल की सबसे अंधेरी रात में*
    दीप इक जलता हुआ बस हाथ में
    लेकर चलें करने धरा ज्योतिर्मयी

    बन्द कर खाते बुरी बातों के हम
    भूल कर के घाव उन घातों के हम
    समझें सभी तकरार को बीती हुई

    कड़वाहटों को छोड़ कर पीछे कहीं
    अपना-पराया भूल कर झगडे सभी
    प्रेम की गढ लें इमारत इक नई
    ********************

    ReplyDelete
  3. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति…………दीप मोहब्बत का जलाओ तो कोई बात बने
    नफ़रतों को दिल से मिटाओ तो कोई बात बने
    हर चेहरे पर तबस्सुम खिलाओ तो कोई बात बने
    हर पेट मे अनाज पहुँचाओ तो कोई बात बने
    भ्रष्टाचार आतंक से आज़ाद कराओ तो कोई बात बने
    प्रेम सौहार्द भरा हिन्दुस्तान फिर से बनाओ तो कोई बात बने
    इस दीवाली प्रीत के दीप जलाओ तो कोई बात बने

    आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  5. अमृत भी सूख गया महंगाई के कहर से

    लगी है लाइन सस्ते किसी ज़हर के लिए !
    आह!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर!
    आपको और आपके पूरे परिवार को
    दीपावली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  7. दीपावली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  8. रचना अच्छी लगी । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है ।

    ReplyDelete
  9. आओ मिल कर बदलें यह बेदर्द नज़ारा ,
    बनाएँ इक दुनिया हसीन मंज़र के लिए !

    एकदम सही बात लिखी गई है
    पूरे देशवासियों को जुटना होगा
    देश मे लाने के लिये "हसीन मंजर"
    कोई भोंक न पाये किसी के पेट मे खंजर
    आओ मिल कर बदलें यह बेदर्द नज़ारा ,
    "दीपोत्सव के चौथे दिन "अन्न-कूट गोवर्धन पूजा" की बहुत बहुत बधाई…।

    ReplyDelete
  10. आओ मिलकर बदलें यह बेदर्द नज़ारा ,
    बनाएँ इक दुनिया हसीन मंज़र के लिए ! very nice...

    ReplyDelete
  11. आप को भी दीपों के इस पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामनायें।

    *दीवाली *गोवर्धनपूजा *भाईदूज *बधाइयां ! मंगलकामनाएं !

    ईश्वर ; आपको तथा आपके परिवारजनों को ,तथा मित्रों को ढेर सारी खुशियाँ दे.

    माता लक्ष्मी , आपको धन-धान्य से खुश रखे .

    यही मंगलकामना मैं और मेरा परिवार आपके लिए करता है!!

    ReplyDelete