Tuesday, October 25, 2011

(गीत ) तुम बिन दीप जलाऊँ कैसे ?

                                                                                     
      
                                       
                                        तुम बिन  दीप जलाऊँ कैसे , कह दो मेरे प्रियतम कह दो !
                                                  
                                                       मुश्किल है सच  दर्द भरे
                                                       अहसासों का वर्णन करना ,
                                                       ज्यों  पूनम की चाँदनी को
                                                       प्रेम-गीत का अर्पण करना !
                                   
                                      इस जीवन को नील गगन में बिन बादल का मौसम कह दो !          
                                                    
                                                       बिन तुम्हारे मुझे हर सपना
                                                        घर से हरदम बेघर लगता है ,
                                                        तुम बिन मेरा चित्र अधूरा ,
                                                        इसीलिए तो डर लगता है !
                                 
                                 चाहत के अधूरे चाँद को भी तुम चाहो तो पूनम कह दो  !  
                                                     
                                                       और कितना इंतज़ार  यहाँ                         
                                                       धीरज ही जब ऊब गया ,
                                                       सांझ सिंदूरी का क्या होगा ,
                                                        सूरज ही जब डूब गया !
                                
                                     स्याह रात में झींगुरों की आवाजों को  सरगम कह दो !
                                                   
                                                      किरण सुबह की बिना तुम्हारे 
                                                      जाने क्यों नहीं भाती है
                                                      उजियारे से निष्कासित यह
                                                      जीवन दिया बाती है  !
                              
                               मुझे तो लगता हर पल शोला  ,तुम चाहो तो शबनम कह दो !
                                                                                         
                                                                                         -  स्वराज्य करुण
                                                         

  ( चित्र  : google से साभार )                                                                                     

15 comments:

  1. प्रात:वेला में खुबसूरत गीत पढने मिला।

    दीप पर्व की हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  2. बहुत ही भावपूर्ण रचना..... happy diwali...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति |

    दिवाली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  4. दीप जला दें, वांछित का आगमन हो जाएगा.

    ReplyDelete
  5. दीप जला, प्रकाश हुआ और वे आये! शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  6. मन की अभिलाशा पूर्ण हो।आपको भी सपरिवार दीपावली की हार्दिक मंगल कामनायें।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भाव्………………दीपावली पर्व अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. अभीष्ट सिद्ध हो!
    सुन्दर अभिव्यक्ति...
    शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  9. आप को भी परिवार समेत दीवाली की शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  10. चर्चा मंच परिवार की ओर से दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    आइए आप भी हमारे साथ आज के चर्चा मंच पर दीपावली मनाइए!

    ReplyDelete
  11. ज्योति पर्व की बहुत -२ बधाईयाँ , सुन्दरसृजन को , सम्मान ....मंगलमय हो दीपावली ../

    ReplyDelete
  12. दीप पर्व आपको सपरिवार शुभ हो !

    कल 03/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete