Monday 24 October 2011

हम सबकी यही सिफारिश !

                                                चाहे विदेशी  बैंकों में हों ,
                                                चाहे देश के भीतर ,
                                                 काले धन के धंधेबाज
                                                कब होंगे तितर-बितर ?

                                               धनतेरस में धन के  देवता,
                                               तुमसे यही गुजारिश ,
                                               काला धन वापस आ जाए ,
                                               हम सबकी यही  सिफारिश  !

                                               दो नम्बर की दौलत बोलो 
                                               कैसे नम्बर एक बने ,
                                               नीयत कैसे बदले उनकी
                                               कैसे ये सब नेक बनें ?
                       
                                               उजाड़ कर गरीबों का घर
                                               जो बनाएँ अपनी हवेली ,
                                               कुछ न बिगड़ता उनका ,
                                               जाने ये कैसी है पहेली ?

                                               लूट रहे जो यहाँ देश को  
                                               मान के घर की खेती ,
                                               समझाओ उनको जो  भरते
                                               हर दिन अपनी पेटी !

                                               धनतेरस में धन के  देवता
                                               दे दो उनको सदबुद्धि ,
                                               देश हित में काम करें
                                              आचरण में आए शुद्धि !
                                                    
                                                                     - स्वराज्य करुण

7 comments:

  1. धनतेरस के देवता से तो यही प्रार्थना होगी कि वंचितों पर भी धन बरसाएं.

    ReplyDelete
  2. कल के चर्चा मंच पर, लिंको की है धूम।
    अपने चिट्ठे के लिए, उपवन में लो घूम।।
    --
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. हे धन के देवता! कुछ धन इधर भी बरसाओ।
    सूखी पड़ी है खेती, तनिक उसे भी सरसाओ॥

    दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं
    मातर की शुभकामनाएं, मातने के बाद मिलेगीं।:)

    ReplyDelete
  4. दीवाली मनाओ-बेटी बचाओ.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  5. सटीक और सार्थक आलेख ..
    .. आपको भी दीपावली की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  6. bahut saarthak sateek likha hai.happy diwali.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर रचना
    आपको दीप पर्व की सपरिवार सादर बधाईयाँ....

    ReplyDelete