Friday, June 17, 2011

(कविता ) सवालों की बौछार लिए आ गया आषाढ़ !

                                                                               -  स्वराज्य करुण
                                               बच गए जो
                                               हैवानों की बुरी  नज़रों से 
                                               झूम उठे वो रहे-सहे जंगल ,
                                               गूँज उठे वो बचे-खुचे पहाड़ !
                                               आशाओं के घने बादलों के साथ 
                                               सवालों की बौछार  लिए  
                                               इस बार भी आ गया  आषाढ़  !

                                               होते अगर आज 
                                               कलि-युग में कालीदास ,
                                               उनका 'मेघदूत' पूछता ज़रूर उनसे-
                                               महाकवि ! अब मै क्या देखूं -
                                               किसान को अपनी धरती पर 
                                               विवशता की कहानी लिखते देखूं ?
                                               भू-माफिया के हाथों उसके  खेतों को
                                               यूं ही  बिकते देखूं ? 

                                                बारिश में उजड़ते परिदों को देखूं ,
                                                या उन पर बरसते दरिंदों को देखूं  ?
                                                अस्पताल के द्वार पर
                                                लावारिस मुर्दों को देखूं ,
                                                या  मुर्दों में तब्दील होते
                                                लाचार-गरीब जिन्दों को देखूं  ?
                                                 
                                                अपनी आँखों के आगे 
                                                रहस्य भरी ये पहेली देखूं
                                                रिश्वतबाज  -आदमखोरों  की
                                                कैसे बनी  हवेली देखूं  ? 
                                                काले धन के काले बादल 
                                                जहां बरसते हर मौसम में ,
                                                वहाँ क्या  कुदरत के
                                                आषाढ़-सावन को देखूं ,
                                                या सोने की  सल्तनत के रावण को देखूं  ?
                              
                                             
                                                 घिर जाते अगर  महाकवि 
                                                 मेघदूत के सवालों से  ,
                                                 सचमुच बेज़वाब हो जाते ,
                                                 उम्मीदों  में  आए सपने ,
                                                 सबके सब फिर ख्वाब हो जाते  !
                                                                        
                                                                                         -  स्वराज्य करुण


                                                                                                            

8 comments:

  1. अच्छी अभिव्यक्ति ... ऐसे प्रश्न जिनका जवाब भी नहीं मिलेगा

    ReplyDelete
  2. आपकी रचना यहां भ्रमण पर है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है
    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. आपकी यह उत्कृष्ट प्रविष्टी कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी है!

    ReplyDelete
  4. sach me kya chitra prastut kiya hai
    aabhaar abhinandan

    ReplyDelete
  5. सवालों की बौछार लिए
    इस बार भी आ गया आषाढ़ !
    ye to hona hi hai.sundar prastuti.

    ReplyDelete
  6. स्पष्ट मुखर लेखन का शुक्रिया , सुंदर अभिव्यक्ति प्रशंसनीय है /

    ReplyDelete
  7. एक सवाल पूछना तो रह ग्या कि क्या करोडों का धन कमाने वाले आज के संतों को देखूँ। सवाल जायज हैं लेकिन अनुत्तरित ही रह जाते हैं। अच्छी रचना के लिये बधाई।

    ReplyDelete