Sunday, June 5, 2011

अंतिम विजय 'राम' की होगी !

                                 
                                                                             --  स्वराज्य करुण

                                    राम तो हर युग में
                                    शाश्वत और अजर-अमर हैं
                                    लेकिन रावण का पुनर्जन्म
                                    लगता है इस घोर
                                    कलियुग का असर है /
                             
                                    भारत माता के धन-वैभव की
                                    सीता का अपहरण कर
                                    स्विस -बैंकों के सोने की लंका में
                                    कैद कर लिया जिसने
                                     देश की संसद में
                                    अट्टहास करता है
                                    आज का वह रावण ,
                                    तभी तो अब हर दिन आँसू
                                    बहाती है मेरे देश की धरती पावन /

                                    बर्दाश्त नहीं हुई जब
                                    जननी -जन्म -भूमि की वेदना
                                    राम के साथ जाग उठी लाखों -लाख
                                    भारतवासियों की संवेदना /
                                    सहा नहीं गया जब
                                    स्विस-बैंक में बंधक
                                    सीता का क्रन्दन
                                    राम की सेना में शामिल हुआ
                                     देश का जन-जन /
                
                                    आज का रावण चूंकि लंका में नहीं
                                    दिल्ली में राज करता है ,
                                    इसलिए उसके खिलाफ राम-भक्तों का
                                    गुस्सा वहाँ की सड़कों पर
                                    हुंकार भरता है /
                              
                          
                                   रामलीला के मैदान में
                                   उस दिन भी यह कोई
                                   नाटक नहीं था ,सच्चाई थी
                                   रावणों से देश को बचाओ ,
                                   सीता को स्विस-बैंक  की
                                   जंजीरों से छुड़ाओ ,
                                   आवाज़ यह देश के
                                    कोने-कोने से आयी थी /
                                   राम और रावण के बीच
                                   यह एक और बड़ी लड़ाई थी /
                             
                                  राम की निहत्थी सेना
                                  सत्य ,अहिंसा और नैतिकता के
                                  हथियारों से सुसज्जित थी ,
                                  जबकि रावण की सेना के
                                   कायरता पूर्ण हमलों से
                                   मानवता लज्जित थी /

                                   रामदेव को और राम के देवों को
                                   रावण और रावण के दानवों ने
                                   कर लिया गिरफ्तार रातों-रात ,
                                   देश की इज्जत पर किया
                                   बेरहमी से बार-बार आघात /
                                  
                                    दिल्ली के सिंहासन का
                                    सुख भोग रहे रावण
                                    सत्ता के नशे में शायद
                                    यह भूल गए कि यह राम का देश है /
                                    सीता मैय्या की मुक्ति के लिए
                                    प्राण देने को तत्पर
                                    यहाँ राम की सेना अनंत और अशेष है /
                                  
                                     कलियुग के रावणों !
                                     याद नहीं त्रेता युग का 
                                     अपना इतिहास
                                     तो पढ़ लो ध्यान से फिर एक बार /
                                     चाहे जितना भी कर लो जोर-ज़ुल्म  ,
                                      तुम हारोगे बार-बार  /
                                      फिर तुम्हारी यह सोने की लंका
                                      किस काम की होगी  ?
                                      अंतिम विजय तो राम की होगी  !
                                                                         स्वराज्य करुण
                                                            

                                                  (तस्वीर google से साभार )
                           

4 comments:

  1. जो इतिहास से सबक नहीं लेते वे मुर्ख ही होते हैं।

    ReplyDelete
  2. यस्य नास्ति स्वयं प्रज्ञा शास्त्रं तस्य करोति किम्।
    लोचनाभ्याम् विहीनस्य दर्पण: किम करिष्यति।।

    ReplyDelete
  3. इतिहास अपने को दोहराता है ..शायद अब समय आ गया है दोहराने का ..

    ReplyDelete